Telangana Formation Day 2022 : तेलंगाना राज्य स्थापना दिवस पर उसके इतिहास और सांसकृति के बारे में जानिए

6

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

Telangana Formation Day 2022

भौगोलिक और राजनीतिक तौर पर तेलंगाना का जन्म 2 जून 2014 को भारत के 29वें और सबसे युवा राज्य के रूप में हुआ। हालांकि ऐतिहासिक, आर्थिक, सामाजिक और सांस्कृतिक तौर पर तेलंगाना का कम से कम दो हजार पांच सौ साल से भी अधिक पुराना और गौरवशाली इतिहास रहा है।

तेलंगाना के कई जिलों में केयर्न, सिस्ट, डोलमेन्स और मेनहिर जैसी मेगालिथिक पत्थर संरचनाएं पाई जाती है जो दर्शाती हैं कि हजारों साल पहले देश के इस हिस्से में मानव निवास था। कई स्थानों पर मिले लौह अयस्क गलाने के अवशेष तेलंगाना में कारीगरी और उपकरण बनाने की कम से कम दो हजार वर्षों से पुरानी जड़ों को प्रदर्शित करते हैं।

तेलंगाना अपनी अद्भुत कांस्य कास्टिंग के लिए दुनिया भर में प्रसिद्ध है जिसमें मूर्तियों को बनाने के लिए उत्कृष्ट कौशल की आवश्यकता होती है। निर्मल शहर उत्कृष्ट पारंपरिक तकनीकों का प्रयोग करके उत्कृष्ट कृतियों को बनाने और विभिन्न प्रकार के हस्तशिल्प के लिए पूरे विश्व में प्रसिद्ध है। तेलंगाना राज्य की अन्य प्रमुख कला निर्माण कार्यों में निजामाबाद पैनल, निर्मल पेंट फर्नीचर, डोकरा कास्टिंग, सिल्वर फिलिग्री, चेरियाल स्क्रॉल पेंटिंग, बिदरी शिल्प, पेम्बर्थी पीतल के बर्तन आदि भी शामिल हैं।  

तेलंगाना राज्य के चार चिन्ह तेलंगाना सरकार ने नए राज्य के लिए चार चिन्हों की घोषणा की जो इस प्रकार है।

  • • राज्य पक्षी: तेलंगाना का राज्य पक्षी पलपिट्टा है जिसे नीलकंठ (Indian roller or blue jay) भी कहा जाता है। यह मुख्य तौर पर उष्णकटिबन्धीय क्षेत्रों में पाया जाता है।
  • • राज्य पशु: तेलंगाना का राज्य पशु जिन्का है जिसे कृष्णमृग या काला हिरण भी कहा जाता है।
  • • राज्य पेड़ः तेलंगाना का राज्य पेड़ जम्मी चेट्टू (प्रोसोपिस सिनेरिया) है।
  • • राज्य फूल: तेलंगाना के राज्य फूल तांगेदु (टान्नर का कैसिया) है।

तेलंगाना के शैक्षिक संस्थान

  • • केंद्रीय विश्वविद्यालय- 3
  • • राज्य विश्वविद्यालय- 17
  • • इंजीनियरिंग कॉलेज (एआईसीटीई अनुमोदित)- 347
  • • औद्योगिक प्रशिक्षण संस्थान-280
  • • पॉलिटेक्निक संस्थान- 23

तेलंगाना का प्रोफ़ाइल

• राजधानी शहर: हैदराबाद

• क्षेत्रफल : 112,077 वर्ग। किमी.

• जिले : 33

• परिवार : 83.04 लाख

• जनसंख्या : 350.04 लाख

तेलंगाना की जनसांख्यिकी

• तेलंगाना की लगभग 70% आबादी 15-59 वर्ष के कामकाजी आयु वर्ग की है।

तेलंगाना की 35 मिलियन जनसंख्या मोरक्को की जनसंख्या के लगभग बराबर है। देश की कुल आबादी का लगभग 2.7% है।

