13 जून विशेष : अंतर्राष्ट्रीय ऐल्बिनिज़म जागरूकता दिवस (International Albinism Awareness Day)

9

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

हर साल, अंतर्राष्ट्रीय ऐल्बिनिज़म जागरूकता दिवस (International Albinism Awareness Day) 13 जून को मनाया जाता है। यह दिन दुनिया भर में ऐल्बिनिज़म से प्रभावित व्यक्तियों के मानवाधिकारों का जश्न मनाने के लिए मनाया जाता है।

मुख्य बिंदु

यह दिन दुनिया भर में जागरूकता पैदा करने और ऐल्बिनिज़म से पीड़ित लोगों द्वारा सामना किए जाने वाले भेदभाव के कई रूपों पर प्रकाश डालने के लिए मनाया जाता है।  इस दिवस का उद्देश्य यह सन्देश देना है कि यद्यपि ऐल्बिनिज़म से पीड़ित लोग भेदभाव का सामना कर रहे हैं, दुनिया उन्हें भेदभाव और हिंसा से मुक्त करने के लिए उनके साथ खड़ी है। इस दिन को संयुक्त राष्ट्र द्वारा चिह्नित किया जाता है ।

सोर्स:गूगल

रंगहीनता (Albinism)

ऐल्बिनिज़म आनुवंशिक रूप से विरासत में मिला है, गैर-संक्रामक है  और इसके परिणामस्वरूप त्वचा, आंखों और बालों में रंजकता (pigmentation) की कमी होती है। यदि माता-पिता दोनों में ऐल्बिनिज़म का जीन है, जो जन्म के समय बच्चा भी इससे प्रभावित हो सकता है।

यूरोप और उत्तरी अमेरिका में, 17,000 में से एक ऐल्बिनिज़म से प्रभावित है। यह उप-सहारा अफ्रीका में अधिक प्रचलित है जहां 1,400 में से एक व्यक्ति इससे प्रभावित होता है।

छूने से नहीं फैलता एल्बिनिज्म, जानें क्यों हो जाता है इसमें स्किन का रंग सफेद

हमारी त्वचा को रंग प्रदान करना मेलेनिन का काम होता है। मेलेनिन हमारे शरीर में पाया जाने वाला एक प्रकार का अमीनो एसिड होता है, जो त्वचा, बाल और आंखों को रंग प्रदान करता है (Melenin functions)। इसलिए आपके शरीर में मेलेनिन जितना अधिक होता आपकी त्वचा, बाल और आंखों का रंग उतना ही गहरा होगा। एल्बिनिज्म के मरीजों की उन जीन में गड़बड़ी होती है, जो शरीर में मेलेनिन के उत्पादन को कंट्रोल करती है। इस कारण से मेलेनिन ठीक से बन नहीं पाता है और त्वचा रंगहीन हो जाती है।

छूने से नहीं फैलता एल्बिनिज्म

एल्बिनिज्म कोई फैलने वाली बीमारी नहीं बल्कि सिर्फ एक जेनेटिक कंडीशन है, जिसका मतलब है कि यह सिर्फ उसी व्यक्ति तक सीमित रहती है, जो इसके साथ ही जन्म लेते हैं। कुछ लोग सोचते हैं कि एल्बिनिज्म के रोगी की त्वचा को छूने पर या उसके इस्तेमाल किए गए कपड़ों को पहनने पर उन्हें भी यह बीमारी लग सकती है, जो की एक मिथक है। एल्बिनिज्म संक्रामक नहीं है।

Get real time updates directly on you device, subscribe now.