Polytechnic Course After 10th : 10वीं के बाद पोलीटेक्निक से करें कोर्स, करियर को मिलेगी रफ्तार

13

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

10वीं पास हैं और चाहते हैं कि आगे की पढ़ाई से अलग कुछ प्रोफेशनल कोर्स किए जाएं जिससे करियर को तो रफ्तार मिले ही साथ ही समय और धन की भी बचत हो तो पोलीटेक्निक आपकी मंजिल हो सकती है। जी हां, पोलीटेक्निक वो संस्थान जो 10वीं पास करने के बाद छात्रों को प्रोफेशनल स्टडी की सुविधा देता है। आज इस ओर छात्र काफी आकर्षित हो रहे है। इसका एक कारण ये भी है कि टेक्नोलॉजी और इंजीनियंरिग की फील्ड में जाने के इच्छुक छात्रों के लिए पोलीटेक्निक संस्थान में काफी कुछ हैं। बहुत से कोर्स हैं जो आपके करियर को बढ़िया दिशा देकर रफ्तार भी दे सकते हैं तो आइए जानते हैं कि 10वीं पास करने के बाद पोलीटेक्निक से कौन कौन से कोर्स किए जा सकते हैं।

पॉलिटेक्निक क्या है.

पॉलिटेक्निक एक टेक्निकल कोर्स है जो डिप्लोमा कोर्स के अंदर आता है. यह एक काफी पॉपुलर कोर्स है जिसे 10th या 12th पास करने के बाद में कर सकते हैं. पॉलिटेक्निक का मतलब ही होता है इंजीनियरिंग मे डिप्लोमा (Diploma in Engineering). इस कोर्स के अंतर्गत कई ब्रांच की पढ़ाई कराई जाती है. यह जूनियर लेवल इंजीनियर को तैयार करने का एक तरीका है. बी टेक करने वाले लोग डिग्री हासिल करते हैं वही पॉलिटेक्निक से डिप्लोमा की पढ़ाई करने वाले छात्रों को डिप्लोमा का सर्टिफिकेट दिया जाता है. जिसके बाद उन्हें जूनियर इंजीनियर के पद पर नियुक्त करके नौकरी दी जाती है

पॉलिटेक्निक के अंतर्गत पढ़ाए जाने वाले कोर्स कई तरह के हैं जिसे ज्वाइन करके मैकेनिकल इंजीनियरिंग, सिविल इंजीनियरिंग, इलेक्ट्रॉनिक इंजीनियरिंग, इलेक्ट्रिकल इंजीनियरिंग और कई तरह के कोर्स किए जा सकते हैं. एक बार जब आप पॉलिटेक्निक में डिप्लोमा कर लेते हैं और आगे पढ़ाई करना चाहते हैं तो आप बी.टेक कर सकते हैं. बीटेक करने के लिए आपको लैटरल एंट्री के रूप में सेकंड ईयर में एडमिशन लेना पड़ता है. जी हां आप जब यह कोर्स करते हैं तो यह 3 साल का कोर्स होता है और बी टेक इंजीनियरिंग के फर्स्ट ईयर में पढ़ाई नहीं करनी पड़ती. सीधे तौर पर आपको सेकंड ईयर में एडमिशन मिलता है जिसे लेटरल एंट्री के नाम से जानते हैं.

पॉलिटेक्निक करने के लिए 10वीं पास करने के बाद स्टूडेंट्स को एक एंट्रेंस एग्जामिनेशन लिखना पड़ता है. एंट्रेंस एग्जामिनेशन निकाल लेने के बाद अच्छी रैंक लाने पर उन्हें अपने पसंदीदा ब्रांच को चुनकर उसमें पढ़ाई करने का मौका दिया जाता है. इसके साथ मिलने वाले कॉलेज मुख्य रूप से सरकारी कॉलेज अधिकतर होते हैं जिन में एडमिशन ले कर पढ़ाई करना काफी सस्ता पड़ता है वहीं अगर कोई डिप्लोमा करने के लिए किसी प्राइवेट कॉलेज में एडमिशन लेता है तो उसकी फीस काफी महंगी होती है.

Polytechnic दो शब्दों से मिलकर बना हुआ है.

