हुनर से होगा रोजगार सुरक्षित | Editorial

0 8

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

पीएम नरेंद्र मोदी पिछले सात साल में कई बार चिंता जता चुके हैं कि दुनिया में सबसे अधिक होनहार युवा होने के बावजूद गूगल, फेसबुक पोकादसऐप जैसी आधुनिक चीजों | सेवाओं की खोज भारत में क्यों नहीं होती? कुछ समय पहले बीएचयू के समारोह में छात्रों के बीच बोलते उन्होंने हुए भी कुछ इसी तरह का जिक्र किया और स्टूडेंट्स का आह्वान किया कि वे ‘सिकल सेल’ नामक लाइलाज बीमारी पर रिसर्च करें। पिछले डेढ़-दो दशकों में भारतीय युवाओं ने आइटों के क्षेत्र में दुनियाभर में अपनी प्रतिभा का लोहा मनवाया है, इसके बावजूद हम सब जानते हैं कि साइंस और आइटी फील्ड में ज्यादातर जो नई चीजें सामने आती हैं, वे सब प्राय: अमेरिका में ही होती दिखती हैं। साइंस और आधुनिकता की बात करते समय अक्सर अमेरिका और यूरोपीय देशों की चर्चा होती है, पर क्या हमने और हमारी सरकारों ने कभी इस बात गौर किया है कि वहां साइंस और रिसर्च के प्रति स्कूली लेवल से ही कितना ध्यान दिया जाता है? हमारी इंडस्ट्री और एक्सपर्ट्स सालों से स्किल्ड लोग न मिलने पर चिंता जताते रहे हैं, पर हमारा एजुकेशन सिस्टम है कि वक्त के साथ चलने को तैयार ही नहीं होता।

इसमें कोई शक नहीं कि चंद आइआइटी और उनके समकक्ष संस्थान वर्ल्ड क्लास एजुकेशन उपलब्ध कराने में लगातार आगे हैं। वे वक्त के साथ खुद को अपडेट भी कर रहे हैं। पर क्या पूरे देश में फैले तकनीकी और अन्य शिक्षा संस्थानों के बारे में भी ऐसा कहा जा सकता है? आखिर क्यों चार साल की तकनीकी शिक्षा हासिल करने के बाद भी अधिकतर युवाओं को एक अदद नौकरी के लिए मोहताज होना पड़ता है? आखिर कहीं तो कमी या गड़बड़ी है?

सरकार पहली बार बने स्किल डेवलपमेंट और एंटरप्रेन्योरशिप न मंत्रालय के जरिए युवाओं को हुनरमंद बनाने की दिशा में प्रयास कर रही है। इस क्रम में एनएसडीसी, पीएमकेवीवाई, एमएसडीई, एनसीवीटी आदि के जरिए स्किल ट्रेनिंग सेंटर्स खोले जा रहे हैं। इन केंद्रों के जरिए अब तक 75 लाख से ज्यादा युवाओं को स्किल्ड बनाने का दावा किया गया है। सवाल है कि क्या उन्हें उचित रोजगार भी मिल सका है? अगर नहीं, तो कहीं न कहीं खामी है, जिसे दूर किया जाना चाहिए। साथ ही, इंडस्ट्री को भी इस बात के लिए प्रेरित किया जाना चाहिए कि वे शिक्षण संस्थानों में खुद इंफ्यूवेशन सेंटर खोलकर स्टूडेंट्स को ट्रेनिंग दें, ताकि उन्हें वहीं से पर्याप्त संख्या में हुनरमंद प्रतिभाएं मिल सकें.

Get real time updates directly on you device, subscribe now.