भागवत पुराण – Bhagwat Puran

22

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

भागवत पुराण – Bhagwat Puran :

विवरण‘श्रीमद्भागवत पुराण’ वर्णन की विशदता और उदात्त काव्य-रमणीयता से ओतप्रोत है। यह विद्या का अक्षय भण्डार है। यह पुराण सभी प्रकार के कल्याण देने वाला तथा त्रय ताप-आधिभौतिक, आधिदैविक और आधिदैहिक आदि का शमन करता है। ज्ञान, भक्ति और वैराग्य का यह महान ग्रन्थ है।
धर्म भागवत धर्म / पौराणिक धर्म / शाश्वत धर्म
रचना तेरहवीं शताब्दी
विवरण भागवत संस्कृति से संबंधित लोगो का इतिहास
मनुवादी विकृतियां उपस्थित हैं
विवाद सहस्त्रबाहु अहीर और परशुराम को विष्णु का अवतार घोषित करना
भाषासंस्कृत, हिन्दी
स्कन्ध12
अध्याय355
श्लोक18 हजार
अवतार24
अन्य जानकारीभागवत के रचनाकाल के संबंध में भी विवाद है। दयानंद सरस्वती ने इसे तेरहवीं शताब्दी की रचना बताया है, पर अधिकांश विद्वान इसे छठी शताब्दी का ग्रंथ मानते हैं। इसे किसी दक्षिणात्य विद्वान की रचना माना जाता है। भागवत पुराण का दसवां स्कंध भक्तों में विशेष प्रिय है।

पाश्चात्य विद्वानों का कृष्ण के विषय में विचार

कृष्णा का जन्म हर साल जन्माष्टमी के रूप में मनाया जाता है ।
महाभारत और कुछ पुराणों में किंवदंतियों के अनुसार घटनाओं के आधार पर यह कहा जाता है कि कृष्ण एक वास्तविक ऐतिहासिक व्यक्ति थे।
उदाहरण के लिए, लानवान्य वेंसानी कहते हैं कि कृष्ण का पुराणों में ३२२७ ईसा पूर्व – ३१०२ ईसा पूर्व के बीच होने का अनुमान लगाया जा सकता है ।
इसके विपरीत, जैन परंपरा में पौराणिक कथाओं के अनुसार कृष्ण नेमिनाथ के चचेरे भाई थे,जो जैनों के २२ वें तीर्थंकर थे। ९वीं शताब्दी से जैन परंपरा में मानना ​​है की नेमिनाथ ८४,००० वर्ष पहले पैदा हुए। “गाय बेक” कहती हैं कि कृष्ण – चाहे मानव हो या दिव्यअवतार – प्राचीन भारत में वास्तविक व्यक्ति को दर्शाता है, जो कम से कम १००० ईसा पूर्व रहते थे, लेकिन इस ऐतिहासिक प्रमाणों से , विशुद्ध रूप से संस्कृत सिद्धांत के अध्ययन से ,यह प्रतिस्थापित नहीं किया जा सकता है।

लुडो रोशेर और हज़रा जैसे अन्य विद्वानों का कहना है कि पुराण “भारतीय इतिहास” के लिए एक विश्वसनीय स्रोत नहीं हैं, क्योंकि इसमें राजाओं, विभिन्न लोगों, ऋषियों और राज्यों के बारे में लिखी गई पांडुलिपियां में विसंगतिया है।
वे कहते हैं कि ये कहानियां संभवतया वास्तविक घटनाओं पर आधारित हैं, जो कि विज्ञान पर आधारित हैं और कुछ भागो में कल्पना द्वारा सुशोभित हैं। उदाहरण के लिए मत्स्य पुराण में कहा गया है कि कुर्म पुराण में १८,००० छंद हैं, जबकि अग्नि पुराण में इसी पाठ में ८००० छंद हैं, और नारदीय यह पुष्टि करते है कि कुर्म पांडुलिपि में १७,००० छंद हैं।


