Basti News: परसरामपुर पुलिस समय से घटना को संज्ञान में लेती तो शायद नीरज सिंह की जान बच सकती थी

6

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

परशुरामपुर बस्ती. उत्तर प्रदेश स्थित बस्ती में परसरामपुर पुलिस अगर समय से घटना को संज्ञान में लेती तो शायद नीरज सिंह की जान बच सकती थी लेकिन यहां नहीं हो पाया. इस मामले को लेकर नवागत थानाध्यक्ष अरविंद शाही के पास परिवार के लोगों ने फोटो और एप्लीकेशन भी दिया. हत्या और अपरहण की आशंका को लेकर खबर भी छपी लेकिन एसओ परशुरामपुर से लेकर जिले के सभी आला अधिकारी मौन रहे.

शनिवार को नीरज का शव एक पीपल के पेड़ पर लटकता हुआ मिला. वहीं रविवार को परशुरामपुर थाने पर लगभग 300 लोगों ने थानाध्यक्ष अरविंद अरविंद शाही के खिलाफ धरना प्रदर्शन किया. अगर परशुरामपुर पुलिस समय से जग जाती तो  नीरज सिंह की जान बस सकती थी. परसरामपुर पुलिस ने नीरज सिंह की गुमशुदी के आठ दिन बाद न ही कोई मुकदमा दर्ज किया और न ही किसी से कोई पूछताछ की.

वहीं इस मामले में बस्ती पुलिस ने कहा कि परिजन संतुष्ट होकर घर गए. एक ट्वीट में बस्ती पुलिस ने कहा कि उक्त प्रकरण में उच्चाधिकारियों द्वारा परिजनों से वार्ता किया गया, परिजन संतुष्ट होकर अपने घर गये. थाना परसरामपुर पर अभियोग पंजीकृत है,आवश्यक विधिक कार्यवाही हेतु थानाध्यक्ष परसरामपुर को निर्देशित किया गया. 

इससे पहले 23 – 24 अप्रैल की  की रात में नीरज सिंह 27 वर्ष जो अपने घर पर  खाना खाकर घर के बाहर सोया था.रात  लगभग 2 बजे नीरज सिंह  के बड़े भाई राज कुमार सिंह पुत्र जीत बहादुर सिंह लघुशंका के लिए  निकले तो नीरज सिंह अपने बिस्तर पर सोये थे सुबह जब परिवार के लोग जगे तो और काफी देर तक नीरज घर नही लौटा तो वो लोग फोन करके संपर्क करने की कोशिश किये परन्तु नीरज का मोबाइल फोन तकिए के नीचे ही मिला परिजन द्वारा चार दिनों से सभी रिश्तेदार और अपने हितैषियों के यहाँ फोन किया लेकिन नीरज सिंह का कोई पता नहीं लगा.

Get real time updates directly on you device, subscribe now.