बस्ती जिले में कुल कितनी तहसील है ? बस्ती सदर, हर्रैया, भानपुर, रूधौली

0 31

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

Table of Contents

तहसील

प्रत्येक जिला तहसील में विभाजित है यह कलेक्टर मैजिस्ट्रेट द्वारा सशक्त है। सभी उप-विभाजन (तहसील) एसडीएम (उप-विभागीय मजिस्ट्रेट) के प्रभारी हैं। जिला बस्ती को चार तहसील में विभाजित किया गया है: –

  1. बस्ती सदर
  2. हर्रैया
  3. भानपुर
  4. रुधौली

एक उप-विभागीय मजिस्ट्रेट में कई कार्यकारी और दंड संहिता संहिता 1973 के तहत मैजिस्ट्रेट की भूमिकाएं हैं।

राजस्व कार्य:-

राजस्व कार्यों में भूमि अभिलेखों का रखरखाव, राजस्व मामलों का संचालन, सीमांकन और उत्परिवर्तन, निपटान परिचालन और सार्वजनिक भूमि के संरक्षक के रूप में कार्य करना शामिल है। उप-विभागीय मजिस्ट्रेट को सहायक कलेक्टरों और राजस्व सहायकों के रूप में नामित किया गया है और मुख्यतः रोज़गार के राजस्व काम के लिए जिम्मेदार हैं। तहसीलदार, नाइब तहसीलदार पंजीयक कानुंगो  और लेखपाल से मिलकर अधीनस्थ राजस्व कर्मचारी तहसीलदार द्वारा निगरानी रखते हैं जो क्षेत्रीय राजस्व गतिविधियों और उत्परिवर्तनों में शामिल हैं। उन्हें एससी / एसटी और ओबीसी, डोमेसिले, राष्ट्रीयता आदि सहित विभिन्न प्रकार के वैधानिक प्रमाण पत्र जारी करने का अधिकार भी दिया जाता है। संपत्ति दस्तावेज, बिक्री के कार्य, अटॉर्नी की शक्तियां, शेयर प्रमाण पत्र और अन्य सभी दस्तावेज, जो कानून के अनुसार अनिवार्य रूप से पंजीकृत होने की आवश्यकता है उप रजिस्ट्रार कार्यालय में बनाया गया है। उप-आयुक्त अपने संबंधित जिलों के लिए रजिस्ट्रार हैं और उप रजिस्ट्रारों पर पर्यवेक्षी नियंत्रण का संचालन करते हैं।

चुनाव कार्य:-

उप-विभागीय मजिस्ट्रेट मतदाता सूची के संबंध में विधानसभा निर्वाचन क्षेत्रों और निर्वाचन पंजीकरण अधिकारी के लिए लौट रहे अधिकारी हैं। जिला अधिकारी मुख्य रूप से लोकसभा और विधानसभा चुनावों के संचालन के लिए जिम्मेदार हैं। वे मतदाता फोटो पहचान पत्र (महाकाव्य कार्ड) और मतदाता प्रमाणपत्र जारी करने के लिए, वोटरों की सूची के रखरखाव और संशोधन के लिए भी जिम्मेदार हैं।

मजिस्ट्रेटिकल कार्य:-

उप-विभागीय मजिस्ट्रेट कार्यकारी मेजिस्ट्रेट् की शक्तियों का प्रयोग करते हैं। इस भूमिका में वे आपराधिक प्रक्रिया संहिता के निवारक धाराओं के संचालन के लिए जिम्मेदार हैं। वे शादी के सात साल के भीतर महिलाओं की अप्राकृतिक मौतों के मामलों में पूछताछ भी करते हैं और यदि आवश्यक हो तो मामले के पंजीकरण के लिए पुलिस को निर्देश जारी करता है। उप-विभागीय मजिस्ट्रेट को पुलिस लॉक अप, जेल, महिला होम आदि में मौत सहित हिरासत की मौतों में पूछताछ करने का अधिकार है। इस विभाग के अधिकारी भी सरकार की आंखों और कानों के रूप में कार्य करने की उम्मीद कर रहे हैं और प्रमुख सहित सभी प्रमुख दुर्घटनाओं में पूछताछ आग की घटनाएं, दंगों और प्राकृतिक आपदाओं आदि |

