Basti news: अलग-अलग श्रेणियों की सूची में एक ही लाभार्थी का नाम शामिल

7

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

बस्ती  न्यूज़ डेस्क:  आयुष्मान भारत योजना में आंकड़ों का खेल चल रहा है. तीन अलग-अलग श्रेणियों की सूची में एक ही लाभार्थी का नाम शामिल होने से लाभार्थियों की संख्या अधिक दिखाई दे रही है, जबकि जमीनी हकीकत अलग है। अधिकारियों के आंकड़ों के इस खेल से जिले में गोल्डन कार्ड बनने का ग्राफ काफी कम है.

इस मामले में आयुष्मान योजना के नोडल डॉ. सीएल कन्नोजिया द्वारा सरकार को लिखे गए पत्र को भी जिम्मेदारियों से नजरअंदाज किया गया है. कार्ड बनाने में लगी टीम व अन्य कर्मियों को इसका खामियाजा भुगतना पड़ रहा है. डॉ. कन्नोजिया का कहना है कि आयुष्मान भारत प्रधानमंत्री जन आरोग्य योजना सितंबर 2018 में शुरू हुई थी। इस योजना से लाभान्वित होने वाले 146948 परिवारों की पहचान एसईसी-2011 के डेटाबेस से की गई थी। इसके बाद निर्धारित मानदण्डों को पूरा करने वाले तथा धारा 2011 से बाहर के 12166 परिवारों को मुख्यमंत्री जन आरोग्य योजना के अंतर्गत शामिल किया गया। इसके साथ ही जिले के 89038 अंत्योदय कार्ड धारक परिवारों और 27921 भवन एवं अन्य निर्माण श्रमिक परिवारों को भी मुख्यमंत्री जन आरोग्य योजना के तहत कवर किया गया है. इस तरह से जिले को कुल 272046 परिवारों का लक्ष्य दिया गया है. श्री कन्नोजिया ने कहा कि शिकायतें मिल रही हैं कि तीनों लाभार्थी श्रेणियों में एक ही परिवार का नाम अक्सर शामिल होता है. इससे जिले में गोल्डन कार्ड का टारगेट काफी ऊंचा दिखाई दे रहा है। दोहराव की भी संभावना है। इसी वजह से तमाम कोशिशों के बाद भी गोल्डन कार्ड बनाने में जिले की रैंकिंग में सुधार नहीं हो रहा है. इसका असर कार्ड बनाने के अभियान पर भी पड़ रहा है। आयुष्मान भारत प्रधानमंत्री जन आरोग्य योजना और मुख्यमंत्री जन आरोग्य योजना में शामिल परिवारों के नामों का मिलान कर नकल की समस्या का समाधान करना बेहद जरूरी है।

Get real time updates directly on you device, subscribe now.