King Mahendra Prasad Bihar (किंग महेंद्र बिहार ) Family, Son, Death, Wikipedia, Bio, Patna House, News

43

King Mahendra Prasad Bihar (किंग महेंद्र बिहार ) Family, Son, Death, Wikipedia, Bio, Patna House

Table of Contents

सबसे अमीर सांसदों में एक किंग महेंद्र का निधन, पहले राजीव गांधी; बाद में नीतीश कुमार के बने खास

पटना Death of King Mahendra : जदयू के राज्‍यसभा सदस्‍य (Rajyasabha Member) महेंद्र प्रसाद उर्फ किंग महेंद्र का (Mahendra Prasad alias King Mahendra) दिल्‍ली के अपोलो अस्‍पताल में निधन हो गया है। वे लंबे अरसे से बीमार चल रहे थे। बताया जा रहा है कि रविवार की आधी रात तकरीनबन 12.30 बजे उन्‍होंने आखिरी सांसें लीं। उनकी उम्र 80 वर्ष से अधिक थी। उन्हें देश के सबसे धनी सांसदों में शुमार किया जाता था। बेहद गरीबी में बचपन गुजरने वाले किंग महेंद्र मशहूर दवा कंपनी एरिस्‍टो (Aristo) के मालिक भी थे। अभी उनका राज्यसभा में दो साल का कार्यकाल बचा हुआ था।

नामKing Mahendra Prasad (किंग महेंद्र )
जन्मजहानाबाद जिले के गोविंदपुर
जन्म वर्ष1940
पार्टी जनता दल ( यूनाइटेड )
राज्यबिहार
अन्य पार्टीकांग्रेस
करीबीनीतीश कुमार और राजीव गांधी
मृत्यु27 DEC 2021
मलिकमैप्रा लेबोरेटरीज प्राइवेट लिमिटेड और अरिस्टो फार्मास्यूटिकल कंपनी

जहानाबाद जिले के गोविंदपुर में हुआ था जन्‍म

किंग महेंद्र का जन्म 1940 में बिहार के जहानाबाद जिले के गोविंदपुर गांव में हुआ था। चार दशक से भी ज्यादा समय से वह राजनीति में थे। पहली बार 1980 मे कांग्रेस के टिकट पर जहानाबाद से लोकसभा सदस्य चुने गए थे। आज उनका अंतिम संस्कार लोधी रोड स्थित श्मशान घाट में दोपहर 12 बजे किया जाएगा।

जहानाबाद जिले के लोगों को रहता था गर्व

जहानाबाद जिले के लोगों को किंग महेंद्र पर हमेशा गर्व रहा। एक छोटे से गांव से अपना सफर करते हुए वे बेहद ऊंचे मुकाम तक पहुंचे। कहा जाता है कि अरिस्टो कंपनी में खासकर जहानाबाद के लगभग 2000 से ज्यादा लोगों को इन्होंने नौकरी दी थी।

कांग्रेस के टिकट पर जीते थे लोकसभा चुनाव

किंग महेंद्र देश के बड़े व्‍यवसायियों में शुमार थे। दवा व्‍यवसाय में उनकी तूती बोलती थी। उन्‍होंने 1980 में राजनीति की तरफ कदम रखा था। वे कांग्रेस के टिकट पर जहानाबाद लोकसभा सीट से चुनाव जीते थे। हालांकि, प्रधानमंत्री राजीव गांधी की हत्‍या के बाद कांग्रेस की लहर में भी वे 1984 का चुनाव हार गए। संजय गांधी और राजीव गांधी के करीबी रहे किंग महेंद्र के राजनीतिक रसूख का अंदाज़ा इसी बात से लगाया जा सकता है कि 1984 का लोकसभा चुनाव वह हार गए तो राजीव गांधी ने अगले ही साल उन्हें राज्यसभा सदस्य बन दिया। तब से उन्होंने पार्टी भले बदली, लेकिन राज्यसभा सदस्य लगातार बने रहे।

दुनिया के कई देशों में है दवा कंपनी का कारोबार

किंग महेंद्र का दवा कारोबार भारत सहित दुनिया के कई देशों में फैला हुआ है। दो साल पहले छपी एक रिपोर्ट में उन्‍हें सात हजार करोड़ रुपए की संपत्ति और व्‍यवसाय का मालिक बताया गया था। अरिस्टो फार्मास्यूटिकल कंपनी के साथ ही वे मैप्रा लेबोरेटरीज प्राइवेट लिमिटेड के भी मालिक थे। उन्‍होंने 1971 में अरिस्टो फार्मास्यूटिकल नाम की दवा कंपनी शुरू की थी।

महेंद्र प्रसाद के किंग बनने की कहानी:गरीबी, बेरोजगारी से तंग 24 साल की उम्र में भाग गए थे मुंबई, 16 साल बाद ‘किंग’ बनकर लौटे