आपदा प्रबंधन:-

प्राकृतिक या मानव निर्मित किए गए किसी भी आपदा में इस विभाग को राहत और पुनर्वास कार्यों की प्राथमिक जिम्मेदारी दी गई है। यह प्राकृतिक और रासायनिक आपदाओं और आपदा तैयार करने के लिए आपदा प्रबंधन योजना को समन्वय और कार्यान्वित करने के लिए भी जिम्मेदार है, संयुक्त राष्ट्र विकास कार्यक्रम की सहायता से किया जा रहा है। यह विभाग प्रवासी शिविरों के प्रबंधन और राहत के वितरण में भी शामिल है ।

तहसीलों के अधिकारियो के मोबाइल न0

बस्ती सदर 9454415903 9454415909
रूधौली94544159069454415912
भानपुर94544159059454415911
हर्रैया94544159049454415910

Note: These details are taken from basti.nic.in

बस्ती तहसील लिस्ट: Basti Tehsil List

Basti Tehsil List: उत्तर प्रदेश के बस्ती जिले के रहने वाले बहुत सारे लोग बस्ती तहसील लिस्ट (Basti Tehsil List) देखना चाहते हैं या फिर जानना चाहते हैं कि बस्ती जिले में कितने तहसील हैं

ऐसे लोगो के जानकारी के लिए हमने बस्ती तहसील सूची बनाया है, आप उसे देखकर बस्ती तहसील से सम्बंधित सभी जानकारी प्राप्त कर सकते हैं।

बस्ती में कितने तहसील हैं? बस्ती जिले में कुल 4 तहसील हैं। जिसकी लिस्ट निचे दी गई है।

Basti Tehsil List | बस्ती तहसील लिस्ट

S.No.Tehsil
1.Basti Sadar
2.Harraiya
3.Bhanpur
4.Rudhauli

Basti Tehsil List

बस्ती तहसील लिस्ट | Basti Tehsil List

क्र.सं.तहसील
1.बस्ती सदर
2.हर्रैया
3.भानपुर
4.रुधौली

बस्ती तहसील लिस्ट

List of Tehsil in Basti Uttar Pradesh (UP)

हमने यह बस्ती तहसील लिस्ट (BastiTehsil List) आपके जानकारी मात्र के लिए बनाया है, उम्मीद करते हैं यह जानकारी आपको पसंद आयी होगी।

Basti Tehsil List related FAQ’sबस्ती जिले में कितने तहसील हैं?

बस्ती जिले में कुल 4 तहसील हैं।Basti me kitne tehsil hai?

Basti me 4 tehsil hai.

हर्रैया (तहसील), बस्ती

यह तहसील बस्ती जिला, उत्तर प्रदेश में स्थित है। 2011 में हुई भारत की जनगणना के अनुसार इस तहसील में 1529 गांव हैं।

बस्ती जिले में कितने गांव है

बस्ती जिला में कुल 3129 गांव है

बस्ती जिला उत्तर प्रदेश के उत्तर पूर्वी भाग में अंदर की तरफ स्थित एक जिला है, बस्ती जिले में 4 तहसील है, उत्तर प्रदेश के जिले बस्ती में अलग अलग संख्या में तहसील के अनुसार ग्राम भी है, सबसे ज्यादा गांव हर्रैया तहसील में है और सबसे काम ग्राम रुधौली तहसील में है, किस तहसील में कितने ग्राम है ये नीचे की सारणी में दिया हुआ है, बस्ती जिला में कुल 3129 गांव है, बस्ती जिले में उत्तर प्रदेश के कुल गांव का लगभग 4 प्रतिशत गांव है।

