Life Insurance : जीवन बीमा पॉलिसी कितने तरह की होती हैं, सही पॉलिसी का चुनाव कैसे करें?

0 33

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

लाइफ इंश्‍योरेंस प्‍लान मुख्‍य रूप से दो तरह के होते हैं. एक शुद्ध प्रोटेक्शन प्लान होते हैं. दूसरे, बीमा और निवेश दोनों की मिलीजुली पेशकश करते हैं. इस तरह इनका फोकस वेल्थ क्रिएशन पर भी होता है.

शुद्ध प्रोटेक्शन प्‍लान के मामले में बीमाधारक की मौत पर बेनिफिट मिलता है. वहीं, अन्‍य दूसरी तरह की पॉलिसी में बीमाधारक के जीवित रहने पर भी बीमा की रकम का पेमेंट होता है. हर कैटेगरी में कई वैरिएंट होते हैं. पेमेंट के आधार पर ये जीवन में अलग-अलग तरह के उद्देश्यों को पूरा करती हैं.

टर्म इंश्‍योरेंस – Term Insurance

यह सबसे सरल बुनियादी प्रोटेक्‍शन प्‍लान है जो मौत के जोखिम को कवर करता है. बीमाधारक की किसी अनहोनी में असमय मौत की स्थिति में परिवार या नॉमिनी को एकमुश्‍त बीमित राशि का पेमेंट किया जाता है. ये प्‍लान अमूमन 85 साल की उम्र तक होते हैं.

डेथ बेनिफिट – Death Benifit


इस तरह के प्‍लान में बीमाधारक की मौत पर पेमेंट किया जाता है. अगर प्‍लान की अवधि में बीमाधारक जीवित रहता है तो उन्‍हें कोई मैच्‍योरिटी बेनिफिट नहीं मिलता है. हालांकि, रिटर्न ऑफर करने वाले लाइफ प्‍लान की मांग के चलते एक वैरियंट में मैच्योरिटी पर प्रीमियम की वापसी होती है.

प्रीमियम – Premium


टर्म प्‍लान का प्रीमियम सबसे कम होता है. इसमें काफी बड़ा कवर कम प्रीमियम में मिल जाता है. पॉलिसी की अवधि के दौरान प्रीमियम फिक्स हो सकता है.

टर्म प्‍लान के प्रकार


1. रेगुलर प्‍लान


यह शुद्ध प्रोटेक्‍शन प्‍लान है. इसमें बीमित व्यक्ति की मौत पर सम एश्योर्ड का पेमेंट होता है.
30 साल के व्यक्ति के लिए 40 साल के 1 करोड़ रुपये के टर्म प्‍लान पर सालाना प्रीमियम : 11,210 रुपये

2. रिटर्न ऑफ प्रीमियम


रेगुलर प्‍लान की तरह इसमें पॉलिसीधारक की पॉलिसी अवधि के दौरान मौत होने पर बेनिफिट का पेमेंट किया जाता है. हालांकि, इसमें पॉलिसीधारक पॉलिसी अवधि के दौरान जीवित रहता है तो चुकाए गए प्रीमियम का भुगतान किया जाता है. यह अवधि 10-40 साल हो सकती है.
30 साल के व्‍यक्ति के लिए 40 साल के 1 करोड़ रुपये के टर्म प्‍लान पर सालाना प्रीमियम : 17,969 रुपये

3. स्‍टैगर्ड पेमेंट


इस तरह के प्‍लान में पॉलिसीधारक की मौत होने पर नॉमिनी को डेथ बेनिफिट का एक हिस्‍सा दिया जाता है. बाकी की रकम धीरे-धीरे 10-20 साल में दी जाती है.
30 साल के व्‍यक्ति के लिए 15 साल की अवधि में 10 लाख रुपये और 50,000 रुपये मासिक पेमेंट का प्रीमियम : 15,725 रुपये

4. सिंगल प्रीमियम


जो लोग प्‍लान की पूरी अवधि के दौरान प्रीमियम का भुगतान नहीं करना चाहते हैं, इस विकल्प के साथ वे एकमुश्‍त पूरा प्रीमियम दे सकते हैं. इस तरह के प्‍लान का टर्म अमूमन 85 साल होता है.
30 साल के व्यक्ति के लिए 20 साल के 1 करोड़ रुपये के टर्म प्‍लान पर सालाना प्रीमियम : 1.8 लाख रुपये

5. बढ़ता/घटता प्रीमियम


जैसा कि नाम से पता चलता है कि इसमें सम एश्योर्ड बढ़ या घट सकता है. हालांकि, प्रीमियम में बदलाव नहीं होता है. यह अमूमन रेगुलर प्‍लान के मुकाबले ज्‍यादा होता है.
30 साल के व्‍यक्ति के लिए 1 करोड़ रुपये के बढ़ते टर्म प्‍लान पर सालाना प्रीमियम : 22,801 रुपये

किसे खरीदना चाहिए?