देश के सबसे अमीर राज्यसभा सांसदों में से एक महेंद्र प्रसाद उर्फ किंग महेंद्र नहीं रहे। दिल्ली के अपोलो अस्पताल में रविवार देर रात 12.30 बजे उन्होंने अंतिम सांस ली। वह लंबे समय से बीमार चल रहे थे। करीब 4 हजार करोड़ रुपए की संपत्ति के मालिक थे। एक गरीब किसान के बेटे की अरबपति बनने की कहानी किसी फिल्म से कम नहीं है। इन्होंने आज तक कभी राज्यसभा चुनाव नहीं हारा। चाहे पार्टी कोई हो, 1985 से वह लगातार राज्यसभा पहुंचते रहे हैं। तभी तो 2012 में JDU की तरफ से राज्यसभा के लिए चुने जाने पर एक इंटरव्यू में किंग ने कहा था, ‘अगर राज्यसभा में एक ही सीट खाली होती, तो भी मैं ही चुना जाता।’

महेंद्र प्रसाद के किंग महेंद्र बनने की कहानी…

बिहार के जहानाबाद से करीब 17 किलोमीटर दूर गोविंदपुर गांव के एक भूमिहार परिवार में महेंद्र प्रसाद का जन्म हुआ था। पिता वासुदेव सिंह साधारण किसान थे। बावजूद इसके उन्होंने महेंद्र को पटना कॉलेज से अर्थशास्त्र में BA करवाया। बताया जाता है कि इसके बाद उनकी नौकरी नहीं लगी तो वह गांव पहुंच गए। काफी परेशान थे। घर की माली हालत ठीक नहीं थी। तभी एक साधु मिला, जिसने उनको एक पुड़िया दी और कहा कि इसे नदी किनारे जाकर सपरिवार खा लेना। सारा दुख दूर भाग जाएगा। ग्रेजुएशन के बाद से बेरोजगारी झेल रहे महेंद्र को पता नहीं क्या सूझा, उन्होंने घर के लोगों को नदी किनारे ले जाकर पुड़िया दे दी और खुद भी खा लिया, इसमें परिवार के दो लोगों की मौत हो गई। यह घटना 1964 की है।

इस हादसे के बाद जब उन्हें अस्पताल से छुट्टी मिली तो वह गांव छोड़कर मुंबई चले गए। 16 साल बाद वह जहानाबाद 1980 में लोकसभा चुनाव लड़ने लौटे। उस वक्त वह कांग्रेस के उम्मीदवार थे। पहली बार जहानाबाद के लोगों ने चुनाव में एक साथ इतनी गाड़ियां और प्रचारकों को देखा था। गाड़ियों की चमक और पैसों की खनक ने लोगों के मन में उनकी छवि किंग वाली बना दी।

बाद में उन्होंने स्थानीय लोगों की मांग पर गरीब और वंचित लोगों के बीच उच्च शिक्षा को बढ़ावा देने के लिए ओकारी, जहानाबाद में एक कॉलेज शुरू किया। इससे उन लड़कियों को भी मदद मिली जिन्हें उच्च शिक्षा के लिए बाहर जाने की अनुमति नहीं मिलती थी। उनके परोपकारी कार्यों ने उन्हें युवाओं के बीच एक कल्ट के रूप में स्थापित कर दिया और एक साधारण किसान का बेटा ‘किंग’ कहा जाने लगा।

मर जाउंगा, लेकिन नौकरी नहीं करुंगा

एक अखबार से बातचीत में महेंद्र प्रसाद के बचपन के मित्र रहे राजाराम शर्मा ने बताया था, ‘हादसे के बाद जब महेंद्र गांव छोड़कर गए तो उनके पास कुछ भी नहीं था, लेकिन जब लौटे तो किंग बनकर। वे एक छोटी दवा कंपनी में पहले साझेदार बने, फिर बाद में 1971 में 31 साल की उम्र में ही खुद की अपनी कंपनी बना ली।’

किंग की जिद के किस्सा बताते हुए शर्मा ने आगे बताया था, ‘ग्रेजुएशन के बाद मैं ओकरी हाई स्कूल में टीचर बन गया था। अपने मित्र महेंद्र प्रसाद को बेरोजगार देखकर कहा कि आप भी शिक्षक बन जाइए। महेंद्र ने उस प्रस्ताव को यह कहते हुए ठुकरा दिया कि मर जाना पसंद करूंगा, पर नौकरी नहीं करूंगा।’

हार गए थे चुनाव, फिर पहुंचे राज्यसभा

एरिस्टो फार्मा के मालिक किंग महेंद्र 1984 में हुए लोकसभा का चुनाव हार गये थे, लेकिन राजीव गांधी के करीबी होने के नाते वह कांग्रेस के टिकट पर राज्यसभा पहुंच गए। उसके बाद से वह लगातार राज्यसभा के सदस्य रहे। यह उनका सातवां टर्म था। भले ही उनकी पार्टियों की सदस्यता बदलती रही हो, लेकिन वे हर बार राज्यसभा पहुंचने में सफल रहे। उन्हें कभी लालू प्रसाद ने तो कभी नीतीश कुमार ने राज्यसभा में भेजा।

