Sarveshwar Dayal Saxena : सर्वेश्वर दयाल सक्सेना का जीवन परिचय

सर्वेश्वर दयाल सक्सेना का साहित्यिक परिचय : सर्वेश्वर दयाल सक्सेना (15 सितंबर 1927 बस्ती – २३ सितंबर 1983 नई दिल्ली) हिन्दी कवि एवं साहित्यकार थे। सर्वेश्वर मानते थे कि जिस देश के पास समृद्ध बाल साहित्य नहीं है, उसका भविष्य उज्ज्वल नहीं रह सकता। सर्वेश्वर की यह अग्रगामी सोच उन्हें एक बाल पत्रिका के सम्पादक के नाते प्रतिष्ठित और सम्मानित करती है।

नामसर्वेश्वर दयाल सक्सेना
जन्म15 सितंबर 1927
जन्म स्थानबस्ती
मृत्यु23 सितम्बर, 1983
मृत्यु स्थाननई दिल्ली
अभिभावकविश्वेश्वर दयाल
कर्म-क्षेत्रकवि, लेखक, पत्रकार, नाटककार
भाषाहिंदी

सर्वेश्वर दयाल सक्सेना का जन्म 15 सितंबर, 1927 को विश्वेश्वर दयाल के घर हुआ। फलतः सर्वेश्वर जी की आरंभिक शिक्षा-दीक्षा भी ज़िला बस्ती, उत्तर प्रदेश में ही हुई। बचपन से ही वे विद्रोही प्रकृति के थे। उनकी रचना तथा पत्रकारिता में उनका लेखन इसकी बानगी पेश करता है। इसी कारण जब वे बस्ती के राजकीय हाईस्कूल में नवीं कक्षा में पढ़ रहे थे, राजनीतिक चुहलबाजी के कारण उन्हें कॉलेज से निकाल दिया गया। फिर सर्वेश्वर को एंग्लो संस्कृत हाईस्कूल, बस्ती के प्रधानाचार्य श्री चक्रवर्ची ने शरण दी। इसी विद्यालय से सर्वेश्वर जी ने 1941 में हाईस्कूल की परीक्षा उत्तीर्ण की। इस सबके बीच बस्ती का ग्राम्य परिवेश, आंचलिकता, शहर के किनारे बहने वाली कुआनो नदी, भुजैनिया का पोखरा आदि प्रतीक सर्वेश्वर के भोले मन को प्रभावित करते रहे। माटी की यह महक तथा जीवन के संत्रासों को वे ताज़िन्दगी नहीं भूले।

शिक्षा के साथ नौकरी


सर्वेश्वर जी के पिता विश्वेश्वर दयाल जी ने बड़ी मेहनत से मालवीय रोड स्थित अनाथालय के पास एक छोटा सा घर बनवा लिया। इसी नए घर में सर्वेश्वर के छोटे भाई एवं छोटी बहन का जन्म हुआ। इस दौरान सर्वेश्वर जी की माँ का तबादला बस्ती से बांसगांव, गोरखपुर और फिर वाराणसी हो गया। सर्वेश्वर भी अध्ययन के लिए अपनी माँ के साथ वाराणसी चले गए। 1943 में उन्होंने वाराणसी के क्वींस कॉलेज से इन्टरमीडियट की परीक्षा उत्तीर्ण की। सन 1944-45 में आर्थिक विपन्नता और बहन की शादी हेतु पैसा एकत्र करने हेतु सर्वेश्वर ने पढ़ाई छोड़ दी। वास्तव में सर्वेश्वर जी के परिवार की आर्थिक दशा कभी अच्छी न रही।