कोई अगर परिवार में कमाऊ व्यक्ति है जिस पर लोग आश्रित हैं या उस व्‍यक्ति पर लोन इत्यादि की जिम्‍मेदारी है तो उसे पॉलिसी जरूर खरीदनी चाहिए. अगर कोई व्‍यक्ति कमा नहीं रहा है या फिर रिटायर हो चुका है और उस पर कोई आश्र‍ित नहीं है तो वह इसे नजरअंदाज कर सकता है.

होल लाइफ इंश्‍योरेंस – Whole Life Insurance


इसे परमानेंट प्‍लान भी कहा जाता है. यह बेसिक टर्म प्‍लान से अलग है. यह पूरी जिंदगी या 10 साल के लिए कवर की पेशकश करता है. यह प्‍लान दो तरह का होता है

डेथ/ मैच्‍योरिटी बेनिफिट


बीमित व्‍यक्ति की मौत होने पर नॉमिनी को एकमुश्‍त रकम मिलती है. अगर वह 100 साल तक जीवित रहता है तो उसे मैच्‍योरिटी की रकम दी जाती है.

प्रीमियम


पॉलिसी की अवधि के दौरान प्रीमियम एक जैसा रहता है. होल लाइफ प्‍लान के दूसरे वैरियंट में आप छोटी अवधि मसलन 15 साल के लिए प्रीमियम दे सकते हैं.
30 साल के व्‍यक्ति के लिए होल लाइफ प्‍लान का सालाना प्रीमियम : 15,167 रुपये

किसे खरीदना चाहिए?


अगर विरासत में बच्‍चों के लिए कुछ छोड़कर नहीं जाना है तो इससे बचना चाहिए.

ट्रेडिशनल इंश्‍योरेंस प्‍लान – Traditional Insurance Policy


इस तरह के लाइफ इंश्‍योरेंस प्‍लान इंश्‍योरेंस और इंवेस्‍टमेंट का मिलाजुला प्रारूप होते हैं. लेकिन, मुख्य रूप से इनका इस्तेमाल पैसे बढ़ाने के लिए किया जाता है. इनमें प्रोटेक्शन बहुत कम मिलता है. पेमेंट की अवधि के आधार पर ये दो कैटेगरी में बंटे होते हैं.

1. एनडावमेंट प्‍लान


डेथ/मैच्योरिटी बेनिफिट


ये प्‍लान पॉलिसीधारक की मौत होने पर नॉमिनी को बीमित राशि का पेमेंट बोनस के साथ करते हैं. पॉलिसी की अवधि में पॉलिसीधारक के जीवित रहने पर उन्‍हें मैच्‍योरिटी पर गारंटीशुदा बोनस के साथ पेमेंट किया जाता है.

प्रीमियम – Premium


टर्म प्‍लान की तुलना में प्रीमियम बहुत ज्‍यादा होता है. इस निर्धारित सालों तक देना पड़ता है.
30 साल के व्‍यक्ति के लिए 20 साल के 10 लाख रुपये के प्‍लान पर सालाना प्रीमियम : 1.04 लाख रुपये

2. मनीबैक प्‍लान


डेथ/मैच्‍योरिटी बेनिफिट


यहां मुख्‍य अंतर यह है कि इसमें पेमेंट नियमित अंतराल पर धीरे-धीरे होता है. पॉलिसीधारक के जीवित रहने पर मैच्‍योरिटी पर बोनस भी दिया जाता है.

प्रीमियम


एनडावमेंट प्‍लान की तरह टर्म प्‍लान की तुलना में प्रीमियम ज्यादा होता है. यह प्रीमियम इंश्‍योरेंस और इंवेस्‍टमेंट बंटता है.

किसे खरीदना चाहिए?


केवल तभी खरीदना चाहिए अगर आप में निवेश करने के लिए अनुशासन नहीं है. चूंकि इनमें कम कवर और कम रिटर्न मिलता है. लिहाजा, इनसे परहेज किया जा सकता है. इन्‍हें टैक्‍स सेविंग इंस्‍ट्रूमेंट समझने की भी भूल नहीं करें.

Get real time updates directly on you device, subscribe now.