तीन साल होने पर सीएनजी किट की हाइड्रो टेस्टिंग अनिवार्य

9

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

HARRIYA TIMES

सीएनजी वाहनों में किट का प्रत्येक तीन साल पर हाइड्रो टेस्टिंग कराना अनिवार्य है। इस निर्देश का कड़ाई से पालन कराया जाए। जिसे आयुक्त गोविंद राजू एनएस ने दिया। वह सम्भागीय परिवहन प्राधिकरण की बैठक को संबोधित कर रहे थे। उन्होंने कहा कि सीएनजी गैस भरने वाले स्टेशन टेस्टिंग का प्रमाण पत्र देखकर ही सीएनजी भरेंगे। इससे वाहन एवं वाहन चालक की सुरक्षा हो सकेगी।

आयुक्त ने कहा कि सीएनजी गैस में पेट्रोल और डीजल की तुलना में 400 प्रतिशत कम प्रदूषण होता है। सीएनजी वाहनों की संख्या सड़कों पर बढ़ रही है। इसके अलावा पुराने वाहनों में भी लोग सीएनजी किट फिट करा रहे हैं। इसलिए सावधानी बरतना आवश्यक है। इनयूज वाहनों में सीएनजी किट फिट करने के लिए पांच पेट्रोल पम्प व संस्थाओं ने आवेदन किया है। आयुक्त ने समस्त औपचारिकता पूरी करने के बाद ही अनुमति दिए जाने का निर्देश दिया।

प्राधिकरण की बैठक में दो बार चालान होने के बावजूद जुर्माना जमा न करने वाले नौ वाहनों का परमिट निरस्त करने का निर्णय लिया गया है। पांच परमिट धारकों पर 2.40 लाख रुपये का जुर्माना जमा कराने के बाद प्रकरण का निस्तारण कराया गया। बैठक का संचालन करते हुए सम्भागीय परिवहन अधिकारी/सचिव सगीर अहमद अंसारी ने बताया कि एक अप्रैल से 30 नवम्बर तक 165 अस्थायी, 285 स्थायी राष्ट्रीय, 402 स्थायी आल यूपी, स्टेट कैरिज के 31, तीन सीटर आटो रिक्शा एवं 6 सीटर टेम्पों के 402, 6 सीट वाले जीप टैक्सी का 22 तथा विद्यालय वाहन की 68 परमिटें जारी की गई हैं।

बिना परमिट के वाहन चलाने पर पांच गुना जुर्माना वसूल किया जाता है। सीडीओ डॉ. राजेश कुमार प्रजापति, टोरेण्ट गैस के अहिरवाहन भौमिक, हर्षद कटिया, सिद्धार्थ गुप्ता, एआरटीओ अरूण प्रकाश चौबे, एआरटीओ प्रर्वतन रविकान्त शुक्ल उपस्थित रहे।

Get real time updates directly on you device, subscribe now.