सर्वेश्वर ने बस्ती के खैर इण्डस्ट्रियल इण्टर कॉलेज में नौकरी भी की। यहाँ उन्हें 60 रुपए प्रतिमाह वेतन प्राप्त हो रहा था। वे इसके बाद ज्यादा दिनों तक बस्ती न रह पाए। उनकी दिली तमन्ना कुछ कर दिखाने की थी। इसी अभिलाषा को हृदय में संजोए वे बस्ती से प्रयाग (इलाहाबाद) पहुंच गए। इलाहाबाद से उन्होंने बी.ए. और सन् 1949 में एम.ए. की परीक्षा उत्तीर्ण की। 1949 का यह साल पत्रकार सर्वेश्वर के मर्मान्तक पीड़ा देने वाला साबित हुआ और उनकी प्यारी माँ अपने स्वास्थ्य एवं आर्थिक विपन्नता को झेलते हुए उनसे हमेशा के लिए बिछुड़ गई। उस वर्ष घोर दुःख एवं विपन्नता को सहते हुए सर्वेश्वर किसी प्रकार लगभग चार माह अपने पिता के साथ बस्ती रहे। यहीं उन्होंने प्रख्यात उर्दू शायर ताराशंकर ‘नाशाद’ के साथ ‘परिमल’ (साहित्यिक संस्था) की स्थापना की।

सर्वेश्वर दयाल सक्सेना की कविता पोस्टर और आदमी

मैं अपने को नन्हा-सा, दबा हुआ
विशालकाय बड़े-बड़े पोस्टरों
के अनुपात में खड़ा देख रहा हूँ,
जिनकी ओर
एक भीड़
देखती हुई
गुज़र रही है,
हँसती, गाती, उछलती, कूदती, 
एक तेजी, एक भाग-दौड़
एक धक्कम-धूक्का, एक होड़
जिनके चारों ओर है।
मगर वे चुप हैं ।
उन सबके मुख पर एक ही भाव है,
उनकी सबकी एक ही मुद्राएँ हैं
रंगों से भरे-पुरे, चटकीले, भड़कीले
सबके आकर्षणों के केन्द्र
वे सब एक ही जगह पर खड़े हैं 
पोस्टर-विशालकाय पोस्टर
लोग उन्हें देखकर हँसते हैं,
मुंह बनाते हैं, 
उदास हो जाते हैं, 
औरतें उन्हें देखकर मुस्कराती हैं।
होंठ दबाती हैं 
आँखों-आँखों में बात करती हैं
बच्चे टो-टो करते हैं,
खुश होकर चिल्लाते हैं,
तोतली बोली में बुलाते हैं, 
और मैं उनके सामने
नन्हा-सा दवा हुआ खड़ा हूँ,
बे जाना, बे पहचाना
इस प्रतीक्षा में कि शायद
कभी कोई भूली हुई दृष्टि
मुझ पर टिक जाय,
शायद कोई मुझे आवाज़ दे,
शायद किसी की सूनी निगाह
मुझे देखकर शोख हो जाय,
शायद कोई, शायद कोई,
मुझे पहिचाने, मुझे बुलाए...
लेकिन मैं देखता हूँ
कि आज के ज़माने में 
आदमी से ज्यादा लोग
पोस्टरों को पहचानते हैं
वे आदमी से बड़े सत्य हैं। 
जो दूसरे की बात कहते हैं,
जिनमें आकर्षण है लेकिन जान नहीं, 
जो चौराहों पर खड़े रहते हैं,
सबकी राह रोकते हैं, सबको टोकते हैं,
लेकिन किसी से कोई मतलब नहीं रखते, 
जिनमें दिल, दिमाग, आत्मा कुछ भी नहीं है,
महज रंग, गहरा भड़कीला रंग है,
जिनके हृदय नहीं है पर प्यार का संदेश देते हैं, 
जो एक आकार हैं, महज़ प्राकार,
जिसकी कोई सीमा नहीं है,
जिनके भाव दूसरे के हैं,
जिनकी मुद्राएँ
जिनके हाथ, पैर, नाक, कान 
आँख, मुंह, दिल, दिमाग
सब दूसरों के हैं,
जो पोस्टर हैं
महज़ पोस्टर हैं
वे आज के युग में 
आदमी से अधिक बड़े सत्य हैं
उन्हें सब पहिचानते हैं
वे ही महान हैं। 
छीनने आये हैं वे 
और अब
छीनने आये हैं वे
हमसे हमारी भाषा। 
अब, जब हम
हर तरह से टूट चुके हैं,
अपना ही प्रतिबिम्ब
हमें दिखाई नहीं देता, 
अपनी ही चीख
गैर की मालूम पड़ती है,
एक आखिरी बयान
जीने और मरने का
हम दर्ज कराना चाहते हैं,
वे छीनने आये हैं,
हमसे हमारी भाषा। 
बहुत बड़ा जंगल था यह
जिससे हम होकर आये हैं, 
जहाँ शेर चूहे की 
और चूहे शेर की बोली बोलते थे
खरगोश हाथियों की तरह चिंघाड़ते थे 
और हाथी झींगुरों की तरह 
अँधेरे में सिर मारते थे,
चिड़ियाँ चहकतीं नहीं
गीदड़ों की तरह रोती थीं
मुर्गे बाँग नहीं देते थे ।
भेड़ियों की तरह गुर्राते थे,
सब अपनी-अपनी भाषा भूल चुके थे।
केवल हम उसके
बने रहने के बोध के साथ ज़िन्दा थे 
और रात-दिन
भूखे-प्यासे फटेहाल चलते जाते थे। 
और अब
जब हम अपनी यातना
दर्ज कराना चाहते हैं
हमसे छीनने आये हैं वे
हमारी भाषा
उल्लुओं की ज़बान में
कोयल गा सकती है तो गाये
जिसे सिखाना हो उसे सिखाये।
हमारे पास बहुत कम वक्त शेष है
एक ग़लत भाषा में
ग़लत बयान देने से
मर जाना बेहतर है,
यही हमारी टेक है। 
और अब छीनने आये हैं वे 
हमसे हमारी भाषा
यानी हमसे हमारा रूप
जिसे हमारी भाषा ने गढ़ा है 
और जो इस जंगल में
इतना विकृत हो चुका है
कि जल्दी पहचान में नहीं आता। 