पुराणिक साहित्य समय के साथ धीमी गति से बदला साथ ही साथ कई अध्यायों का अचानक विलोपन और इसकी नई सामग्री के साथ प्रतिस्थापित किया गया है। वर्तमान में परिणित पुराण उन लोगों के उल्लेख से पूरी तरह अलग हैं जो ११वीं सदी, या १६वीं सदी से पहले मौजूद थे।।
उदाहरण के लिए, नेपाल में ताड़ पत्र पांडुलिपि की खोज ८१० ईस्वी में हुई है , लेकिन वह पत्र ,पुराने पाठ के संस्करणों से बहुत अलग है जो दक्षिण एशिया में औपनिवेशिक युग के बाद से परिचालित हो रहा है।

कृष्ण की जीवन कथा के कई संस्करण हैं, जिनमें से तीन का सबसे अधिक अध्ययन किया गया है: हरिवंश , भागवत पुराण और विष्णु पुराण । ये सब मूल कहानी को ही दर्शाते है हैं लेकिन उनकी विशेषताओं, विवरण और शैलियों में काफी भिन्नता हैं। सबसे मूल रचना, हरिवंश को एक यथार्थवादी शैली में बताया गया है जो कृष्ण के जीवन को एक गरीब ग्वाले के रूप में बताता है, लेकिन काव्यात्मक और अलौकिक कल्पना से ओतप्रोत है । यह कृष्ण की मृत्यु के साथ समाप्त नहीं होती। कुछ विवरणों अनुसार विष्णु पुराण की पांचवीं पुस्तक हरिवंश के यथार्थवाद से दूर हो जाती है और कृष्ण को रहस्यमय शब्दों और स्तम्भों में आवरण करती है कई संस्करणों में विष्णु पुराण की पांडुलिपियां मौजूद हैं।

भागवत पुराण की दसवीं और ग्यारहवीं पुस्तकों को व्यापक रूप से एक कविष्ठ कृति माना जाता है, जो कि कल्पना और रूपकों से भरा हुआ है !
हरिवंश में पाये जाने वाले जीवों के यथार्थवाद से कोई संबंध नहीं है।


क्यों कि भागवत पुराण में कृष्ण के जीवन को एक ब्रह्मांडीय नाटक ( लीला ) के रूप में प्रस्तुत किया गया है।


जहां उनके पिता धर्मगुरू नंद को एक राजा के रूप में पेश किया गया था।
कृष्ण का जीवन हरिवंश में एक गोप या अहीर के रूप में वर्णित है, ।
लेकिन भागवत पुराण में एक प्रतीकात्मक ब्रह्मांड है, जहां कृष्ण ब्रह्मांड के भीतर है और इसके अलावा, साथ ही ब्रह्मांड ही हमेशा से है और रहेगा ।
कई भारतीय भाषाओं में भागवत पुराण पांडुलिपियां कई संस्करणों में भी मौजूद हैं।

भागवत पुराण में राधा -भागवत पुराण श्लोक

अनयाराधितो नूनं भगवान् हरिरीश्वरः ।यन्नो विहाय गोविन्दः प्रीतो यामनयद्रहः ॥ 10.30.028 ॥ भागवत पुराण में राधा

स्वयं जब दयानन्द जी सम्पूर्ण भागवत का ही खण्डन करते हैं तो भागवत में राधा नहीं है यह कैसे प्रमाणित हो गया ?

भागवत पुराण दशम स्कन्ध तीस वाँ अध्याय के निम्न श्लोकों में राधा का वर्णन है ।

कस्याः पदानि चैतानि याताया नन्दसूनुना ।

अंसन्यस्तप्रकोष्ठायाः करेणोः करिणा यथा ॥ 10.30.027 ॥

अनयाराधितो नूनं भगवान् हरिरीश्वरः ।

यन्नो विहाय गोविन्दः प्रीतो यामनयद्रहः ॥ 10.30.028 ॥

धन्या अहो अमी आल्यो गोविन्दाङ्घ्र्यब्जरेणवः ।

यान् ब्रह्मेशौ रमा देवी दधुर्मूर्ध्न्यघनुत्तये ॥ 10.30.029 ॥

तस्या अमूनि नः क्षोभं कुर्वन्त्युच्चैः पदानि यत्यैकापहृत्य गोपीनां रहो भुन्क्तेऽच्युताधरम् ।

न लक्ष्यन्ते पदान्यत्र तस्या नूनं तृणाङ्कुरैः खिद्यत्सुजाताङ्घ्रितलामुन्निन्ये प्रेयसीं प्रियः ॥ 10.30.030 ॥

