प्रतिभा से बनाए अपनी अलग पहचान | Editorial

0 12

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

आमतौर पर हर माता-पिता अपने बच्चों का भविष्य सुखद बनाना चाहते हैं। इसके लिए वे खुद कष्ट सहकर उनकी सभी जरूरतें पूरी करने का प्रयास करते हैं, ताकि वे अच्छी नौकरी पा सकें। मोहल्ले या इलाके के किसी बच्चे की कामयाबी देखकर, वे भी अपनी संतान को इंजीनियर, डॉक्टर, आइएएस, एडवोकेट आदि बनाने का ख्वाब देखते हैं। कई माता-पिता अपनी संतान पर दबाव भी डालते हैं कि वह उनकी इच्छा के अनुसार ही पढ़ाई करे। बहुत कम ही ऐसे होते हैं, जो बच्चे के मन को टटोलते हुए उसकी इच्छा के मुताबिक आगे की पढ़ाई करने या पसंद की राह पर आगे बढ़ने के लिए प्रोत्साहित करते हों। इंजीनियर, डॉक्टर या आइएएस बनाने के लिए लोग अपने बच्चों को महंगी कोचिंग के लिए कोटा, कानपुर, दिल्ली, इलाहाबाद, पटना जैसे शहरों में भेजने को आतुर रहते हैं।

कोचिंग संस्थान भी बढ़-चढ़कर ऐसे दावे करते हैं, जैसे वे अपने यहां आने वाले हर बच्चे को गढ़कर हीरा बना देते हैं। कोचिंग संस्थानों की शरण लेने वाले कुछ बच्चों को बेशक कामयाबी मिलती है, पर हम सबने तो यही देखा और महसूस किया है कि वर्षों की कोचिंग और तैयारी के बावजूद ज्यादातर किसी मुकाम पर नहीं पहुंचते। ऐसे में सवाल यह उठता है कि महंगी कोचिंग हर किसी को हीरा क्यों नहीं बना पाती ? आखिर कोचिंग भेजते समय माता पिता यह पता लगाने की कोशिश क्यों नहीं करते कि वे जो सपना देख रहे हैं, उसे पाने की बेसिक क्वालिटी उनके बच्चे में है भी या नहीं? आप कह सकते हैं कि फिर क्या करें, बच्चे को ऐसे ही छोड़ दें? आखिर उसके भविष्य की चिंता तो मां-बाप की ही होती है न। बेशक होती है। पर क्या आप अपने ही हाथों अपने बच्चे को किसी ऐसे अंधेरे कुएं की ओर धकेलना चाहते हैं, जिसका कोई ओर-छोर नहीं? अगर नहीं, तो क्यों नहीं उसके “भीतर के हुनर या उसकी पसंद को जानने-समझने की कोशिश करते ?

उसे जानकर ही आप उसके मन की राह पर आगे बढ़ने के लिए प्रेरित कर सकते हैं। अगर आपके बच्चे की रुचि म्यूजिक में है, तो आप उसे इंजीनियर या डॉक्टर बनाने पर क्यों आमादा हैं? उसे उसी दिशा में आगे बढ़ाने का प्रयत्न क्यों नहीं करते, जिसके बुनियादी गुण उसके भीतर हैं। बच्चे में जो हुनर है, पहले उसे बाहर निकालने और बढ़ाने की कोशिश करें। उसकी पसंद जानकर फिर उसे तराशने का उचित प्रबंध करने का प्रयास कीजिए। अगर कभी यह लगे कि उसकी पसंद के क्षेत्र में प्रशिक्षण दिलाने की जरूरत है, तब आप अपनी क्षमता के अनुसार उसे उपयुक्त कोचिंग दिला सकते हैं। देशभर में हर साल लाखों बच्चे कोचिंग करते हैं, लेकिन आपने पिछले दिनों उन तमाम बच्चों के बारे में जरूर पढ़ा-सुना होगा, जिन्होंने अभावों में रहते हुए भी बिना किसी महंगी या प्रोफेशनल कोचिंग के अपनी प्रतिभा के बल पर न सिर्फ पहचान बनाई, चल्कि वे अपने जैसे अन्य बच्चों के लिए मिसाल बन गए हैं।

Get real time updates directly on you device, subscribe now.