सर्वेश्वर दयाल सक्सेना की कविता भूख

जब भी

भूख से लड़ने

कोई खड़ा हो जाता है

सुंदर दीखने लगता है।

झपटता बाज़,

फन उठाए साँप,

दो पैरों पर खड़ी

काँटों से नन्हीं पत्तियाँ खाती बकरी,

दबे पाँव झाड़ियों में चलता चीता,

डाल पर उल्टा लटक

फल कुतरता तोता,

या इन सबकी जगह

आदमी होता।

जब भी

भूख से लड़ने

कोई खड़ा हो जाता है

सुंदर दीखने लगता है।

सर्वेश्वर दयाल सक्सेना दिनमान में किस पद पर रहे

सर्वेश्वर दयाल सक्सेना ‘तीसरे सप्तक’ के महत्वपूर्ण कवियों में से एक थे। कविता के अतिरिक्त उन्होंने कहानी, नाटक और बाल साहित्य भी रचा। उनकी रचनाओं का अनेक भाषाओं में अनुवाद भी हुआ। आकाशवाणी में सहायक निर्माता; दिनमान के उपसंपादक तथा पराग के संपादक रहे।

सर्वेश्वर दयाल सक्सेना की काव्यगत विशेषताएँ

सर्वेश्वर दयाल सक्सेना की काव्यगत विशेषताएँ:

सर्वेश्वर दयाल सक्सेना की काव्य चेतना का मूल्यांकन sarveshwar dayal saxena ki kavyagat visheshta सर्वेश्वरदयाल सक्सेना की कविताओं का विश्लेषणात्मक अध्ययन – तीसरा सप्तक के कवि सर्वेश्वर दयाल सक्सेना हिन्दी मे नयी कविता के एक सशक्त हस्ताक्षर के रूप मे उभर कर हमारे सामने आए । हिन्दी कविता को आपने जीवन की मुख्य धारा से जोड़ा । आपकी मुख्य रचनाएँ जिनमें काठ की घंटियाँ ,बांस का पूल , एक सूनी नाव , गर्म हवाएँ ,कुआनो नदी , जंगल का दर्द , खूंटियों पर टंगे लोग आदि । इसके अतिरिक्त उन्होने उपन्यास , नाटक और बाल साहित्य की भी रचना की है । सर्वेश्वर दयाल सक्सेना जी की कविता की निम्नलिखित विशेषताएँ सामने आती है – 


