Basti News: गांधी नगर जाम के झाम से कराह रहा, प्रभावशाली दुकानदारों ने गांधीनगर में सड़कों तक कर लिया कब्जा

8

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

बस्ती. शहर का अतिव्यस्त बाजार गांधी नगर जाम के झाम से कराह रहा है. प्रशासन के तमाम प्रयास यहां धराशाई हो  गांधी नगर में लगने वाले जाम के सामने नतमस्तक हो जाते है. कारण है की पूरे शहर का सबसे व्यस्त बाजार गांधी नगर पूरे दिन भीड़ से गुलजार रहता है. 

भीड़ के हिसाब से रोड का चौड़ीकरण नहीं हो पाया. रही-सही कसर फुटपाथ पर लगने वाले दुकानदारों और बेतरतीब वाहनों ने पूरी कर रखी है. गांधी नगर के बड़े व्यवसाइयों ने बहुमंजिला शापिंग काम्पलेक्स तो बनवा लिये, मगर वाहनों के पार्किंग के लिए जगह छोड़ने की जहमत नहीं उठाई. 

नगर पालिका और बस्ती विकास प्राधिकरण भी इस खेल में शामिल है. जिन्होंने बहुमंजिला व्यावसायिक भवनों को बिना पार्किंग के नक्शे के पास कर दिया. गांधीनगर इलाके के बड़े व्यावसाइयों में शुमार तुलस्यान वस्त्रालय हो या ऊन का सागर, ज्वेलरी के शोरूम हों या शापिंग काम्पलेक्स सबने शहर को सकरा करने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाई है. 

गर्मी के दिनों में लगने वाले जाम के चक्कर में फंस कर लोगों को असुविधाआंे का सामना करना पड़ रहा है. गांधीनगर में साहू मार्केट से लेकर तुलस्यान वस्त्रालय तक हर समय वाहनों के जाम से गुलजार रहता है. स्थानीय छोटे दुकानदारों की मानें तो प्रशासन का डण्डा प्रभावशाली दुकानदारों के सामने लगने वाले जाम पर नहीं चलता. छोटे दुकानदारों पर जब तब ये लोग बुरा-भला कह कर चले जाते है. यहीं नहीं दुकानों के सामने खड़े वाहनों की फोटो खींचकर उनका चालान कर दिया जाता है. 

नगर पालिका द्वारा जाम से मुक्ति दिलाने के लिए वाहनों को खड़ा करने के लिए पूर्व में जगह चिन्हित की गई थी. मजे की बात ये वाहन पार्किंग सिर्फ कागजों में दबकर दम तोड़ गया. फौरी तौर पर राहत पाने के लिए नगर पालिका व प्रशासन ने वाहन पार्किंग के लिए राजकीय इण्टर कालेज के पास सड़क की पटरी पर बाकायदा निशान लगाकर जगह बनाई. वहां कुछ दिनों तक तो वाहन खड़े हुए. मगर  प्रशासन की उदासीनता से पार्किंग की जगह पर पटरी दुकानदारों ने रेडीमेड कपड़ों की दुकानें खोल कर अवैध कब्जा जमा लिया. ऐसे में प्रशासन और नगर पालिका का प्रयास फिर लोगों को मुंह चिढ़ाने लगा. 

शहर के जाम से परेशान लोगों को कब और कैसे मुक्ति मिलेगी. नगर पालिका की उदासीनता और बड़े व्यवसाइयों के गैर जिम्मेदाराना हरकतों से आम शहरियों को जाम से रोज हलकान होना पड़ रहा है. ऐसे में सवाल उठता है क्या प्रशासन गांधी नगर के बड़े व्यावसायिक घरानों समेत जिम्मेदारों पर जाम को बढ़ावा देने के लिए कार्रवाई करेगा. 

Get real time updates directly on you device, subscribe now.