Basti news: विकासखंड दुबौलिया की रमना तौफिर जिले का पहला और सबसे बड़ा गौ रक्षा केंद्र

10

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

बस्ती  न्यूज़ डेस्क:  विकासखंड दुबौलिया की रमना तौफिर जिले का पहला और सबसे बड़ा गौ रक्षा केंद्र है. वर्तमान में यहां 150 से अधिक जानवर हैं। इन जानवरों में एक सांड ने दो गायों को मारकर घायल कर दिया है, जो जिंदगी और मौत के बीच जूझ रही हैं। हालांकि इन गायों की देखभाल के लिए पांच लोगों को तैनात किया गया है। गोदाम में पर्याप्त भूसा और पशु चारा है। बरसात के दिनों में टूटी चहारदीवारी की मरम्मत अब तक नहीं हो पाई है। इस सीमा का निर्माण जिला पंचायत ने करवाया था। बाउंड्री टूटने के कारण अक्सर जानवर बाहर निकल जाते हैं।

उजियानपुर की गौशाला उजाड़ पड़ी है

विकासखंड कुदराहा के गौशाला उजियानपुर की हालत पिछले छह माह से खराब है। सरकार के निर्देश के बाद भी पिछले छह माह से यहां एक भी जानवर नहीं रखा गया है। यहां पशुओं के खाने-पीने के लिए चारे आदि की कोई व्यवस्था नहीं है। इस क्षेत्र के बेसहारा मवेशी झुंड में इधर-उधर घूमते नजर आते हैं, जो दिन-ब-दिन किसानों की फसलों को नुकसान पहुंचाते हैं और इन जानवरों के कारण किसानों को परेशानी का सामना करना पड़ रहा है. हालांकि सीडीओ ने इस मामले को लेकर क्षेत्रीय अधिकारियों के खिलाफ कार्रवाई की है.

 जिले के गौशाला स्थलों को लेकर एक तरफ सरकार-प्रशासन गंभीर है तो जमीनी स्तर पर बेहतर काम नहीं हो रहा है. इसका नजारा अधिकारियों की समीक्षा बैठक में देखने को मिल रहा है. कहीं गौशालाओं का संचालन बेहतर ढंग से हो रहा है तो कुछ आश्रय स्थल अधिकारियों व कर्मचारियों की उपेक्षा का शिकार हैं।

कुसुम्हा गौशाला की व्यवस्था ठीक, स्टाफ की जरूरत मुंडेरवा क्षेत्र स्थित विकासखंड सोनघाट की कुसुम्हा की गौशाला में 20 पशुओं के संरक्षण का प्रावधान है. वर्तमान में यहां 18 गोजातीय जानवर मौजूद हैं। ग्राम प्रधान बसंत कुमार चौधरी ने बताया कि पहले यहां दो सफाई कर्मचारी रहते थे, जिन्हें अब हटा दिया गया है. भूसा और कपिला मौके पर खाने के लिए पशु चारा हैं। पीने के पानी की व्यवस्था है। 20 क्विंटल पुआल भी रखा गया है। एक कर्मचारी के सहयोग से गौशाला का संचालन किया जा रहा है। यहां की व्यवस्था लगभग ठीक है।

मकदूमपुर में मौजूद है एक बीघा हरा चारा :

विकासखंड बनकटी के मकदूमपुर में गौशाला केंद्र की व्यवस्था चाक-चौबंद है. यहां पुआल का स्टॉक है। संचालक ने बताया कि 25 क्विंटल भूसा आना है। 20 गायों को रखने की व्यवस्था है, लेकिन मौके पर 23 पशुओं को रखा गया है। मौके पर ब्रांडेड पशु चारा भी मिला। हरे चारे के लिए एक बीघा बरसीम मिलता है। एक गाय सुपुर्दगी योग्य है। यहां अब तक तीन गायों ने बच्चे दिए हैं। सभी गायों के कान टैग होते हैं। नौकर के दम पर व्यवस्था चल रही है। एक और व्यक्ति की जरूरत है।

Read Also: UP Crime News: बीबीएयू की छात्रा ने विश्वविद्यालय के एक प्रोफेयर पर मानसिक व शारीरिक शोषण का लगाया

Get real time updates directly on you device, subscribe now.