भारतीय किसान यूनियन ने जिला महासचिव हृदयराम वर्मा के संयोजन में सोमवार को विश्वासघात दिवस मनाया

30

भारतीय किसान यूनियन ने जिला महासचिव हृदयराम वर्मा के संयोजन में सोमवार को विश्वासघात दिवस मनाया। राष्ट्रपति और प्रधानमंत्री को सम्बोधित ज्ञापन कलेक्ट्रेट में प्रशासनिक अधिकारी को सौंपा। संगठन का आरोप है कि किसानों से किया हुआ वादा केंद्र सरकार भूल गई है।

भाकियू कार्यकर्ता नेताजी सुभाष चंद्र बोस की प्रतिमा के निकट एकत्र हुए। किसान, मजदूर हाथों में तख्तियां और ज्ञापन की प्रतियां लिए न्याय मार्ग, दीवानी कचहरी होते हुए शास्त्री चौक पहुंचे। यहां सभा के बाद ज्ञापन सौंपा गया। प्रदेश सचिव दिवान चंद पटेल ने कहा कि 700 से अधिक किसानों के बलिदान के बाद केंद्र सरकार ने तीन कृषि कानूनों को तो वापस ले लिया लेकिन आंदोलन में प्राण गंवाने वाले शहीद किसानों के परिजनों को नौकरी देने, किसानों पर दर्ज फर्जी मुकदमों को वापस लेने, एमएसपी पर कमेटी गठित करने आदि वादों से केंद्र और राज्य सरकारें मुकर रहीं हैं।

प्रदेश उपाध्यक्ष अनूप चौधरी, मंडल उपाध्यक्ष राम मनोहर, मंडल संगठन मंत्री रामनवल किसान आदि ने कहा कि गन्ना किसानों का चीनी मिलों पर अरबों रुपया बकाया है। धान क्रय केन्द्रों पर किसानों की घोर उपेक्षा की जा रही है। आवारा पशु किसानों की फसल चर खा जा रहे हैं, लेकिन किसानों की कोई सुनवाई नहीं हो रही है। इस मौके पर राष्ट्रीय लोकदल के जिलाध्यक्ष राधेश्याम चौधरी के साथ भाकियू के रामचन्द्र सिंह, डॉ. आरपी चौधरी, रमेश चौधरी, हरि प्रसाद, दीप नरायन, फूलचंद शर्मा, विनोद कुमार, सत्यराम, जोखन प्रसाद, शिवशंकर पांडेय, कन्हैया प्रसाद, त्रिवेनी चौधरी, राम महीपत, रामतोखे, अभिलाष श्रीवास्तव, सीताराम, नाटे चौधरी, राम नरेश चौधरी, गौरीशंकर, जैसराम, रामजीत, श्याम नरायन सिंह, राजेंद्र, सतीश सिंह, राममहीपत, अब्दुल कलाम, दीनानाथ, रघुवीर, बब्लू चौहान, सुधाकर शाही, एहसानुल्लाह, अमित मिश्रा, दिग्विजय, जानकी प्रसाद, फूलचन्द, केशराम, सरिता देवी, सुभावती, सावित्री देवी, कलावती देवी, दुर्गा देवी के साथ ही बड़ी संख्या में भाकियू पदाधिकारी, किसान, मजदूर शामिल रहे।