Kidnapping-of-innocent-for-sacrifice: बलि चढ़ाने के लिए मासूम का अपहरण, गोरखपुर जनपद का मामला

0 415

Kidnapping-of-innocent-for-sacrifice: बलि चढ़ाने के लिए मासूम का अपहरण, गोरखपुर जनपद का मामला

Innocent kidnapped for sacrifice in Gorakhpur, police arrested the accused woman in 5 hours and rescued the child

गोरखपुर न्यूज़ | हर्रैया टाईम्स न्यूज़ सर्विस

गोरखपुर के चौरीचौरा क्षेत्र से गुरुवार की रात छह साल के एक बच्चे का एक महिला ने अपहरण कर लिया। सूचना मिलते ही सक्रिय हुई पुलिस ने 5 घंटे के अंदर घेराबंदी कर महिला को गिरफ्तार कर बच्चे को सकुशल बरामद कर लिया। पैसे के साथ ही तंत्र मंत्र के लिए बलि चढ़ाने को बच्चे के अपहरण का मामला सामने आया है। एसएसपी डॉ. विपिन ताडा ने पुलिस टीम को 21 हजार रुपए इनाम देने की भी घोषणा की है।

चौरीचौरा इलाके के शिवपुर बिंदटोलिया निवासी बृजेश निषाद का 6 साल का बेटे प्रतीक

चौरीचौरा इलाके के शिवपुर बिंदटोलिया निवासी बृजेश निषाद का 6 साल का बेटे प्रतीक को गुरुवार की आधी रात बाद महिला अगवा कर फरार हो गई। परिजनों की सूचना पर पुलिस अधिकारी सक्रिय हुए और चौरीचौरा, झंगहा सहित कई थानों की फ़ोर्स ने चेकिंग शुरू कर दी। सुबह 6 बजे महिला की लोकेशन गोरखपुर- देवरिया मार्ग के भोपा बाजार में मिली। भोपा बाजार के सीसीटीवी कैमरे में भी वह महिला दिखी।

स्थानीय लोगों ने बताया कि महिला भोपा बाजार चौराहे के पीछे खेत के रास्ते बच्चे ..

स्थानीय लोगों ने बताया कि महिला भोपा बाजार चौराहे के पीछे खेत के रास्ते बच्चे को लेकर पेट्रोल पंप तक पहुंची और ऑटो से कहीं निकल गई। महिला बच्चे को लेकर खोराबार तक गई। हालांकि पुलिस की सक्रियता देखते हुए वह वापस देवीपुर में तरकुलहा मोड़ के पास आ गई। इस बीच पुलिस की ने महिला को सुबह 7.30 बजे देवीपुर में एक झोपड़ी से गिरफ्तार कर लिया और उसके पास से बच्चे को सकुशल बरामद कर लिया।

मासूम के घर के बगल में है महिला का मायका

आरोपित महिला की पहचान सविता निषाद पत्नी श्रीराम निषाद निवासी करजहां, खोराबार के रूप में हुई। महिला ने पुलिस को बताया कि उसका मायका चौरीचौरा इलाके के शिवपुर बिनटोलिया में है और वह गांव के राम प्यारे निषाद की बेटी है। जिसका घर अपहृत मासूम के घर के बगल में है। महिला ने पुलिस को बताया है कि उसका संबंध एक तांत्रिक से है। उसी के कहने पर उसने बच्चे को चुराया था। उसकी योजना तांत्रिक के साथ मिलकर बच्चे की बलि चढ़ाने की थी। पुलिस तांत्रिक की तलाश कर रही है।

दो साल पहले पति ने छोड़ दिया

आरोपित सविता की तीन बेटियां हैं। उसका पति श्रीराम बंगलुरु में मजदूरी करता है। सविता के गलत आचरण की वजह से पति ने दो साल पहले उसे छोड़ दिया है। वह सहजनवा इलाके में रहती है।

बुधवार की शाम की शाम को पहुंची थी 

सविता ने बताया कि वह शिवपुर बिंदटोलिया गांव में बुधवार की शाम 6 बजे पहुंची थी और अपने मायके गई और गांव के बाहर देर रात तक महुआ के पेड़ के नीचे रुकी थी। आधी रात बाद गांव पहुंची और बच्चे को अगवा कर पैदल ही निकल गई थी।