Poly+Technic

  1. Poly – बहुत सारे
  2. Technic – तकनीक

यानी कि पॉलिटेक्निक एक ऐसा कोर्स है जिसके अंतर्गत बहुत सारे टेक्नोलॉजी रिलेटेड कोर्स कराए जाते हैं. जैसे इसके अंदर अगर कोई कंप्यूटर के बारे में पढ़ना चाहे तो कंप्यूटर इंजीनियरिंग कराई जाती है. किसी को सॉफ्टवेयर फील्ड में इंटरेस्ट होता है तो उसके लिए सॉफ्टवेयर इंजीनियरिंग है. मेकेनिकल इंजीनियर के तौर पर अपने करियर को बनाना चाहता है तो उसके लिए मेकेनिकल इंजीनियरिंग है. किसी को इंफ्रास्ट्रक्चर और बिल्डिंग्स वगैरह बनाने की ख्वाहिश होती है वह सिविल इंजीनियरिंग करते हैं. इस तरह से देखा जाए तो पॉलिटेक्निक सभी तरह के इंजीनियरिंग ब्रांच का एक मिश्रण है. जिसमें पढ़कर युवा अपने भविष्य को सही दिशा और रास्ता में ले जाते हैं.

पॉलिटेक्निक कैसे करें?

पॉलिटेक्निक के अंतर्गत पढ़ाई करने के लिए सबसे पहले तो इसमें प्रवेश लेना जरूरी है. पॉलिटेक्निक में प्रवेश पाने के लिए स्टूडेंट्स को एक एंट्रेंस एग्जामिनेशन लिखना पड़ता है. एंट्रेंस एग्जामिनेशन हर साल लिया जाता है जिसमें लाखों विद्यार्थी एग्जाम में बैठते हैं. जो पास करते हैं और अच्छी रैंक लाते हैं और उन्हें अच्छे कॉलेज में एडमिशन मिल जाता है.

सबसे अच्छा तरीका यह है कि जैसे ही आप दसवीं पास करते हैं और उसमें अच्छे नंबर ले आते हैं तो आप इस एग्जामिनेशन में बैठकर लिख सकते हैं और अगर आप इस एग्जाम को निकाल लेते हैं तो फिर आप के लिए पॉलिटेक्निक में एडमिशन लेना कोई बड़ी बात नहीं होगी. एडमिशन लेने के बाद में आपको एक ब्रांच पढ़ाई करने के लिए मिलता है जो के 3 सालों के लिए एक कोर्स के रूप में आपको करना होता है. डिप्लोमा इन इंजीनियरिंग के तौर पर आपको यह 3 साल तक पढ़ाई करनी पड़ती है जिसके बाद आपको डिप्लोमा का सर्टिफिकेट मिल जाता है. इस प्रकार आप एक जूनियर इंजीनियर के पद पर किसी कंपनी में काम कर सकते हैं.पॉलिटेक्निक करने के लिए और क्या क्या क्राइटेरिया होता है यानी कि इससे पढ़ाई करने के लिए विद्यार्थियों में क्या योग्यता होनी चाहिए यह कोर्स कितने दिनों का होता है और इसे करने के बाद क्या होता है चलिए इन सभी बातों को जानते हैं.

पॉलिटेक्निक कोर्स के लिए योग्यता – eligibility criteria for diploma

पॉलिटेक्निक कोर्स करने के लिए दो मौके होते हैं. यानी कि जब आप दसवीं पास कर लेते हैं उसके बाद में डिप्लोमा इंजीनियरिंग यानी कि पॉलिटेक्निक के लिए होने वाले एंट्रेंस एग्जाम को लिख सकते हैं और दूसरी बार तब आप इसके एग्जाम बैठ सकते हैं जब आप 12वीं पास कर लेते हैं.

10th Level

दसवीं पास कर लेने के बाद में आपको एंट्रेंस एग्जामिनेशन के लिए DET (Diploma Entrance Test) लिखना पड़ता है. एग्जामिनेशन पास करने के बाद में आप का सिलेक्शन हो जाता है. अगर आप entrance एग्जामिनेशन में बहुत ही अच्छे अंक से पास करते हैं तो फिर सबसे अच्छे और बेस्ट सरकारी डिप्लोमा कॉलेज में आपका एडमिशन हो जाता है. इस तरह आप जो एडमिशन लेते हैं इसमें आपको फीस काफी कम लगती है. वहीं अगर आप एंट्रेंस एग्जामिनेशन में अच्छे नंबर नहीं ला पाते हैं तो आपको किसी प्राइवेट कॉलेज में एडमिशन लेना पड़ता है इसके लिए आपको फीस भी काफी चुकानी पड़ती है. दसवीं के बाद पॉलिटेक्निक कोर्स करने के लिए 3 साल लगता है.

