Covid 19 india omicron cases in hindi : देश में ओमिक्रॉन के कुल 40 मामले

5

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

Omicron Live: देश में ओमिक्रॉन के कुल 40 मामले, पाकिस्तान के बाद चीन में भी संक्रमित मिले, डब्ल्यूएचओ ने फिर किया आगाह

 LIVE Omicron Virus (ओमिक्रॉन वैरिएंट) COVID-19 Corona New Variant Cases Hindi News Updates ओमिक्रॉन वैरिएंट दुनिया के 63 देशों में दस्तक दे चुका है। सबसे बड़ी चिंता की बात यह है कि यह भारत में भी अब तेजी से पांव पसारने लगा है। छह राज्य और दो केंद्र शासित प्रदेश इसकी चपेट में आ चुके हैं। देश में ओमिक्रॉन से संक्रमित होने वाले लोगों की कुल संख्या अब 40 हो गई है। इनमें सबसे अधिक महाराष्ट्र में हैं जहां कुल 20 मामले सामने आए हैं। इसके अलावा राजस्थान में (9), कर्नाटक (3), गुजरात (3), केरल (1) , आंध्र प्रदेश (1) , दिल्ली (2) और चंडीगढ़ में (1) है।

‘फाइव फोल्ड’ स्ट्रेटजी का कड़ाई से पालन हो: राजस्थान चिकित्सा सचिव


राजस्थान में ओमिक्रॉन के खिलाफ कड़ाई शुरू कर दी गई है। चिकित्सा सचिव वैभव गालरिया ने प्रदेश के सभी सीएमएचओ, पीएमओ व सम्बन्धित अधिकारियों के साथ विडियो कॉन्फ्रेंसिंग के जरिए बैठक कर ‘फाइव फोल्ड’ स्ट्रेटजी की कड़ाई से पालन करने के निर्देश दिए हैं। 

गालरिया ने सोमवार को स्वास्थ्य भवन में वीसी के माध्यम से सभी अधिकारियों को निर्देश देते हुए कहा कि कोरोना संक्रमण के प्रसार को रोकने के लिए टेस्ट, ट्रैक, ट्रीटमेंट, वैक्सीनेशन और कोविड अनुरूप व्यवहार करवाना सुनिश्चित करें। उन्होंने कहा कि किसी भी कोरोना पॉजिटिव आने के बाद सभी मरीजों का सैंपल लेकर जीनोम सीक्वेंसिंग के लिए भेजे जाएं, ताकि किसी भी नए वैरिएंट का तुरंत पता लग सके।

गालरिया ने बताया कि कोरोना की संभावित तीसरी लहर से बचाव के लिए 540 में से 434 ऑक्सीजन उत्पादन प्लांट्स प्रारंभ हो चुके हैं। उन्होंने शेष 106 प्लांट्स को भी जल्द से जल्द शुरू करने के भी निर्देश दिए। उन्होंने जिलेवार अधिकारियों से बात कर प्लांट्स की समीक्षा कर आवश्यक दिशा निर्देश दिए। उन्होंने कहा कि राज्य सरकार की मंशा 1 हजार मीट्रिक टन मेडिकल ऑक्सीजन उत्पादन करने की है।

WHO ने किया आगाह


विश्व स्वास्थ्य संगठन (डब्ल्यूएचओ) ने 60 से अधिक देशों तक फैल चुके कोरोना के नए वैरिएंट ओमिक्रॉन को लेकर बड़ा बयान दिया है। स्वास्थ्य संगठन ने कहा है कि कुछ ऐसे सबूत भी मिले हैं जिससे पता चलता है कि यह वैरिएंट वैक्सीन से पैदा हुई प्रतिरक्षा को चकमा दे सकता है। हालांकि, इसके गंभीर होने के अभी संकेत नहीं मिले हैं।

मास्क को लेकर लापरवाही बढ़ी


इंस्टीट्यूट आफ हेल्थ मेट्रिक्स एंड इवैलुएशन के आंकड़ों ने मास्क को लेकर हो रही लापरवाही पर बड़ी जानकारी दी है। इसके मुताबिक, मास्क का उपयोग दूसरी लहर से पहले मार्च के स्तर पर पहुंच गया है। वर्तमान में लगभग 59 फीसदी लोग ही मास्क पहन रहे हैं। इसमें बताया गया कि जब दूसरी लहर ने कहर बरपाना शुरू किया तो मास्क का उपयोग बढ़ गया था। इस दौरान मई तक 81 फीसदी लोग मास्क लगाने लगे थे।

Get real time updates directly on you device, subscribe now.