अनयाराधितो नूनं भगवान् हरिरीश्वरः ।

यन्नो विहाय गोविन्दः प्रीतो यामनयद्रहः ॥ 10.30.028 ॥

अर्थ-

जिसके द्वारा हरीश्वर भगवान कृष्ण की आराधना की गयी अवश्य ही सर्वशक्तिमान भगवान श्रीकृष्ण की वह ‘आराधिका’ होगी। 

इसीलिये इस पर प्रसन्न होकर हमारे प्राणप्यारे श्यामसुन्दर ने हमें छोड़ दिया है और इसे एकान्त में ले गये हैं।

परीक्षित! इस प्रकार लीला करते-करते गोपियाँ वृन्दावन के वृक्ष और लता आदि से फिर भी श्रीकृष्ण का पता पूछने लगीं।

 इसी समय उन्होंने एक स्थान पर भगवान के चरणचिह्न देखे। वे आपस में कहने लगीं – 

अवश्य ही ये चरणचिह्न उदारशिरोमणि नन्दनन्दन श्यामसुन्दर के हैं; क्योंकि इनमें ध्वजा, कमल, व्रज, अंकुश और जौ आदि के चिह्न स्पष्ट ही दीख रहे हैं।’ 

उन चरणचिह्नों के द्वारा व्रजवल्लभ भगवान को ढूँढती हुई गोपियाँ आगे बढ़ी, तब उन्हें श्रीकृष्ण के साथ किसी व्रजयुवती के भी चरणचिह्न दीख पड़े। उन्हें देखकर वे व्याकुल हो गयीं। और आपस में कहने लगीं – 

‘जैसे हथिनी अपने प्रियतम गजराज के साथ गयी हो, वैसे ही नन्दनन्दन श्यामसुन्दर के साथ उनके कंधे पर हाथ रखकर चलने वाली किस बड़भागिनी के ये चरणचिह्न हैं? 

अवश्य ही सर्वशक्तिमान भगवान श्रीकृष्ण की ‘आराधिका’ होगी। इसीलिये इस पर प्रसन्न होकर हमारे प्राणप्यारे श्यामसुन्दर ने हमें छोड़ दिया है और इसे एकान्त में ले गये हैं।

 प्यारी सखियों ! भगवान श्रीकृष्ण अपने चरणकमल से जिस रज का स्पर्श कर देते हैं, व धन्य हो जाती है, उसके अहोभाग्य हैं! 

क्योंकि ब्रह्मा, शंकर और लक्ष्मी आदि भी अपने अशुभ नष्ट करने के लिये उस रज को अपने सिरपर धारण करते हैं।

‘अरी सखी! चाहे कुछ भी हो – यह जो सखी हमारे सर्वस्व श्रीकृष्ण को एकान्त में ले जाकर अकेले ही उनकी अधर-सुधा का रस पी रही है, इस गोपी के उभरे हुए चरणचिह्न तो हमारे हृदय में बड़ा ही क्षोभ उत्पन्न कर रहे हैं।’ 

यहाँ उस गोपी के पैर नहीं दिखायी देते।

 मालूम होता है, यहाँ प्यारे श्यामसुन्दर ने देखा होगा कि मेरी प्रेयसी के सुकुमार चरणकमलों में घास की नोंक गड़ती होगी; इसलिये उन्होंने उसे अपने कंधे पर चढ़ा लिया होगा।

राधा का अन्य नाम आराधिका भी है ।जो भागवत पुराण में है ।

दशम स्कन्ध: त्रिंश अध्याय (पूर्वार्ध) श्रीमद्भागवत महापुराण: दशम स्कन्ध:त्रिंश अध्याय श्लोक 23-35 का हिन्दी अनुवाद-

______________

 एक गोपी यशोदा बनी और दूसरी बनी श्रीकृष्ण। यशोदा ने फूलों की माला से श्रीकृष्ण को ऊखल में बाँध दिया। अब वह श्रीकृष्ण बनी हुई सुन्दरी गोपी हाथों से मुँह ढ़ककर भय की नक़ल करने लगी। परीक्षित ! इस प्रकार लीला करते-करते गोपियाँ वृन्दावन के वृक्ष और लता आदि से फिर भी श्रीकृष्ण का पता पूछने लगीं।

