Mgnrega-corruption-complaint-Basti : मनरेगा के तहत हुआ लाखों रुपयों का गबन, जांच करने पहुंचे अधिकारी, कलवारी…

0 572

📍 कलवारी बस्ती | हरैया टाईम्स न्यूज़ सर्विस

जिले के कलवारी थाना अन्तर्गत बेलवाडाड़ गांव में पूर्व ग्राम प्रधान ने गांव की व्यक्तिगत जमीन को तालाब बताकर फर्जी खुदाई – सफाई के नाम पर मनरेगा का करीब दो लाख रुपया गबन कर लिया। गांव के लोगों का कहना है कि वहां मौके पर न ही कोई तालाब है और न ही कभी था। ग्राम प्रधान ने मनरेगा के तहत 41 मजदूरों के जॉब कार्ड पर फर्जी हाज़िरी लगाकर ग्राम वासियों को भी फर्जीवाड़ा में फसा दिया।

बेलवाडाड़ गांव के निवासी और शिकायतकर्ता डॉ. प्रेम नारायण..


बेलवाडाड़ गांव के निवासी और शिकायतकर्ता डॉ. प्रेम नारायण ने बताया कि “करीब साल भर पहले मुझे गांव में हुए इस तरह के भ्रष्टाचार की जानकारी मिली और मैने गांव का निवासी और एक समाजिक कार्यकर्ता होने के नाते इस बाबत जिलाधिकारी समेत अन्य उच्चाधिकारियों को शिकायत दी लेकिन शुरुआत में श्री सुधीर कुमार चक्रवर्ती भूमि संरक्षण अधिकारी ने मामले में लीपा-पोती करके दबाना चाहा और फिर गलत जांच रिपोर्ट दिया।

इसे भी पढ़ें : गौर ब्लॉक बस्ती न्यूज़ : गौर ब्लॉक के रानीपुर में सड़क के नाम पर घोटाला

इस भ्रष्टाचार को उजागर करने के लिए प्रयागराज हाईकोर्ट का दरवाजा खटखटाया और जिलाधिकारी, बस्ती को प्रत्यावेदन के निस्तारण हेतु आदेशित किया गया। जिस संबंध में आज मुख्य विकास अधिकारी व अन्य मौके पर जांच के लिए आए हैं।”

मुख्य विकास अधिकारी,बस्ती व अन्य संबंधित अधिकारियों ने …


मुख्य विकास अधिकारी,बस्ती व अन्य संबंधित अधिकारियों ने ग्रामवासियों के समक्ष मौके का जायजा लिया और लाखों के गबन और भ्रष्टाचार पर आवश्यक कार्यवाही करने की बात कही।

वर्तमान लेखपाल श्रीमती ओमिनी यादव


वर्तमान लेखपाल श्रीमती ओमिनी यादव ने बताया कि बेलवाडाड़ विद्यालय के पास सरकारी अभिलेखों में कोई तालाब नहीं है और मनरेगा में हुए भ्रष्टाचार की जांच संबंधित विभाग के सक्षम अधिकारी से कराए जाने हेतु आख्या भेजी गई थी ।

ग्रामवासी …


मौके पर मौजूद ग्रामवासी इस तरह के व्यापक भ्रष्टाचार से नाखुश हैं और पूर्व ग्राम प्रधान से नाराजगी भी जाहिर की। बेलावाडाड़ के निवासी जसवंत कुमार बताते हैं ” मैं इसी गांव का निवासी हूं और यहां पर न ही कोई तालाब था और न ही उसमें किसी प्रकार की खुदाई -सफाई का कार्य कराया गया है।सारा मामला फर्जी है और मुझे आशंका है कि मौके पर आए जांच अधिकारी मामले में लीपा – पोती कर सकते हैं। “

इसे भी पढ़ें : Pmkisan में कराएं रजिस्ट्रेशन, नहीं तो होगा 6000 रूपए का नुकसान जल्दी करें – Pm kisan samman yojana