बिपिन रावत मधुलिका रावत | Madhulika Rawat Wikipedia, age, Death, Husband Family, Biography in HINDI

13

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

बिपिन रावत मधुलिका रावत | Madhulika Rawat Wikipedia, age, Death, Husband Family, Biography in HINDI,

सिंधिया स्कूल के एक कमरे में 5 छात्राओं के साथ रहती थीं मधुलिका रावत, 2018 में आई थीं ग्वालियर Photos

Coonoor Chopper Crash: ग्वालियर, बुधवार को कुन्नूर हेलिकॉप्टर क्रेश (Coonoor Chopper Crash: ) में CDS जनरल बिपिन रावत और उनकी पत्नी मधुलिका के निधन के बाद CDS बिपिन रावत और मधुलिका के हादसे की खबर लगते ही ग्वालियर में भी शौक की लहर है. मधुलिका की क्लासमेट रही डॉ. रोज़ा ओलियाई ने 1981में स्कूली वक्त के कई किस्से शेयर किए. रोज़ा ने बताया कि मधुलिका ने फरवरी में अपने ग्रुप से मिलने ग्वालियर आने का वादा किया था.(रिपोर्ट- सुशील कौशिक, ग्वालियर)

CDS बिपिन रावत और मधुलिका के हादसे की खबर लगते ही ग्वालियर में भी शौक की लहर है. मधुलिका की क्लासमेट रही डॉ. रोज़ा ओलियाई ने 1981में स्कूली वक्त के कई किस्से शेयर किए. रोज़ा ने बताया कि मधुलिका ने फरवरी में अपने ग्रुप से मिलने ग्वालियर आने का वादा किया था.

साल 2018 में जनरल बिपिन रावत के साथ मधुलिका रावत ग्वालियर के सिंधिया कन्या विद्यालय में आई थीं. डॉ. रोज़ा ने बताया कि बस मधुलिका से वही उनकी आखिरी मुलाकात थी. डॉ. रोज़ा के मुताबिक मधुलिका ने सहेलियों का एक वाट्सअप ग्रुप बनाया था, जिस पर उनकी मैसेज के जरिए बातचीत हुआ करती थी. फरवरी में उनकी सभी क्लासमेट्स ने ग्रुप टूर प्लान किया था. मधुलिका ने फरवरी में ग्वालियर आने का वादा किया था. लेकिन अब ये वादा कभी पूरा नही होगा.

मधुलिका और रोज़ा सहित कुल 6 छात्राएं एक रूम में रहती थीं. रोज़ा का कहना है मधुलिका बेहतरीन टेबल टेनिस प्लेयर थीं. रोज़ा और मधुलिका की जोड़ी ने डबल्स में खिताब भी जीता था. रोज़ा के मुताबिक मधुलिका हेल्पिंग नेचर की दोस्त थीं. मधुलिका से दोस्ती उसी गर्मजोशी से बरकरार रही.

उत्तराखंड: 1 KM पैदल चलकर अपने गांव पहुंचे थे रावत, किया था सड़क और अस्पताल बनवाने का वादा

CDS General Bipin Rawat Village: CDS बिपिन रावत जब 2018 में अपने पैतृक गांव आए थे, तब उन्होंने कहा था कि CDS पद से रिटायरमेंट के बाद गांव में सड़क बनाने की कोशिश करेंगे, लोगों को गांव में बसाया जाएगा. गांव और आसपास के लोगों के लिए इलाज की बेहतर व्‍यवस्‍था करवाई जाएगी.

  • 2018 में अपने पैतृक गांव आए थे रावत
  • रिटायरमेंट के बाद गांव के लिए कई प्‍लान थे
  • याद कर रो पड़े चाचा भरत सिंह

CDS Bipin Rawat Village: तारीख थी 29 अप्रैल 2018, जगह थी उत्तराखंड के पौड़ी गढ़वाल जिले का गांव सैण गांव. तब CDS बिपिन रावत अपने पैतृक गांव गए थे, उनके संग उनकी पत्‍नी मधुलिका रावत भी साथ थीं.

एक किलोमीटर पैदल चलकर वह अपने गांव पहुंचे थे. जब वह गांव पहुंचे थे तो लोग भावुक हुए ही, जनरल बिपिन रावत की आंखें भी नम हो गईं थी. तब से अब तक ढाई साल का समय बीत चुका है, गांव वालों को जैसे ही उनके निधन होने की जानकारी मिली, तो उनके लिए यकीन कर पाना मुश्किल था. 

CDS बिपिन रावत जब 2018 में गांव आए थे, तब उन्होंने कहा था कि CDS पद से रिटायरमेंट के बाद गांव में सड़क बनवाने की कोशिश करेंगे, लोगों को गांव में बसाया जाएगा. गांव और आसपास के लोगों के लिए इलाज की बेहतर व्‍यवस्‍था करवाई जाएगी, अस्‍पताल बनवाने तक की बात जनरल रावत ने की थी.

लेकिन होनी को कौन टाल सकता है? तमिलनाडु के कुन्‍नूर में उनका Mi-17V5 हेलिकॉप्‍टर 8 दिसंबर को दुर्घटनाग्रस्‍त हो गया. हादसे में उनकी पत्‍नी मधुलिका रावत समेत 13 लोगों की जान चली गई.बिपिन रावत जब अपने लोगों के बीच में थे तो उनका सीडीएस पद से रिटायर होने के बाद प्‍लान तैयार था, उन्‍होंने तय कर लिया था कि पौड़ी जिले के युवाओं को अधिक से अधिक सेना में भर्ती कराने के लिए सुविधाएं और जानकारी मुहैया करवाएंगे. लेकिन जो बुधवार को हुआ, उसके बाद से गांव में रहने वाले लोगों को यकीन कर पाना मुश्किल है कि ऐसा हो गया. जनरल बिपिन रावत के दादा, पिता भी फ़ौज में सेवा दे चुके है. बिपिन रावत के गांव की खास बात ये भी है कि उनके गांव के हर घर से कोई न कोई सेना में है.

Get real time updates directly on you device, subscribe now.