बस्ती जिले में तहसील के अनुसार गांव की संख्या

तहसील/ब्लॉक नामक्षेत्रफलजनसंख्यामहिला पुरूष अनुपातसाक्षरताग्रामो की कुल संख्या
बस्ती2,688, वर्ग किमी2,461,056100289.20%1038
भानपुर9 42 हेक्टेयर2,12088032.66%413
हर्रैया25.63 हेक्टेयर13,45489517%1395
रुधौलीNANANANA283

बस्ती जिले में कितने ग्राम सभा है

बस्ती जिले में कुल 1144 ग्राम पंचायते है, जिनके अंदर कुल 3129 गांव है, किस ब्लॉक में कितनी ग्राम पंचायते है

बस्ती जिले में कितने ब्लॉक है

बस्ती जिला को 14 विकास खंड में बांटा गया है.

ब्लॉक नाम मोबाइल न0
  बस्ती9554464726
बहादुरपुर9454464728
बनकटी9454464727
गौर9454464720
हर्रैया9454464721
कप्तानगंज9454464723
 कुदारहा 9454464729
परशरामपुर 9454464719
रामनगर 9454464717
रूधौली9454464724
सल्टौवा गोपालपुर9454464718
साऊघाट 9454464725
विक्रमजोत9454464722
दुबौलिया9454464730

बस्ती जिला तथ्य

बस्ती जिला तथ्य
राज्यउत्तर प्रदेश
जिलाबस्ती
जिला मुख्यालयबस्ती
जनसंख्या (2011)2464464
विकास0.18
लिंग अनुपात963
साक्षरता67.22
क्षेत्रफल (वर्ग किमी)2687
घनत्व (/ वर्ग किमी)916
तहसीलबस्ती, भानपुर, हर्रैया, रुधौली
लोकसभा क्षेत्रबस्ती
विधानसभा क्षेत्रबस्ती सदर, हर्रैया, कप्तानगंज, महादेवा, रुधौली
भाषाएंहिंदी और उर्दू
नदियांकुवानो
अक्षांश-देशांतर26.818249,82.764423
पर्यटन स्थलपक्के बाज़ार, अहमथ पुल, कुटीवा, गणेशपुर, मखौडा, छावनी बाज़ार, नगर, चंदो ताल, बारा, जामा मस्जिद, काटेश्वर पार्क, भदेश्वर नाथ, पैडा, महुआ डाबर, भुइला ताल, पकरी भिखी, दिहवा, अगौना आदि
सरकारी कॉलेज/विश्वविद्यालयएपीएन डिग्री कॉलेज किसान डिग्री कॉलेज महिला महाविद्यालय, कर्मा देवी स्मृति महाविद्यालय

उत्तर प्रदेश के बस्ती जिले की वेबसाइट

https://basti.nic.in/

बस्ती जिले में कितने ब्लॉक हैं?

बस्ती भारत के उत्तर प्रदेश राज्य में स्थित एक जिला है. उत्तर प्रदेश के उत्तर-पूर्व भाग में आने वाला यह जिला बस्ती प्रमंडल के अंतर्गत आता है. इस प्रमंडल के अंतर्गत कुल 3 जिले आते हैं: बस्ती, संत कबीर नगर और सिद्धार्थ नगर. भगवान राम और माता सीता के प्राचीन मंदिरों में से एक रामरेखा मंदिर इस जिले में स्थित है.जिले में स्थित अगोना गांव को प्रख्यात हिंदी आलोचक और साहित्यकार आचार्य रामचंद्र शुक्ल के जन्म स्थली होने का गौरव प्राप्त है. जिले में कितने ब्लॉक हैं? कितनी जनसंख्या है?आईये जानते हैं बस्ती जिले की पूरी जानकारी

नामकरण

जिले के नाम की उत्पत्ति के बारे में मान्यता है कि प्राचीन काल में यहां ऋषि वशिष्ठ का आश्रम था. भगवान राम अपने छोटे भाई लक्ष्मण के साथ कुछ समय तक यहां रहे थे. प्राचीन काल में ऋषि वशिष्ठ के नाम पर इस स्थान को ‘वैशिष्ठी’ के नाम से जाना जाता था. कालांतर में इस स्थान का नाम “बस्ती” हो गया.