 इसी समय उन्होंने एक स्थान पर भगवान के चरणचिह्न देखे। 

वे आपस में कहने लगीं – अवश्य ही ये चरणचिह्न उदारशिरोमणि नन्दनन्दन श्यामसुन्दर के हैं; क्योंकि इनमें ध्वजा, कमल, व्रज, अंकुश और जौ आदि के चिह्न स्पष्ट ही दीख रहे हैं।’ 

उन चरणचिह्नों के द्वारा व्रजवल्लभ भगवान को ढूँढती हुई गोपियाँ आगे बढ़ी, तब उन्हें श्रीकृष्ण के साथ किसी व्रजयुवती के भी चरणचिह्न दीख पड़े। उन्हें देखकर वे व्याकुल हो गयीं। और आपस में कहने लगीं –

 ‘जैसे हथिनी अपने प्रियतम गजराज के साथ गयी हो, वैसे ही नन्दनन्दन श्यामसुन्दर के साथ उनके कंधे पर हाथ रखकर चलने वाली किस बड़भागिनी के ये चरणचिह्न हैं? 

अवश्य ही सर्वशक्तिमान भगवान श्रीकृष्ण की ‘आराधिका’ होगी।

 इसीलिये इस पर प्रसन्न होकर हमारे प्राणप्यारे श्यामसुन्दर ने हमें छोड़ दिया है और इसे एकान्त में ले गये हैं। प्यारी सखियों! भगवान श्रीकृष्ण अपने चरणकमल से जिस रज का स्पर्श कर देते हैं, व धन्य हो जाती है, उसके अहोभाग्य हैं! क्योंकि ब्रह्मा, शंकर और लक्ष्मी आदि भी अपने अशुभ नष्ट करने के लिये उस रज को अपने सिरपर धारण करते हैं।’

 ‘अरी सखी! चाहे कुछ भी हो – यह जो सखी हमारे सर्वस्व श्रीकृष्ण को एकान्त में ले जाकर अकेले ही उनकी अधर-सुधा का रस पी रही है, इस गोपी के उभरे हुए चरणचिह्न तो हमारे हृदय में बड़ा ही क्षोभ उत्पन्न कर रहे हैं।’ 

यहाँ उस गोपी के पैर नहीं दिखायी देते। मालूम होता है, यहाँ प्यारे श्यामसुन्दर ने देखा होगा कि मेरी प्रेयसी के सुकुमार चरणकमलों में घास की नोंक गड़ती होगी; इसलिये उन्होंने उसे अपने कंधे पर चढ़ा लिया होगा।

___________________

अब कुछ आर्यसमीजी जो भागवत पुराण और महाभारत आदि में राधा के नहीं होने का कुतर्क देते हैं उसे निम्न सन्दर्भों में वर्णित किया जाता है । उसे भी देखें पढ़े !

_____________________________________

आज पौराणिक श्रीकृष्ण के साथ राधा का नाम अवश्य जोड़ते हैं। ‘राधा’ के बिना ‘कृष्ण’ का नाम आधा ही समझा जाता है। यदि श्रीकृष्ण जी योगीराज थे और ‘राधा’ उनकी धर्मपत्नी नहीं थी तो ऐसा पौराणिक क्यों करते हैं? मेरे विचार से पौराणिकों की यह भयंकर भूल है।

 ‘श्रीमद् भागवत महापुराण‘ वैष्णवों का एक प्रामाणिक पुराण माना जाता है जिसमें श्रीकृष्ण जी के चरित्र पर पर्याप्त प्रकाश डाला गया है। इस महापुराण के अध्ययन से स्पष्ट होता है कि इसमें ‘राधा’ की कहीं भी चर्चा नहीं है। 

राधा तो श्री रायाण गोप की पत्नी थी।

कतिपय पौराणिक ‘श्रीमद् भागवत महापुराण‘ में भी ‘राधा’ का नाम प्रदर्शित करने की कल्पना करते हैं। यथा-

१. पं० दीनानाथ शास्त्री सारस्वत की कल्पना-

(आपने ‘भागवत’ में राधा का नाम खोजा है।) आप लिखते हैं- जिस गोपी को श्रीकृष्ण अन्य गोपियों को छोड़ कर ले गए थे, वही तो ‘राधा’ थी जिसका संकेत भागवत पुराण में हैं ।

______

अनया राधितो नूनं भगवान् हरिरीश्वरः ।

यन्नो विहाय गोविन्दः प्रीतो यामनयद्रहः ॥(भागवत पुराण-10.30.28)

‘अनया राधितो नूनं (भागवत १०/३०/२८) ‘राधितं’ शब्द से आया है।…

२. साहित्याचार्य पं० बलदेव उपाध्याय, एम०ए० की कल्पना-“...

