बस्ती में नौ डिग्री पहुंचा न्यूनतम तापमान, बढ़ी ठण्ड

32


बस्ती। पहाड़ों पर हो रही बर्फबारी का असर दिखने लगा है। लगातार दो दिनों से सर्दी बढ़ गई है। धीमी गति से उत्तर पश्चिमी हवाओं के चलने से रात तो दूर, दिन में भी ठंड महसूस होने लगी है। अधिकतम तापमान गिरकर 22 डिग्री सेल्सियस पर आ गया है, जबकि न्यूनतम तापमान नौ डिग्री सेल्सियस दर्ज किया गया है। मौसम के जानकारों का कहना है कि आगामी 36 घंटे के अंदर तापमान में और गिरावट हो सकती है।


आचार्य नरेंद्र देव कृषि विश्वविद्यालय कुमारगंज अयोध्या के मौसम विभाग से जारी पूर्वानुमान के अनुसार, आगामी 24 घंटे के दौरान हल्के बादल छाए रहने के आसार हैं। मौसम विज्ञानी डॉ. अमरनाथ मिश्र के अनुसार, इधर न्यूनतम तापमान में बढ़ोत्तरी का अनुमान नहीं है। अलबत्ता दो दिन बाद यानी मंगलवार को अधिकतम तापमान में एक से दो डिग्री की बढ़ोत्तरी हो सकती है। न्यूनतम तापमान के 10 डिग्री से नीचे चले जाने से रविवार को जबरदस्त गलन महसूस की गई। घर के बाहर हो या अंदर, हर कोई ठंड से ठिठुरता नजर आया। सर्दी से बचने के लिए ऊनी कपड़े पहनकर बाहर निकले लोग भी ठंड से परेशान दिखे। रात के वक्त गांधीनगर, पुरानी बस्ती, मंगल बाजार आदि व्यावसायिक एरिया में चहल-पहल कम देखी गई। कड़ाके की सर्दी में राहगीरों व दोपहिया वाहन चालकों की मुसीबत बढ़ गई है। देर शाम बाइक चलाते समय गलन के कारण हाथ सुन्न पड़ गए। नेहरू तिराहा, रोडवेज बस स्टैंड, रेलवे स्टेशन सहित सार्वजनिक स्थलों पर गरीब व बेसहारा लोग ठंड से ठिठुरते नजर आए।

पिछले वर्ष से राहत


पिछले वर्ष दिसंबर में रिकॉर्ड तोड़ ठंडी थी। खासकर 10 दिसंबर के बाद न्यूनतम तापमान सात-आठ डिग्री सेल्सियस आ गया था, जबकि अधिकतम तापमान भी 20 डिग्री से नीचे था। आंकड़े बताते हैं कि 20 दिसंबर से 15 जनवरी तक मौसम बेहद सर्द रहा। इस लिहाज से देखें तो फिलहाल काफी राहत है।


खेती के लिए बेहतर है मौसम


खेती के लिहाज से देखें तो इस बार मौसम काफी अनुकूल है। अक्टूबर में हुई बारिश के कारण धान की फसल चौपट हो गई। निचले एरिया में पानी भरने से धान की कटाई में देर हुई और अब रबी की बुआई भी काफी पिछड़ गई है। इसलिए दिन में अच्छी धूप होने से किसानों को बुआई के लिए खेत तैयार करने में काफी सुविधा हो रही है