लापरवाही की हद पार | मोर्चरी में रखे बंदी के शव को चूहों ने कुतरा, लगा जुर्माना

6

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

और कैसा राम राज्य चाहिए? Satire

Basti , Uttar Pradesh :

जेल में बंद बुजुर्ग मो. वसीम की मौत के बाद शव को जानवर खाने व पैर गायब होने के मानवाधिकार आयोग में शिकायत को लेकर जांच में नए तथ्य उभर कर सामने आए हैं। पोस्टमार्टम रिपोर्ट में एनीमल बाइट की बात तो लिखी गई है, मगर जो तथ्य जांच में मिले हैं, उसमें चूहा अथवा छछूंदर के कुतरने से कान व चेहरे पर हल्का घाव होने की संभावना व्यक्त की गई है। इसके अलावा पैर में जिस टेप के लगने की बात शिकायतकर्ता की ओर से हुई है। वास्तव में वह पस था, जो मृतक के पैर से निकल कर जम गया था और वीडियोग्राफी में वह टेप जैसा नजर आ रहा था।

उल्लेखनीय है संतकबीर नगर निवासी विचाराधीन बंदी 70 वर्षीय मो. वसीम कैंसर से पीड़ित था। चार नवंबर को उसकी तबीयत अचानक खराब हुई तो उसे जिला अस्पताल लाया गया, जहां चिकित्सकों ने उसे मृत घोषित कर दिया। इसके बाद परिजनों ने यह आरोप लगाया कि दो दिनों तक शव को मोर्चरी में रखा गया था। यहां शव के एड़ी के पास व कान को जानवर ने खा लिया। यही नहीं आरोप था कि उसके पैर के पास टेप लगाकर घाव को छिपा दिया गया। इसे लेकर मानवाधिकार आयोग ने जब जुर्माना ठोका तो स्वास्थ्य विभाग के होश उड़ गए।

घटना की जानकारी होते ही तत्काल एसीएमओ डॉ. सीएल कन्नौजिया, वरिष्ठ परामर्शदाता डॉ. रामप्रकाश व डॉ. एसबी सिंह की तीन सदस्यीय टीम ने इसकी जांच की। जांच में मिले तथ्यों के आधार पर टीम ने यह लिखा कि मृतक के शव पर जो निशान थे वह संभावना है कि चूहे अथवा छछूंदर से कुतरा है। टीम ने यह भी लिखा है कि आरोप लगाया गया है कि दाएं नितंब पर टेप लगाकर घाव को छिपाया गया है, मगर यहां कोई टेप नहीं बल्कि मृतक के शरीर से निकला पस जम गया था, जो टेप जैसा प्रतीत होता है।

एसीएमओ डॉ. फखरेयार हुसैन ने बताया कि यहां की मोर्चरी का फ्रिज खराब है और फाटक क्षतिग्रस्त हो गया है। ऐसे में मृतक के शव को जानवर ने नहीं बल्कि चूहा अथवा छछूंदर के कुतरने की संभावना है। यह सही है कि मृतक के शव को सम्मान के साथ रखना चाहिए। इसे लेकर जांच में टिप्पणी कर दी गई है। कहा कि वीडियोग्राफी में जिसे टेप समझा जा रहा है वास्तव में वह मृतक के शरीर से निकला पस था, जो जम गया था और वह टेप जैसा नजर आ रहा है। रिपोर्ट शासन को भेज दी गई है।

Get real time updates directly on you device, subscribe now.