अनया राधितो नूनं”…… (भागवत १०/३०/२८) इस रमणी के द्वारा अवश्य ही भगवान् ईश्वर कृष्ण आराधित हुए हैं। धन्या गोपी की प्रशंसा में उच्चरित इस गद्य में राधा का नाम झीने चादर से ढके हुए किसी गूढ़ बहुमूल्य रत्न की तरह स्पष्ट झलकता है।

इस श्लोक की टीका में गौडीयवैष्णव गोस्वामियों ने स्पष्ट ही ‘राधा’ का गूढ़ संकेत खोज निकाला है।”

३. श्री पं० कालूराम शास्त्री का कुतर्क-

“…जिस समय भगवान् ने लीलावतार श्रीकृष्ण का रूप धारण किया उस समय इनकी उपासना करने के लिए सोलह हज़ार एक सौ सात श्रुतियों की अधिष्ठाता देवताओं ने स्त्री रूप धारण करके श्रीकृष्ण से पाणिग्रहण किया।

 इसी प्रकार (१६१०७) सोलह हज़ार एक सौ सात स्त्रियों तो हुईं और एक भगवती रुक्मिणी रूप धारण करके लक्ष्मी अवतरित हुई। इस कारण से भगवान् श्रीकृष्ण की १६१०८ स्त्रियां हुईं।…

समीक्षा-

• श्री कालूराम शास्त्री का १६१०७ श्रुतियों को स्त्री बतलाना भी कोरा गप्प ही है। इसी कुतर्क पर वे पुराणों की मिथ्या, अश्लील गप्पों को सत्य सिद्ध करने के लिए ‘पुराण वर्म’ जैसी ऊटपटांग पुस्तक लिखी है।

• पं० बलदेव उपाध्याय का भागवत भागवत १०/३०/२८ में ‘अनया राधितो नूनं’ प्रमाण लिखना अशुद्ध है। बिना मूल ग्रन्थ को देखे हुए उन्होंने किसी की पुस्तक से प्रतिलिपि कर ली है।

• पं० दीनानाथ शास्त्री का प्रमाण वर्तमान भागवत स्कन्ध दस, अध्याय तीस, श्लोक २८ में है।

___________

अराधितो’ यहां किया है और सारस्वत जी व उपाध्याय जी दोनों ही ‘राधा’ अर्थ करके अनर्थ करते हैं।

• पौराणिक पं० रामतेज पाण्डेय साहित्य शास्त्री ने इसका सही अर्थ इस प्रकार किया है- 

अवश्य ही इसने भगवान् कृष्ण की आराधना की होगी।”

• साहित्य भूषण, काव्य मनीषी, पं० गोविन्द दास व्यास ‘विनीत’ अर्थ करते हैं- “परमेश्वर भगवान् का सच्चा आराधन तो इसने किया है।”

अनेक विद्वान् ‘श्री भागवत महापुराण’ में ‘राधा’ की चर्चा नहीं मानते हैं-

• श्री विन्टर नीट्ज लिखते हैं- “पर राधा का नाम नहीं है। इससे (Naidya) यह सही निष्कर्ष निकालते हैं कि इस पुराण की रचना ‘गीत गोविन्द’ के पहले हुई।”

• पौराणिक संन्यासी स्वामी अखण्डानन्द सरस्वती लिखते हैं- “भगवान् व्यास अथवा श्री शुक्रदेव जी महाराज अनन्त ज्ञान सम्पन्न हैं। ऐसी स्थिति में उन्होंने किस अभिप्राय से श्री राधा जी और गोपियों का नामोल्लेख नहीं किया, इस प्रश्न का उत्तर या तो उनकी कृपा से ही प्राप्त हो सकता है अथवा केवल अपने या दूसरे के अनुमान पर सन्तोष कर लेने से।”

• विद्यावारिधि पं० ज्वालाप्रसाद मिश्र, मुरादाबाद लिखते हैं- “विष्णु भागवत में गोपी और कृष्ण का चरित्र विस्तृत होने पर भी ‘राधा’ का नाम नहीं है, होता तो राधा महात्म्य अवश्य होता।”

• श्री पूर्णेन्दु नारायण सिंह, एम०ए०, बी०एल० ‘राधा’ का अस्तित्व नहीं मानते हैं। वे लिखते हैं- “But I shall not touch in front of her is a study of the Bhagavata Purana.”