बस्ती जिले का गठन

बस्ती मूल रूप से एक गांव था. 1801 में इसे तहसील मुख्यालय बनाया गया. 1865 में इसे गोरखपुर प्रमंडल के अंतर्गत नवनिर्मित बस्ती जिले का मुख्यालय बनाया गया.

बस्ती जिले की भौगोलिक स्थिति

बाउंड्री (चौहद्दी)
यह जिला कुल 5 जिलों से घिरा हुआ है.
उत्तर में-गोंडा जिला और सिद्धार्थनगर जिला
दक्षिण में-अंबेडकर नगर जिला
पूरब में-संत कबीर नगर जिला
पश्चिम में-गोंडा जिला और अयोध्या जिला

समुद्र तल से ऊंचाई
बस्ती शहर समुद्र तल से लगभग 90-124 मीटर की औसत ऊंचाई पर स्थित है.

क्षेत्रफल
इस जिले का भौगोलिक क्षेत्रफल 2688 वर्ग किलोमीटर है.

प्रमुख नदियां:
बस्ती शहर घाघरा और आमी नदी के मध्य में स्थित है.
घाघरा नदी जिले के दक्षिणी छोर पर बहती है.
जिले की प्रमुख नदियां हैं: घाघरा, कुआनो, मनोरमा और आमी.

अर्थव्यवस्था-कृषि, उद्योग और उत्पाद

जिले की अर्थव्यवस्था कृषि, पशुपालन, मछली पालन, वन, खनिज, उद्योग और व्यवसाय पर आधारित है.

कृषि

इस जिले की अर्थव्यवस्था मुख्य रूप से कृषि पर आधारित है. जिले में उगाए जाने वाले प्रमुख फसल हैं: धान, मक्का, गेहूं, ज्वार, दलहन (अरहर, उड़द, मसूर, मूंग, चना और मटर), तिलहन (सरसों, तिल और राई), मूंगफली, गन्ना, आलू, प्याज और सब्जियां. जिले में उगाए जाने वाले प्रमुख फल हैं: आम, अमरूद, कटहल, पपीता और केला.

पशुपालन

ग्रामीण क्षेत्रों में पशुपालन जिले के लोगों के लिए आय का एक महत्वपूर्ण जरिया है. जिले के प्रमुख पशु धन हैं: गाय, बैल, भैंस, सूअर, भेड़, बकरी और पोल्ट्री.

मछली पालन

जिले के नदियों, नहरों, तालाबों, टैंको और जलाशयों से प्रचुर मात्रा में विभिन्न प्रकार के मछली का उत्पादन किया जाता है.

वन

जिले में पाए जाने वाले प्रमुख वन उत्पाद हैं: सागौन, हलादु, साल, शीशम, बबूल, आम, महुआ, नीम, बांस और जामुन.

खनिज

यह जिला खनिज से समृद्ध नहीं है. जिले में पाए जाने वाले प्रमुख खनिज हैं: बालू और कंकर.

उद्योग

यहाँ  सूती कपड़े और चीनी उद्योग के लिए प्रसिद्ध है. जिले में बड़े पैमाने पर लघु उद्योग और कुटीर उद्योगों की इकाइयां कार्यरत हैं.  जिले के प्रमुख औद्योगिक उत्पाद हैं-टेक्सटाइल, चीनी, ब्रासवेयर, कृषि उपकरण, कृषि आधारित उत्पाद, फुटवेयर, साबुन, मोमबत्तियां और मिट्टी के बर्तन.

व्यवसाय

यह जिला कृषि उत्पादों, फुटवेयर और ब्रासवेयर का व्यापार केंद्र है.

