उत्तर प्रदेश चुनाव 2022: यूपी चुनाव के पहले चरण में 25% उम्मीदवारों के खिलाफ आपराधिक मामले, 12 महिलाएं भी शामिल

7

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

उत्तर प्रदेश चुनाव 2022: ADR की रिपोर्ट के मुताबिक यूपी चुनाव के पहले चरण के लिए समाजवादी पार्टी (सपा) के 28 उम्मीदवारों में से 21 (75 प्रतिशत), राष्ट्रीय लोकदल (रालोद) के 29 उम्मीदवारों में से 17 (59 प्रतिशत), भारतीय जनता पार्टी (बीजेपी) के 57 उम्मीदवारों में से 29 (51 प्रतिशत), ने अपने खिलाफ आपराधिक मामले घोषित किए हैं.

चुनाव सुधारों की वकालत करने वाले समूह एडीआर (ADR Report) के अनुसार, उत्तर प्रदेश विधानसभा चुनाव (UP Election 2022) के पहले चरण के लिए 25 प्रतिशत उम्मीदवारों के खिलाफ आपराधिक मामले हैं, जिनमें से 12 महिलाओं के खिलाफ अपराध के आरोप हैं और छह पर हत्या का आरोप है. एडीआर के विश्लेषण के मुताबिक 615 उम्मीदवारों में से 156 (25 प्रतिशत) उम्मीदवारों ने अपने खिलाफ आपराधिक मामले घोषित किए हैं, जबकि 121 (20 प्रतिशत) ने अपने खिलाफ गंभीर आपराधिक मामले घोषित किए हैं. ‘द एसोसिएशन फॉर डेमोक्रेटिक रिफॉर्म्स’ (ADR) ने कहा कि उसने राज्य के 11 जिलों में 58 विधानसभा सीटों से राजनीतिक दलों के 615 उम्मीदवारों और निर्दलीय उम्मीदवारों के स्व-हलफनामों का विश्लेषण किया है. इन सीटों पर 10 फरवरी को चुनाव होने हैं. एडीआर ने कहा कि कुल 623 उम्मीदवार मैदान में हैं और उनमें से आठ के हलफनामों का विश्लेषण नहीं किया जा सका क्योंकि वे स्कैन नहीं किए गए थे या अधूरे थे.

सपा सबसे आगे, BJP भी पीछे नहीं

एडीआर ने कहा कि प्रमुख दलों में, समाजवादी पार्टी (सपा) के 28 उम्मीदवारों में से 21 (75 प्रतिशत), राष्ट्रीय लोकदल (रालोद) के 29 उम्मीदवारों में से 17 (59 प्रतिशत), भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) के 57 उम्मीदवारों में से 29 (51 प्रतिशत), कांग्रेस के 58 उम्मीदवारों में से 21 (36 प्रतिशत), बहुजन समाज पार्टी (बसपा) के 56 उम्मीदवारों में से 19 (34 प्रतिशत) और आम आदमी पार्टी (आप) के 52 उम्मीदवारों में से आठ (15 प्रतिशत) ने अपने हलफनामों में अपने खिलाफ आपराधिक मामले घोषित किए हैं.

एडीआर ने कहा कि प्रमुख दलों में, सपा के 28 उम्मीदवारों में से 17 (61 प्रतिशत), रालोद के 29 उम्मीदवारों में से 15 (52 प्रतिशत), भाजपा के 57 उम्मीदवारों में से 22 (39 प्रतिशत), कांग्रेस के 58 उम्मीदवारों में से 11 (19 फीसदी), बसपा के 56 उम्मीदवारों में से 16 (29 फीसदी) और आप के 52 उम्मीदवारों में से पांच (10 फीसदी) ने अपने खिलाफ ‘गंभीर आपराधिक मामले’ घोषित किए हैं. समूह के अनुसार, 12 उम्मीदवार ऐसे भी हैं जिन्होंने ‘‘महिलाओं के खिलाफ अपराध’’ से संबंधित मामले घोषित किए हैं और उनमें से एक ने बलात्कार (भादंसं की धारा 376) से संबंधित मामल घोषित किया है.

कांग्रेस ने जारी की एक और लिस्ट

उधर कांग्रेस ने उत्तर प्रदेश विधानसभा चुनाव के लिए बुधवार को 27 और उम्मीदवारों की सूची जारी की, जिनमें 11 महिलाएं शामिल हैं. यह राज्य में कांग्रेस उम्मीदवारों की सातवीं सूची है. बता दें कि कांग्रेस उत्तर प्रदेश में अब तक कुल 346 उम्मीदवार घोषित कर चुकी है, जिनमें 40 फीसदी टिकट महिलाओं को दिया गया है. कांग्रेस की सातवीं सूची के मुताबिक, कौशांबी जिले की सिराथू विधानसभा सीट से सीमा देवी को उम्मीदवार बनाया गया है. इस सीट पर उत्तर प्रदेश के उप मुख्यमंत्री केशव प्रसाद मौर्य बीजेपी के उम्मीदवार हैं.

कांग्रेस ने बाराबंकी से रूही अरशद और गोसाईनगंज से शारदा जायसवाल को टिकट दिया गया है. इस सूची में छह सीटों पर उम्मीदवार बदले गए हैं. रायबरेली सीट से डॉ मनीष सिंह चौहान, सिराथु सीट से सीमा देवी, कुर्सी सीट से जमील अहमद का टिकट काटकर उर्मिला पटेल, बाराबंकी सीट से गोरी यादव का टिकट काटकर रूही अरशद को टिकट दिया गया है. वहीं लखनऊ ईस्ट सीट से मनोज तिवारी को टिकट दिया गया है. कांग्रेस ने पंकज तिवारी का टिकट काटकर मनोज तिवारी को उम्मीदवार बनाया है. ऐसे ही पार्टी ने भींगा सीट से वंदना शर्मा का टिकट काटकर गजाला चौधरी को टिकट दिया है.

Get real time updates directly on you device, subscribe now.