अर्थात्- “भागवत पुराण के अध्ययन में मैं उसके (राधा) ऊपर स्पर्श नहीं करूंगा।”

• पं० राम प्रताप त्रिपाठी शास्त्री लिखते हैं- “श्रीमद् भागवत में ‘राधा’ का नामोल्लेख भी नहीं है, जो परवर्ती कृष्ण काव्य की आधार भूमि है।”

• साहित्याचार्य पं० विश्वेश्वर नाथ रेउ अपने “पुराणों पर एक दृष्टि” शीर्षक लेख १० में लिखते हैं- “यद्यपि श्रीमद् भागवत में कहीं भी ‘राधा’ का उल्लेख नहीं हुआ है ।

तथापि ‘देवीभागवत’ में उसके चरित्र को स्थान दिया गया है।”

गोपों की कन्यायें राधा, दुर्गा और गायत्री

उनके लिए बता दें कि दुर्गा के यादवी अर्थात् यादव कन्या होने के पौराणिक सन्दर्भ हैं

परन्तु महिषासुर के अहीर या यादव होने का कोई पौराणिक सन्दर्भ नहीं !

देवी भागवत पुराण और मार्कण्डेय पुराण में दुर्गा ही नंदकुल में अवतरित होती है–

हम आपको  मार्कण्डेय पुराण और देवी भागवत पुराण  से कुछ सन्दर्भ देते हैं जो दुर्गा को यादव या अहीर कन्या के रूप में वर्णन करते हैं…

देखें निम्न श्लोक …

नन्दा नन्दप्रिया निद्रा नृनुता नन्दनात्मिका ।

 नर्मदा नलिनी नीला नीलकण्ठसमाश्रया ॥ ८१ ॥

~देवीभागवतपुराणम्/स्कन्धः १२/अध्यायः ०६

उपर्युक्त श्लोक में नन्द जी की प्रिय पुत्री होने से नन्द प्रिया दुर्गा का ही विशेषण है …

नन्दजा नवरत्‍नाढ्या नैमिषारण्यवासिनी ।

 नवनीतप्रिया नारी नीलजीमूतनिःस्वना ॥ ८६ ॥

 ~देवीभागवतपुराणम्/स्कन्धः १२/अध्यायः ०६

उपर्युक्त श्लोक में भी नन्द की पुत्री होने से दुर्गा को नन्दजा (नन्देन सह यशोदायाञ् जायते  इति नन्दजा) कहा गया है ..

यक्षिणी योगयुक्ता च यक्षराजप्रसूतिनी ।

 यात्रा यानविधानज्ञा यदुवंशसमुद्‍भवा॥१३१॥

 ~देवीभागवतपुराणम्/स्कन्धः १२/अध्यायः ०६

उपर्युक्त श्लोक में दुर्गा देवी यदुवंश में नन्द आभीर के  घर  यदुवंश में जन्म लेने से (यदुवंशसमुद्भवा) कहा है जो यदुवंश में अवतार लेती हैं 

नीचे मार्कण्डेय पुराण से श्लोक उद्धृत हैं

जिनमे दुर्गा को यादवी कन्या कहा है:-

वैवस्वतेऽन्तरे प्राप्ते अष्टाविंशतिमे युगे ।

शुम्भो निशुम्भश्चैवान्यावुत्पत्स्येते महासुरौ॥३८॥

नन्दगोपगृहे जाता यशोदागर्भसम्भवा ।

ततस्तौ नाशयिष्यामि विन्ध्याचलनिवासिनी॥३९॥

~मार्कण्डेयपुराणम्/अध्यायः ९१

अट्ठाईसवें युग में वैवस्वत मन्वन्तर के प्रगट होने पर जब दूसरे शुम्भ निशुम्भ दैत्य उत्पन्न होंगे तब मैं नन्द गोप के घर यशोदा के गर्भ से उत्पन्न होकर उन दोनों(शुम्भ और निशुम्भ) का नाश करूँगी और विन्ध्याचल पर्वत पर रहूंगी।