पुरस्कार

तेलंगाना ने 12 ‘स्वच्छ सर्वेक्षण’ पुरस्कार को अपने नाम कियाः तेलंगाना राज्य स्वच्छ के मामले में सबसे अच्छा प्रदर्शन करने वाले राज्य में से एक है। आवास और शहरी मंत्रालय (एचओयूएचए) द्वारा राष्ट्रीय स्तर पर आयोजित स्वच्छता चुनौतियों और प्रतियोगिताओं की 12 श्रेणियों में विजेता है। राज्यों का मूल्यांकन ‘स्वच्छ सर्वेक्षण’ और ‘कचरा मुक्त शहर रेटिंग’ और ‘सफाईमित्र सुरक्षा चुनौती’ जैसी श्रेणियों के तहत किया गया था। इसका उद्देश्य समग्र स्वच्छता की स्थिति में सुधार करना और नागरिक जागरुकता बढ़ाना और 4,300 भारतीय शहरों और कस्बों में अपशिष्ट प्रबंधन के प्रति जुड़ाव को भी बढ़ाना है। स्वच्छ सर्वेक्षण-2021 और कचरा मुक्त शहर रेटिंग-2021 श्रेणियों के तहत जीएचएमसी को विजेता घोषित किया गया, वहीं करीमनगर नगर निगम ने सफाई मित्र सुरक्षा चुनौती के तहत अपनी जीत हासिल की।

तेलंगाना ने अपने नाम किया 12 राष्ट्रीय पंचायत पुरस्कारः केंद्रीय पंचायत राज मंत्रालय द्वारा घोषित राष्ट्रीय पंचायत पुरस्कार 2021 में तेलंगाना के पास 12 पुरस्कारों की एक समृद्ध दौड़ थी। इसका मूल्यांकन वर्ष 2019-20 था। दीनदयाल उपाध्याय पंचायत सशक्तिकरण पुरस्कार 2021 में नौ ग्राम पंचायतों, दो मंडल परिषदों और एक जिला परिषद ने विभिन्न श्रेणियों में पुरस्कार हासिल किए।

तेलंगाना की संस्कृति

तेलंगाना राज्य लंबे समय से कई विविध भाषाओं और संस्कृतियों का मिलन स्थल रहा है। यह भारत की मिश्रित संस्कृति, बहुलवाद और समावेशिता का सबसे अच्छा उदाहरण है। दक्कन के पठार के ऊपर स्थित तेलंगाना भारत के उत्तर और दक्षिण के बीच की कड़ी की तरह है। इसे ‘लघु भारत’ के नाम से भी जाना जाता है। इसके पीछे का कारण इसकी गंगा-जमुना तहज़ीब और इसकी राजधानी हैदराबाद है। तेलंगाना की संस्कृति का निर्धारण उसके भूगोलिक क्षेत्र, राजनीति और अर्थव्यस्था के आधार पर किया गया है। इस क्षेत्र में शुरुआती शासकों सातवाहन ने स्वतंत्रत और आत्मनिर्भर ग्रामीण अर्थव्यस्था के बीज बोए थे, जिसके अवशेष आज भी महसूस किए जा सकते हैं। मध्ययुगीन काल में, 11 वीं और 14 वीं शताब्दी के बीच काकतीय राजवंश के शासन ने वारंगल को अपनी राजधानी बनाया था और बाद में हैदराबाद राज्य पर शासन करने वाले कुतुब शाही और आसफजाहियों ने इस क्षेत्र की संस्कृति को परिभाषित किया था।

तेलंगाना राज्य का गठन

• 4 वर्ष के शांतिपूर्ण और प्रभावशाली विरोध के बाद जुलाई 2013 में तेलंगाना राज्य कि प्रक्रिया शुरु की गई। फरवरी 2014 में संसद के दोनों सदनों में राज्य के इस बिल को पारित किया गया और इस तहर से तेलंगाना राज्य कि प्रक्रिया समाप्त हुई। • राज्य के तौर पर तेलंगाना के गठन के बाद अप्रैल 2014 में आम चुनाव में तेलंगाना राष्ट्र समिति ने 119 में से 63 सीटें जीत कर राज्य में अपनी सरकार बनाई। • श्री के चंद्रशेखर राव ने तेलंगाना के पहले मुख्यमंत्री के रूप में शपथ ली। • 2 जून 2014 को औपचारिक रूप से तेलंगाना राज्य का उद्घाटन किया गया। तेलंगाना भारत का 29वां राज्य है, जिसका गठन 2 जून 2014 को हुआ था। राज्य का क्षेत्रफल 1,12,077 वर्ग किलोमीटर है। इसकी आबादी 3,50,03,674 है। तेलंगाना 17 सितंबर 1948 से 1 नवंबर 1956 तक हैदराबाद राज्य का हिस्सा हुआ करता था। फिर इसे आंध्र प्रदेश राज्य बनाने के लिए आंध्र राज्य में मिला दिया गया।

Get real time updates directly on you device, subscribe now.