UP Election 2022: यूपी में जातियों और लाभार्थियों के बीच होगा चुनावी घमासान

12

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

UP Election 2022: There will be a tussle between castes and beneficiaries in UP

बस्ती. इस बार का उत्तर प्रदेश में विधानसभा चुनाव जातियों और लाभार्थियों के बीच लड़ा जाएगा. भाजपा ने जिस तरह से प्रधानमंत्री आवास, मुख्यमंत्री आवास, शौचालय, मुफ्त राशन, किसान सम्मान निधि जैसे लाभों से जनता को उपकृत किया है. वो इसके भरोसे चुनावी दंगल में उतरी है. जातीय समीकरणों की बात की जाए तो पार्टी इस पर अब ध्यान देकर अपने नुकसान की भरपाई करने की कोशिश करेगी.

समाजवादी पार्टी, बसपा और कांग्रेस सरकार को नाकामियों, अपराध, जातिवाद के नाम पर घेर रही है. मजे की बात इस बार चुनाव में  कोई भी विपक्षी दल सरकार पर सीधे तौर पर भ्रष्टाचार का आरोप नहीं लगा रहा है. जबकि स्थानीय तौर पर भाजपाई जनप्रतिनिधियों को इससे जूझना पड़ रहा है.

जातियों के खांचे में बंटे यूपी को इस बार भी जातिवाद से छुटकारा मिलता नहीं दिख रहा है. बसपा ने सबसे पहले टिकट देकर इस बात का खुलासा कर दिया है. बस्ती में ही उसने सभी वर्गों पर भरोसा कर सोशल इंजीनियरिंग के फार्मूले पर मुहर लगाई है. सपा भाजपा में सेंध लगाने में कामयाब होती दिख रही है. पिछड़ा, अगड़ा, दलित, मुस्लिम, अतिपिछड़ा, अतिदलित जैसे खांचों में बंटे उत्तर प्रदेश को विकास के रास्ते पर ले जाना किसी के लिए भी संभव नहीं दिख रहा है.

चुनाव से पहले ही सपा पश्चिम में रालोद और पूर्वांचल में ओमप्रकाश राजभर से गठबंधन कर चुकी है. स्वामी प्रसाद मौर्या, दारा सिंह चौहान जैसे अपने समाज में असर रखने वाले जातीय नेताओं को सपा अपने पाले में कर के संदेश दे चुकी है की इस बार भी चुनावी समर में जातिवाद से विकासवाद की लड़ाई लड़ी जाएगी.

सपा भाजपा के टिकट बंटवारे को गौर से देख रही है. भाजपा बदले रणनीति में अपने पुराने फार्मूले के आधार पर टिकट फाइनल करने पर विचार कर रही है. किसी भी तरह से सरकार बनाने के लिए त्रिकोणीय संघर्ष पर मुहर लगती दिख रही है. देखना दिलचस्प होगा की भाजपा सरकार द्वारा दिये गये लाभ चुनावों में असर डालते हैं या इस बार भी जातिवाद का कोढ़ चुनावों में हावी रहेगा.

Get real time updates directly on you device, subscribe now.