मार्कण्डेय पुराण के मूर्ति रहस्य प्रकरण में आदि शक्ति की छः अंगभूत देवियों का वर्णन है उसमे से एक नाम नंदा का भी है:-

इस देवी की अंगभूता छ: देवियाँ हैं –१- नन्दा, २-रक्तदन्तिका, ३-शाकम्भरी, ४-दुर्गा, ५-भीमा और ६-भ्रामरी. ये देवियों की साक्षात मूर्तियाँ हैं, इनके स्वरुप का प्रतिपादन होने से इस प्रकरण को मूर्तिरहस्य कहते हैं…

दुर्गा सप्तशती में देवी दुर्गा को स्थान स्थान पर नंदा और नंदजा कहकर संबोधित किया है जिसमे की नंद आभीर की पुत्री होने से देवी को नंदजा कहा है-

 “नन्द आभीरेण जायते इति देवी नन्दा विख्यातम्”

                  ऋषिरुवाच

नन्दा भगवती नाम या भविष्यति नन्दजा।

सा स्तुता पूजिता ध्याता वशीकुर्याज्जगत्त्रयम्॥१॥

~श्रीमार्कण्डेय पुराणे सावर्णिके मन्वन्तरे देवीमाहात्म्ये

मूर्तिरहस्यं

अर्थ – ऋषि कहते हैं – राजन् ! नन्दा नाम की देवी जो नन्द से उत्पन्न होने वाली है, उनकी यदि भक्तिपूर्वक स्तुति और पूजा की जाए तो वे तीनों लोकों को उपासक के अधीन कर देती हैं|

आप को बता दें गर्ग संहिता, पद्म पुराण आदि ग्रन्थों में नन्द को आभीर कह कर सम्बोधित किया है:-

आभीरस्यापि नन्दस्य पूर्वं पुत्रः प्रकीर्तितः ॥

वसुदेवो मन्यते तं मत्पुत्रोऽयं गतत्रपः॥१४॥

~गर्गसंहिता/खण्डः ७ (विश्वजित्खण्डः)/अध्यायः ०७

इति श्रीगर्गसंहितायां श्रीविश्वजित्खण्डे श्रीनारदबहुलाश्वसंवादे गुर्जरराष्ट्राचेदिदेशगमनं नाम सप्तमोऽध्यायः ॥७॥

नारद और बहुलाक्ष ( मिथिला) के राजा में संवाद चलता है तब नारद बहुलाक्ष से  शिशुपाल और उद्धव के संवाद का वर्णन करते हैं 

 अर्थात् यहाँ संवाद में ही संवाद है 👇

अर्थ:- दमघोष पुत्र  शिशुपाल  उद्धव जी से कहता हैं कि कृष्ण वास्तव में नन्द अहीर का पुत्र है ।

उसे वसुदेव ने वरबस अपना पुत्र माने लिया है उसे इस बात पर तनिक भी लाज ( त्रप) नहीं आती है।

अन्य स्थानों पर नंद को गोप लिखा है किंतु इस श्लोक में आभीर इससे एक बाद स्पष्ट हो जाती है कि आभीर और गोप परस्पर पर्यायावाची शब्द है…

हरिवंश पुराण , गर्गगसंहिता  और देवी भागवत में वसुदेव को भी गोप रूप में जन्म लेना  बताया गया है !