व्यापक जीवन का चित्रण

 तीसरा सप्तक मे अपना वक्तव्य देते हुए कवि ने यह स्पष्ट किया है कि वे कविता इसीलिए करते हैं क्योंकि हिन्दी मे व्यापक जीवन को अपनी कविताओं का विषय बनाने वाले कवि नहीं है । सर्वेश्वर जी की कविता व्यापक जीवन के विविध अनुभवों की कविता है । उनका यह मानना है कि कविता किसी भी विषय पर लिखी जा सकती है क्योंकि वह मानव जीवन का दर्पण है । कविता के माध्यम से कवि राजनैतिक ,सामाजिक ,आर्थिक तथा अन्य क्षेत्रों मे जर्जर परम्पराओं से लड़ने का प्रयास करता है । कवि ,यदि सच्चा कवि है तो वह जीवन की सच्चाई के प्रति ईमानदार रहकर अपनी कवितायें रचता है । सर्वेश्वर की कविता किसी गुट अथवा वाद मे बंधी कविता नहीं उस में व्यापक मानवता के दर्शन होते हैं । नए साल पर कविता मे आप लिखते हैं – 

नये साल की शुभकामनाएं!खेतों की मेड़ों पर धूल-भरे पांव को,कुहरे में लिपटे उस छोटे-से गांव को,नए साल की शुभकामनाएं!

किताब को पढ़ कर लेखक सर्वेश्वर दयाल सक्सेना जी के बारे में 10 पंक्तियां लिखें।

सर्वेश्वर दयाल सक्सेना हिन्दी साहित्य जगत के एक ऐसे हस्ताक्षर हैं, जिनकी लेखनी से कोई विधा अछूती नहीं रही। चाहे वह कविता हो, गीत हो, नाटक हो अथवा आलेख हों। जितनी कठोरता से उन्होंने व्यवस्था में व्याप्त बुराइयों पर आक्रमण किया, उतनी ही सहजता से वे बाल साहित्य के लिये भी लेखनी चलाते रहे। सर्वेश्वर दयाल सक्सेना का जन्म 15 सितंबर 1927 को बस्ती (उ.प्र) में हुआ। उन्होंने एंग्लो संस्कृत उच्च विद्यालय बस्ती से हाईस्कूल की परीक्षा पास कर के क्वींस कॉलेज वाराणसी में प्रवेश लिया। एम.ए की परीक्षा उन्होंने प्रयाग विश्वविद्यालय से उत्तीर्ण की। एक छोटे से कस्बे से अपना जीवन आरम्भ करने वाले सर्वेश्वर जी ने जिन साहित्यिक ऊचाइयों को छुआ, वो इतिहास और उदाहरण दोनो हैं। उनके काव्य सन्ग्रह “खूंटियॊं पर टंगे हुए लोग” के लिये उन्हें १९८३ में साहित्य अकादमी पुरस्कार से नवाज़ा गया। काठ की घंटियाँ, बांस का पुल, गर्म हवाएँ, एक सूनी नाव, कुआनो नदी आदि उनकी प्रमुख क्रतियां हैं। आपने पत्रकारिता जगत में भी उसी जिम्मेदारी से काम किया और आपका समय हिन्दी पत्रकारिता का स्वर्णिम अध्याय माना जाता है।अध्यापन करने तथा आकाशवाणी में सहायक प्रोड्यूसर रहने के बाद वे बाल साहित्य पत्रिका “पराग” के सम्पादक रहे और “दिनमान” की टीम में अज्ञेय जी के साथ भी उन्होंने काम किया। उनकी देख रेख में हि्न्दी बाल साहित्य ने नये आयाम छुए और आज के समय में बाल साहित्य जगत उनके जैसे रचनाकारों की बड़ी कमी अनुभव करता है। “बतू्ता का जूता”, “रा्नी रूपमती और राजा बाज बहादुर”, “भौं भौं”, इत्यादि इस परिप्रेक्षय में उनकी नामी रचनायें हैं। “पकौड़ी की कहानी” कविता में उनका बाल मन से सहज सम्बन्ध प्रतिबिम्बित होता है