किसी गैंग से जुड़ रहा सविता का संबंध


एसपी नार्थ मनोज कुमार अवस्थी ने बताया कि महिला का सबंध किसी गैंग से है। उसके मोबाइल पर रात से लेकर सुबह तक कई कॉल की गई है। महिला के पकड़े जाने के बाद फ़ोन करने वाले ने मोबाइल बंद कर लिया है। उसके मोबाइल पर 24 घंटे में 30 बार अलग-अलग नंबर से कॉल आई है। उसमें एक नंबर से फ़ोन करने वाले को लोग पंडित जी के नाम से बुलाते हैं। यह पंडित जी कौन है, इसकी जानकारी की जा रही है। पंडित जी के बारे में सविता कुछ खास नहीं बता रही है। उसका कहना है कि वह लखनऊ में हैं जबकि पुलिस की जांच में पंडित जी के मोबाइल की लोकेशन देवरिया में मिल रही है।

रवीना के हैं दो बेटे, एक की हुई थी चोरी

शिवपुर बिंदटोलिया निवासिनी रवीना के दो पुत्र हैं। बडा पुत्र प्रतीक (6) व सिद्धार्थ (3) है। जिसमें दोनों बच्चो के साथ रवीना बरामदे में चारपाई पर सोई हुई थी। उसी दौरान महिला ने प्रतीक को उठा कर भाग गई थी।

12 अगस्त को रेकी करने आई थी सविता

12 अगस्त को सविता मायके आई थी। वह बगल में रबीना के घर भी गई थी। बकौल रवीना उसने 50 हज़ार रुपये की मांग की थी। रवीना ने बताया कि इतना पैसा नहीं है। दो-चार हज़ार की बात हो तो कहीं से व्यवस्था की जा सकती है। इस दौरान सविता उसके घर रात 10 बजे तक टीवी देखती रही। रवीना ने बताया कि इस दौरान सविता ने पूछा था कि आप और बच्चे कहां सोते हैं। इस पर रवीना ने उसे बताया था कि बाहर बच्चों के साथ ही वह सोती है। ग्रामीणों का कहना है कि सविता को किसी काम के लिए पैसे की जरूरत थी और उसने गांव के अन्य लोगों से भी पैसे मांगे थे। आशंका है कि उसे पैसा नहीं मिला तो उसने बच्चे को तांत्रिक के हाथों बेचने के लिए यह जघन्य वारदात की।

एसएसपी ने कहा

एसएसपी डॉ. विपिन ताडा ने कहा कि पुलिस की तत्परता से महिला पकड़ी गई और बच्चा भी सकुशल बरामद हो गया। प्रथम दृष्टया मामला बलि से संबंधित दिख रहा है। बच्चे को किसी के हाथ बेचा जाता और बच्चे की बलि हो सकती थी। महिला के सोखा व तांत्रिक आदि के किसी गैंग से जुड़ने की आशंका है। उसके गैंग से जुड़े लोगों के पकड़े जाने के बाद आगे की जानकारी सामने आएगी। महिला को फोन करने वालों के बारे में जानकारी जुटा कर उनकी तलाश की जा रही है।

घटनाक्रम

  • रात में 2 बजे प्रतीक गायब हुआ, घरवालों ने गांव के पोखरे और आसपास तलाश की।
  • रात 2.30 बजे बच्चे के दादा जंगली ने 112 नम्बर पर पुलिस को सूचना दी।
  • रात 2.45 बजे इंस्पेक्टर दिलीप कुमार शुक्ला ने हल्का एसआई प्रणव कुमार ओझा व बंशबहादुर यादव को सूचना दी।
  • 3 बजे पुलिस पीड़ित के घर पहुंची।
  • 4 बजे माइधिया में गुप्ता किराना स्टोर पर पुलिस ने फुटेज देखी तो महिला की पहचान हो गई। महिला पैदल ही बच्चे को लेकर निकली थी।
  • 6 से 6.30 बजे तक वह भोपा बाजार में रही और पुलिस की सक्रियता देखकर ऑटो से निकली।
  • 7.30 बजे पुलिस ने देवीपुर में झोपड़ी से बरामद किया बच्चा
  • 5 साल के मासूम की तांत्रिक ने चढ़ाई थी बलि

इससे पहले भी 19 अगस्त की सुबह 11 बजे पिपराइच इलाके के ग्राम मटिहनिया सोमानी के पश्चिम रामाज्ञा सिंह के गन्ने के खेत में एक 5 साल के बच्चे की हत्या के फेंकी गई लाश मिली थी। बच्चे के दोनों हाथ पीछे कर हत्यारों ने बांध दिए थे। उसके मुंह में भी काला कपड़ा ठूंस दिया था। उसे तड़पाकर उसकी हत्या की गई थी। शव की पहचान इसी गांव के रहने वाले दिलीप निषाद के 5 वर्षीय पुत्र गजेंद्र साहनी के रूप में हुई। पुलिस ने इस घटना का खुलासा करते हुए गांव के एक तांत्रिक को गिरफ्तार किया था। पुलिस का दावा था कि तंत्र मंत्र के लिए ही तांत्रिक ने बच्चे की हत्या कर दी थी।