12th Level

अगर आप सोच रहे हैं कि 12वीं के बाद में डिप्लोमा कोर्स किया जाए तो इसके लिए आपके पास पॉलिटेक्निक एक अच्छा विकल्प साबित हो सकता है. 12वीं पास कर लेने के बाद डिप्लोमा कोर्स करना होता है वह सिर्फ 2 साल का ही करना होता है.

B est polytechnic courses after 10th (पोलीटेक्निक के खास प्रमुख डिप्लोमा कोर्स)

  • डिप्लोमा इन गारमेंट टेक्नोलॉजी Diploma In Garment Technology
  • डिप्लोमा इन प्रिंटिंग टेक्नोलॉजी Diploma In Printing Technology
  • डिप्लोमा इन लेदर टेक्नोलॉजी Diploma In Leather Technology
  • डिप्लोमा इन इंस्ट्रूमेंटेशन टेक्नोलॉजी Diploma In Instrumentation Technology
  • डिप्लोमा इन इनफॉरमेशन टेक्नोलॉजी Diploma In Information Technology
  • डिप्लोमा इन टेक्सटाइल टेक्नोलॉजी Diploma In Textile Technology
  • डिप्लोमा इन प्लास्टिक टेक्नोलॉजी Diploma In Plastic Technology
  • डिप्लोमा इन बायोटेक्नोलॉजी Diploma in Biotechnology
  • डिप्लोमा इन कंप्यूटर साइंस Diploma In Computer Science
  • इंजीनियरिंग डिप्लोमा Engineering Diploma
  • डिप्लोमा इन इलेक्ट्रिकल इंजीनियरिंग Diploma In Electrical  Engineering
  • डिप्लोमा इन इलेक्ट्रॉनिक्स एंड कम्युनिकेशन इंजीनियरिंग Diploma In Electronics & Communication  Engineering
  • डिप्लोमा इन इलेक्ट्रिकल एंड टेलीकम्युनिकेशन इंजीनियरिंग Diploma In Electrical & Communication  Engineering
  • डिप्लोमा इन सिविल इंजीनियरिंग Diploma In Civil Engineering
  • डिप्लोमा इन मैकेनिकल इंजीनियरिंग Diploma In Mechanical Engineering
  • डिप्लोमा इन बायोमेडिकल इंजीनियरिंग Diploma In Biomedical Engineering
  • डिप्लोमा इन मरीन इंजीनियरिंग Diploma In Marine Engineering
  • डिप्लोमा इन ऑटोमोबाइल इंजीनियरिंग Diploma In Automobile Engineering
  • डिप्लोमा इन एग्रीकल्चरल इंजीनियरिंग Diploma In Agriculture Engineering
  • डिप्लोमा इन प्रोडक्शन Diploma In Production
  • डिप्लोमा इन आर्किटेक्चर  Diploma In Architecture
  • डिप्लोमा इन फैशन डिजाइन Diploma In Fashion Designing
  • डिप्लोमा इन अपेरल डिजाइन Diploma In Apparel Design
  • डिप्लोमा इन बिजनेस एडमिनिस्ट्रेशन Diploma In Business Administration
  • डिप्लोमा इन मेडिकल लैब Diploma In Medical Lab
  • डिप्लोमा इन लाइब्रेरी एंड इनफॉरमेशन साइंस Diploma In Library and Information Science

तो है ना पोलीटेक्निक कमाल की चीज़। तो अगर आप भी हैं 10वीं पास और ऐसा ही कोई मौका तलाश रहे हैं तो ये जानकारी आपके लिए काफी काम की साबित हो सकती है। 3-3 साल के ये डिप्लोमा कोर्स कर आपके अच्छे करियर में काफी फायदेमंद साबित हो सकता है। इसकी खासियत ये है कि जिस कोर्स के लिए 12वीं के बाद चार साल लगते हैं वही 10वीं के बाद पॉलीटेक्निक करने पर सिर्फ तीन साल का डिप्लोमा करना होता है जिससे सीधे-सीधे 3 साल बच जाते हैं। वही ये कोर्स करने के बाद आप निजी या सरकारी कही भी अच्छी नौकरी हासिल कर सकते हैं।

Get real time updates directly on you device, subscribe now.