प्रशासनिक सेटअप

प्रमंडल: बस्ती
प्रशासनिक सहूलियत के लिए इस जिले को 4 तहसीलों (अनुमंडल) और 14 विकासखंडो (प्रखंड/ ब्लॉक) में बांटा गया है.

तहसील (अनुमंडल):
 जिले को कुल 4 तहसीलों में बांटा गया है:
हर्रैया, बस्ती, भानपुर और रुधौली.

विकासखंड (प्रखंड):
इस जिले को 14 विकासखंडों (प्रखंडों) में बांटा गया है-परशुरामपुर, विक्रमजोत, दुबौलिया, हर्रैया, गौर, कप्तानगंज, बस्ती, बहादुरपुर, कुदरहा, बनकटी, सौ घाट, सल्टौआ गोपालगंज, रुधौली और रामनगर.

पुलिस थानों की संख्या: 17
नगर पालिकाओं की संख्या: 5
ग्राम पंचायतों की संख्या: 1247
गांवों की संख्या: 3348

निर्वाचन क्षेत्र
लोकसभा निर्वाचन क्षेत्र: 1, बस्ती

विधानसभा निर्वाचन क्षेत्र: 5
बस्ती जिले के अंतर्गत कुल 5 विधानसभा निर्वाचन क्षेत्र आते हैं: हर्रैया, कप्तानगंज, रुधौली, बस्ती सदर और महादेवा.

बस्ती जिले की डेमोग्राफीक्स (जनसांख्यिकी)

2011 के आधिकारिक जनगणना के अनुसार, इस जिले की जनसांख्यिकी इस प्रकार है-
कुल जनसंख्या: 24.64 लाख
पुरुष: 12.55 लाख
महिला: 12.09 लाख

जनसंख्या वृद्धि (दशकीय): 18.21%
जनसंख्या घनत्व (प्रति वर्ग किलोमीटर): 917
उत्तर प्रदेश की जनसंख्या में अनुपात: 1.23%
लिंगानुपात (महिलाएं प्रति 1000 पुरुष): 963

औसत साक्षरता: 67.22%
पुरुष साक्षरता: 77.88%
महिला साक्षरता: 56.23%

शहरी और ग्रामीण जनसंख्या
शहरी जनसंख्या: 5.60%
ग्रामीण जनसंख्या: 94.40%

धार्मिक जनसंख्या

2011 के आधिकारिक जनगणना के अनुसार, यह एक हिंदू बहुसंख्यक जिला है. जिले में हिंदुओं की जनसंख्या 84.52% है, जबकि मुस्लिमों की आबादी 14.79% है. अन्य धर्मों की बात करें तो जिले में ईसाई 0.14%, सिख 0.04% और बौद्ध 0.40% हैं.

भाषाएं
बस्ती जिले में बोली जाने वाली प्रमुख भाषाएं हैं: हिंदी, अवधी, उर्दू और भोजपुरी.

बस्ती जिले में आकर्षक स्थल

इस  जिले में पौराणिक, धार्मिक, पुरातात्विक और ऐतिहासिक दृष्टिकोण से महत्वपूर्ण कई दर्शनीय स्थल हैं. जिले में स्थित प्रमुख दर्शनीय स्थलों के बारे में संक्षिप्त विवरण:

मखौड़ा धाम

बस्ती जिला मुख्यालय से लगभग 57 किलोमीटर पश्चिम में स्थित इस प्राचीन स्थल का पौराणिक महत्व है.कहा जाता है कि इस स्थान का संबंध रामायण काल से है. ऐसी मान्यता है कि भगवान राम के पिता राजा दशरथ ने इसी स्थान पर पुत्रकामेक्षी यज्ञ किया था

श्रृंगीनारी धाम मंदिर

आस्था का केंद्र यह प्राचीन मंदिर बस्ती जिले के परशुराम विकासखंड में स्थित है. ऐसी मान्यता है कि यह स्थान श्रृंगी ऋषि का तपस्थल था.

