Inflation-in-India |महंगाई दर बढ़ने पर आम आदमी पर क्या होगा असर

6

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

हर्रैया टाइम्स

देश में लगातार महंगाई बढ़ती जा रही है। ओमिक्रोन और कोरोना के संकट के बीच महंगाई भी देश की जनता की कमर तोड़ रही है। बता दें, थोक महंगाई दर ने पिछले 12 सालो का रिकॉर्ड तोड़ दिया है। थोक महंगाई दर 14.23 फीसदी पर पहुंच गई है। महंगाई लगातार आठवें महीने चढ़ी है और यह 10 प्रतिशत से ऊपर है। थोक महंगाई दर बढ़ने का मतलब ये है कि लागत बढ़ गई है और जिसकी मार आखिरकार जनता पर पड़नी तय है। अब तक जो महंगाई आम जनता की जेब पर चुभ रही थी अब वही महंगाई आंकड़ों में दिखाई देनी शुरू हो गई है। अब सवाल है कि लगातार महंगाई में जिंदगी कैसे चले?

आपको बता दें बीते साल 2020 में महंगाई की दर 4.91 फीसदी थी। वही, इस साल महंगाई दर 14.23 फीसदी पर पहुंच गई है। सरकार के अनुसार, इसके पीछे खाद्य महंगाई दर, रसायन के अलावा खनिज तेलों, धातुओं, कच्चे तेल और प्राकृतिक गैस की कीमतों से आया उछाल है। तेल की मार इकॉनोमी पर है पर एक चौंकाने वाला आंकड़ा आया है। सरकार ने पेट्रोल और डीजल पर टैक्स लगाकर पिछले तीन साल में 8 लाख करोड़ रुपये कमाए हैं। करीब-करीब आधा तो सरकार ने पिछले एक साल में कमाया है। सिर्फ वित्त वर्ष 2021 में सरकार ने 3.71 लाख करोड़ टैक्स से जुटाए हैं।

Get real time updates directly on you device, subscribe now.