International Yoga Day 2022 : जानिए क्या है अंतर्राष्ट्रीय योग दिवस का इतिहास और थीम

9

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

आज योग पूरी दुनिया में मशहूर हैं. कई देशों में योग को स्वास्थ्य लाभ के लिए अहम जरिया माना जा रहा है. भारत की तरह वहां भी योग के लिए कई गुरु ट्रेनिंग दे रहे हैं और लगातार इस प्रसार होता जा रहा है. इसी का नतीजा है कि पूरी दुनिया आज अंतरराष्ट्रीय योग दिवस (International Yoga Day) मना रही है. अब हर साल 21 जून 2022 को अंतरराष्ट्रीय योग दिवस मनाया जाता है और दुनियाभर में लोग इस दिवस को योग के लिए मनाती है. भारत की वजह से ही योग को इतना सम्मान मिला है और साल 2015 से ही 21 जून को अंतरराष्ट्रीय योग दिवस मनाए जाने लगा है.

ऐसे में आज हम आपको बताते हैं कि किस तरह से योग को पहचान मिली और योग को अंतरराष्ट्रीय दिवस के रूप में पहचान दिलाने में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी क्या भूमिका रही है. ऐसे में जानते हैं कि आखिर किस तरह से अंतरराष्ट्रीय योग दिवस मनाया जाने लगा और आखिर इस दिवस के लिए 21 जून को ही क्यों चुना गया है तो जानते हैं. जानते हैं योग

दिवस से जुड़ी हर एक बात.

International yoga day :21 June 2022

कैसे मिला अंतरराष्ट्रीय योग दिवस का टैग?
अगर अंतरराष्ट्रीय योग दिवस की बात करें तों सबसे पहले पीएम मोदी ने ही इसके लिए प्रस्ताव रखा था, जिसके बाद योग को यह पहचान मिली. बता दें कि 2014 में पीएम बनने के बाद उसी साल नरेंद्र मोदी ने इसके लिए प्रस्ताव रख दिया था. पीएम मोदी ने 21 जून को योग दिवस के रूप में मनाने का विचार पहली बार सितंबर 2014 में संयुक्त राष्ट्र महासभा में अपने भाषण के दौरान प्रस्तावित किया था. इसके बाद इस पर कार्रवाई शुरू हुई.

इस दौरान उन्होंने कहा, ‘योग हमारी पुरातन पारम्परिक अमूल्य देन है. योग मन व शरीर, विचार व कर्म, संयम व उपलब्धि की एकात्मकता का तथा मानव व प्रकृति के बीच सामंजस्य का मूर्त रूप है. यह स्वास्थ्य व कल्याण का समग्र दृष्टिकोण है. योग केवल व्यायाम भर न होकर अपने आप से तथा विश्व व प्रकृति के साथ तादम्य को प्राप्त करने का माध्यम है. यह हमारी जीवन शैली में परिवर्तन लाकर और हम में जागरूकता उत्पन्न करके जलवायु परिवर्तन से लड़ने में सहायक हो सकता है. आइए हम एक ‘अंतरराष्ट्रीय योग दिवस’ को आरंभ करने की दिशा में कार्य करें.

कई देशों ने जताई सहमति
इसके बाद प्रपोजल का ड्राफ्ट भारत के स्थायी प्रतिनिधि अशोक कुमार मुखर्जी की ओर से दिसंबर 2014 में UNGA में प्रस्तुत किया गया. यह UNGA के लिए एक ऐतिहासिक क्षण था क्योंकि मसौदे को इसके सदस्य राज्यों से समर्थन मिला, जो कि इसके इतिहास में कभी भी देखा गया था. संयुक्त राष्ट्र महासभा के कुल 193 सदस्यों में से 177 सह-प्रायोजक देशों की आम सहमति से प्रस्ताव को मंजूरी दी गई. इसके बाद पीएम मोदी ने दिल्ली में विज्ञान भवन में पहले अंतर्राष्ट्रीय योग दिवस समारोह में अपने भाषण के दौरान कहा था, ‘मुझे नहीं पता था कि हमारे प्रस्ताव को किस तरह की अभूतपूर्व प्रतिक्रिया मिलेगी.’

21 दिन को ही क्यों चुना गया?
टाइम्स ऑफ इंडिया की रिपोर्ट के अनुसार, पीएम मोदी ने 21 जून को साल का सबसे लंबा दिन होने की वजह से इसे चुना था और इस तारीख को इसी वजह से चुना गया था. इस दिन को ग्रीष्म संक्रांति के रूप में जाना जाता है और योग की दृष्टि से इसका विशेष महत्व है. साथ ही माना जाता है कि शिव ने इसी दिन शेष मानवता को योग का ज्ञान देना शुरू किया था. यह वह दिन था जब वे योग के आदि गुरु (प्रथम गुरु) बने.

International Yoga Day 2022 Theme: इस बार की क्या है थीम?
पूरी दुनिया में आज (मंगलवार), 21 जून को इंटरनेशनल योग दिवस यानी अंतरराष्ट्रीय योग दिवस मनाया जा रहा है. इस बार योग दिवस की थीम ‘मानवता के लिए योग (Yoga For Humanity) रखी गई है. इस साल योग दिवस की थीम दुनिया पर कोरोना के असर को देखते हुए रखी गई. कोरोना महामारी ने न सिर्फ शरीर पर बल्कि मानसिक हेल्थ पर भी असर डाला है. कोरोना के चलते लोगों को चिंता, अवसाद जैसी मनोवैज्ञानिक और मानसिक समस्याओं का सामना भी करना पड़ा. जो कि इस समय मानवता के लिए सबसे बड़ी चुनौती है. इसलिए मानवता के लिए योग का सहारा लिया जाना चाहिए

महत्व (International Yoga Day 2022 Significance)

निश्चित ही योग पूरी दुनिया में स्वास्थ्य को चुनौती देने वाली बीमारियों को कम करने में मदद करता है। यह एक प्रैक्टिस है जो लोगों को एक दूसरे से जोड़ता है। साथ ही ध्यान का अभ्यास करने में मदद करता है और तनाव से राहत दिलाता है। योग स्वास्थ्य की सुरक्षा और सतत स्वास्थ्य विकास के बीच एक कड़ी प्रदान करता है। इसलिए हमें नियमित रूप से योग का अभ्यास करना चाहिए और इसे अपने जीवन का हिस्सा बनाना चाहिए।

Get real time updates directly on you device, subscribe now.