बाबा भदेश्वर नाथ मंदिर

भगवान शिव को समर्पित यह प्रसिद्ध मंदिर बस्ती जिला मुख्यालय से लगभग 6 किलोमीटर की दूरी पर कुआनो नदी के तट पर स्थित है. ऐसी मान्यता है कि इस मंदिर को दैत्य राज रावण ने स्थापित किया था.

कटेश्वर पार्क

यह सुंदर पार्क बस्ती जिले के गांधीनगर में स्थित है.

रामरेखा मंदिर

भगवान राम और माता सीता को समर्पित यह प्राचीन मंदिर बस्ती जिला मुख्यालय से लगभग 41 किलोमीटर की दूरी पर अमोढा में स्थित है. ऐसी मान्यता है कि विवाह के बाद जनकपुरी से अयोध्या लौटते समय भगवान श्री राम और माता सीता ने यहां पर विश्राम किया था.

छावनी बाजार

यह ऐतिहासिक स्थल बस्ती जिला मुख्यालय से लगभग 40 किलोमीटर की दूरी पर अमोढा के पास स्थित है. 1857 के स्वतंत्रता संग्राम में अंग्रेजों ने इस स्थान पर 250 क्रांतिकारियों को पीपल के पेड़ से फांसी पर लटका दिया था.

राष्ट्रीय वन चेतना केंद्र (संत रविदास वन विहार)

यह सुंदर वन विहार बस्ती जिला मुख्यालय से लगभग 1 किलोमीटर की दूरी पर कुआनो नदी के तट पर स्थित है. यह बस्ती जिले का एक लोकप्रिय पिकनिक स्पॉट है. आप यहां नौकायन का आनंद ले सकते हैं.

बस्ती कैसे पहुंचे?

हवाई मार्ग
बस्ती जिले का अपना हवाई अड्डा नहीं है. यहां के लिए डायरेक्ट हवाई सेवा उपलब्ध नहीं है.
निकटतम हवाई अड्डा: महायोगी गोरखनाथ एयरपोर्ट, गोरखपुर (Code: GOP). यह हवाई अड्डा बस्ती से लगभग 73 किलोमीटर की दूरी पर गोरखपुर में स्थित है. दूसरा नज़दीकी हवाई अड्डा: लाल बहादुर शास्त्री इंटरनेशनल एयरपोर्ट, वाराणसी (Code: VNS) यह हवाई अड्डा बस्ती से लगभग 183 किलोमीटर की दूरी पर वाराणसी में स्थित है.

रेल मार्ग

बस्ती रेल मार्ग से उत्तर प्रदेश की राजधानी लखनऊ तथा देश के विभिन्न भागों से अच्छे से जुड़ा हुआ है. निकटतम रेलवे स्टेशन: बस्ती रेलवे स्टेशन (Code: BST).

सड़क मार्ग

बस्ती सड़क मार्ग से उत्तर प्रदेश और देश के प्रमुख शहरों से अच्छे से जुड़ा हुआ है. यहां के लिए नियमित सरकारी और प्राइवेट बस सेवाएं उपलब्ध है. आप यहां अपने निजी वाहन कार या बाइक से भी आ सकते हैं. नेशनल हाईवे 28 (NH-28) बस्ती जिले से होकर गुजरती है.

बस्ती जिले की कुछ रोचक बातें:

2011 के जनगणना के अनुसार,
1. जनसंख्या की दृष्टि से उत्तर प्रदेश में 41वां स्थान है.
2. लिंगानुपात के मामले में उत्तर प्रदेश में 10वां स्थान है.
3. साक्षरता के मामले में उत्तर प्रदेश में 44वां स्थान है.
4. सबसे ज्यादा बसे गांव वाला तहसील: हर्रैया (1457).
5. सबसे कम बसे गांव वाला तहसील: रुधौली (257)
6. जिले में कुल निर्जन गांवों की संख्या: 188.

Get real time updates directly on you device, subscribe now.