सर्वेश्वर दयाल सक्सेना की रचनाएँ

काव्य –

  • तीसरा सप्तक – सं. अज्ञेय, 1959
  • काठ की घंटियां – 19599
  • बांस का पुल – 1963
  • एक सूनी नाव – 1966
  • गर्म हवाएं – 1966
  • कुआनो नदी – 1973
  • जंगल का दर्द – 1976
  • खूंटियों पर टंगे लोग – 1982
  • क्या कह कर पुकारूं – प्रेम कविताएं
  • कोई मेरे साथ चले
  • मेघ आये

कथा-साहित्य

  • पागल कुत्तों का मसीहा (लघु उपन्यास) – 1977
  • सोया हुआ जल (लघु उपन्यास) – 1977
  • उड़े हुए रंग – (उपन्यास) यह उपन्यास सूने चौखटे नाम से 1974 में प्रकाशित हुआ था।
  • कच्ची सड़क – 1978
  • अंधेरे पर अंधेरा – 1980

नाटक

  • बकरी – 1974 (इसका लगभग सभी भारतीय भाषाओं में अनुवाद तथा मंचन)
  • लड़ाई – 1979
  • अब गरीबी हटाओ – 1981
  • कल भात आएगा तथा हवालात –
  • रूपमती बाज बहादुर तथा होरी धूम मचोरी मंचन 1976

यात्रा संस्मरण

  • कुछ रंग कुछ गंध – 1971

बाल कविता

  • बतूता का जूता – 1971
  • महंगू की टाई – 1974

बाल नाटक

  • भों-भों खों-खों – 1975
  • लाख की नाक – 1979

सर्वेश्वर दयाल सक्सेना का जन्म कहाँ हुआ था?

15 सितंबर 1927 बस्ती

सर्वेश्वर दयाल सक्सेना का निधन कब हुआ?

24 September 1983

सर्वेश्वर दयाल सक्सेना की मृत्यु कैसे हुई

नवंबर १९८२ में पराग का संपादन संभालने के बाद वे मृत्युपर्यन्त उससे जुड़े रहे। निधन २३ सितंबर 1983 को नई दिल्ली में उनका निधन हो गया।

सर्वेश्वर दयाल सक्सेना किस विचारधारा के कवि है

वे दायरों से बाहर के कवि थे। उनकी कविताओं में हिंदी कविता की लोकोन्मुखता सहजता से परिलक्षित होती है। सर्वेश्वर दयाल हिंदी की गतिशील जनवादी काव्यधारा के प्रमुख कवि अज्ञेय द्वारा संपादित तीसरा सप्तक संग्रह के महत्वपूर्ण कवि के रूप में प्रतिष्ठित हुए।

जंगल का दर्द किसका काव्य संग्रह है

सर्वेश्वर दयाल सक्सेना

Sarveshwar Dayal Saxena – Wikipediaसर्वेश्वर दयाल सक्सेना की कविता भूख, सर्वेश्वर दयाल सक्सेना का साहित्यिक परिचय, सर्वेश्वर दयाल सक्सेना की भाषा शैलीSarveshwar Dayal Saxena ka jeevan Parichay Class 10, Sarveshwar Dayal Saxena ka jivan Parichay, Sarveshwar Dayal Saxena poems on NatureSarveshwar Dayal Saxena famous poems