सदस्यता से मतलब, पद की नहीं लालसा

बताया जाता है कि साल 2005 में नीतीश कुमार के कहने पर उन्होंने JDU जॉइन की थी। बाद में JDU के एक वरिष्ठ नेता ने कहा था, ‘महेंद्र ने कभी भी किसी पद के लिए अपनी इच्छा नहीं जाहिर की, उन्हें बतौर राज्यसभा सांसद मिलने वाली पावर और सुविधाओं से ही खुशी मिलती है। उन्हें पता है कि कैसे बिजनेस और पॉलिटिक्स के बीच की दूरी मेंटेन करनी है।’

बाल-बाल बची थी जान

1985 में जब पंजाब में आतंकवाद अपने चरम पर था तो उस वक्त कांग्रेस ने महेंद्र प्रसाद को अमृतसर की लोकसभा सीट के लिए एक आब्जर्वर के तौर पर भेजा था। बाटला में पार्टी कार्यकर्ताओं की एक सभा थी और उनकी कार में धमाका हो गया, लेकिन वह बाल-बाल बच गए थे।

कई कंपनियों के थे मालिक

प्रसाद कई फार्मा कंपनियों का संचालन करते थे। उनकी मुख्य फर्म, अरिस्टो फार्मास्युटिकल्स का कारपोरेट मुख्यालय मुम्बई में है। इसके अलावा वियतनाम, श्रीलंका, म्यांमार और बांग्लादेश में शाखाओं तो हैं ही, यूरेशिया और अफ्रीका के अन्य देशों में भी कंपनी के दफ्तर हैं। उनकी अन्य कंपनियों में माप्रा लेबोरेटरीज और इंडेमी हेल्थ स्पेशलिटीज शामिल हैं और दोनों के मुख्यालय मुंबई में हैं। इसके अलावा हैदराबाद से दमन और सिक्किम तक भारत भर में उनकी कई फैक्ट्रियां चल रही हैं। वह मुंबई, दिल्ली, भारत और विदेश के बीच अपना समय बराबर बांटते हैं।

एक साल में की थी 84 देशों की यात्रा

बताया जाता है कि अप्रैल 2002 और अप्रैल 2003 के बीच प्रसाद ने 84 देशों की यात्रा की। वह काफी घुमक्कड़ प्रवृति के थी थे। इसकी चर्चा कई बार मुख्यमंत्री नीतीश कुमार भी अपने करीबियों से बातचीत के दौरान कर चुके हैं।

अगस्त 2002 में उन्हें एक यात्री पनडुब्बी कंपनी अटलांटिस सबमरीन द्वारा सम्मानित किया गया था, जब उन्होंने वेस्टइंडीज के कैरेबियन सागर में 173 फीट का गोता लगाया था।

कोर्ट में चल रहा संपत्ति विवाद का मामला

किंग के संपत्ति विवाद का मामला दिल्ली हाईकोर्ट में चल रहा है। उनके घरेलू और संपत्ति विवाद को सुलझाने के लिए कोर्ट ने गार्जियनशिप कमेटी बनाई है। इसमें किंग महेंद्र पत्नी (सतुला देवी), बड़ा बेटा (राजीव शर्मा) व भाई (उमेश शर्मा) थे। कोर्ट ने फिलहाल तीन साल के लिए यह व्यवस्था बनाई है।

PM मोदी और CM नीतीश ने जताया दुख

किंग के निधन पर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने गहरा दुख व्यक्त किया है। PM मोदी ने कहा, ‘मैं राज्यसभा सदस्य डॉ. महेंद्र प्रसाद जी के निधन से दुखी हूं। उन्होंने कई वर्षों तक संसद में अपनी सेवाएं दीं और वह कई सामुदायिक सेवा कार्यों में आगे रहे। उन्होंने हमेशा बिहार और उसके लोगों के कल्याण की बात की। मैं उनके परिवार के प्रति संवेदना प्रकट करता हूं। ओम शांति।’

वहीं, JDU नेता और बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने कहा, ‘महेंद्र प्रसाद का निधन समाज, राजनीति और उद्योग जगत के लिए बड़ी क्षति है।’

King Mahendra Prasad Bihar FAQs

King Mahendra Prasad (किंग महेंद्र ) का जन्म कहा हुआ था ?

जहानाबाद जिले के गोविंदपुर में हुआ था जन्‍म

King Mahendra Prasad (किंग महेंद्र ) कौन सी पार्टी से जुड़े थे ?

Congress & JDU