यद्यपि शिशुपाल भी हैहयवंश यादवों  के विदर्भ के वंशजों में परिगणित है;  परन्तु यहाँ ग्रन्थकार ने अज्ञानता वश शिशुपाल को अन्य वंश से सम्बद्ध कर के ही तो यदुवंशीयों की अवहेलना करने वाले के रूप में वर्णित किया है 

ये बाते असंगत ही हैं 

पद्म पुराण में गायत्री देवी को एक स्थान पर गोप कन्या लिखा है “गोप कन्यां च तां दृष्टवा” एवं एक स्थान पर आभीर कन्या “”आभीरः कन्या रूपाढ्या ,शुभास्यां चारू लोचना”” लिखा है…

श्री कृष्ण,वसुदेव व अन्य यादवों को भी गर्ग संहिता में अनेकों स्थानों पर गोप कहा गया है:-

 तं द्वारकेशं पश्यंति मनुजा ये कलौ युगे ।

 सर्वे कृतार्थतां यांति तत्र गत्वा नृपेश्वरः॥४०॥

यः शृणोति चरित्रं वै गोलोकारोहणं हरेः ।

 मुक्तिं यदूनां गोपानां सर्वपापैः प्रमुच्यते॥४१॥

(गर्गसंहिता/खण्डः १० (अश्वमेधखण्डः)/अध्यायः ६०)

हे राजन् (नृपेश्वर)जो (ये) मनुष्य (मनुजा) कलियुग में (कलौयुगे ) वहाँ जाकर ( गत्वा)

उन द्वारकेश को (तं द्वारकेशं) कृष्ण को देखते हैं (पश्यन्ति) वे सभी कृतार्थों को प्राप्त होते हैं (सर्वे कृतार्थतां यान्ति)।

 जो (य:)  हरि के (हरे:) यादव गोपों के (यदुनां गोपानां )गोलोक गमन (गोलोकारोहणं )   चरित्र को (चरित्रं )  निश्चय ही (वै )

सुनता है (श्रृणोति ) 

वह मुक्ति को पाकर (मुक्तिं गत्वा) सभी पापों से (सर्व पापै: ) मुक्त होता है ( प्रमुच्यते )।

और भागवत पुराण के दशम स्कन्ध के अध्याय के बासठ तिरेसठ वें श्लोकों में नन्द और वसुदेव को सजातीय वृष्णि वंशी कहा है ।

नन्दाद्या ये व्रजे गोपा याश्च आमीषां च योषितः ।

 वृष्णयो वसुदेवाद्या देवक्याद्या यदुस्त्रियः॥६२॥

सर्वे वै देवताप्राया उभयोरपि भारत ।

 ज्ञातयो बन्धुसुहृदो ये च कंसं अनुव्रताः॥६३॥

~श्रीमद्भागवतपुराणम्/स्कन्धः १०/पूर्वार्धः/अध्यायः १

परीक्षित् ! इधर भगवान् नारद कंस के पास आये और उससे बोले कि ‘कंस ! व्रजमें रहनेवाले नन्द आदि गोप, उनकी स्त्रियां, वसुदेव आदि वृष्णिवंशी यादव, देवकी आदि यदुवंश की स्त्रियाँ और नन्द, वसुदेव दोनों सजातीय बन्धु- बान्धव और सगे-सम्बन्धी-सब- के-सब देवता है जो इस समय तुम्हारी सेवा कर रहे हैं, वे भी देवता ही है। 

उन्होंने यह भी बतलाया कि “दुष्टों  के  कारण पृथ्वी का भार बढ़ गया है। इसीलिए देवताओं की और से अब उनके वध की तैयारी की जा रही है।

अद्यप्रभृति सैन्यैर्मे पुरीरोध: प्रवर्त्यताम्।

यावद् एतौ रणे (गोपौ) वसुदेवसुतावुभौ।।३६।।

संकर्षणं च कृष्णं च घातयामि शितै: शरै:।

आकाशमपि बाणौघैर्नि: सम्पातं यथा भवेत्।।३७।।

मयानुशिष्टाऽस्तिष्ठान्तु पुरीभूमिषु भूमिपा:।

तेषु तेष्ववकाशेषु शीघ्रमारुह्यतां पुरी।।३८।।

मद्र: कलिङ्गाधिपतिश्चेाकितान: सबा‍ह्लिक:।

काश्मीरराजो गोनर्द: करूषाधिपतिस्तथा।।३९।।

द्रुम: किम्पुनरुषश्चैव पर्वतीयो ह्यनामाय:।

नगर्या: पश्चिमं द्वारं शीघ्रमारोधयन्त्विति।।४०।।

~हरिवंशपुराणम्/विष्णुपर्व/अध्याय: ३५

आज से मेरे सैनिकों द्वारा मथुरापुरी पर घेरा डाल दिया जाय और उसे तब तक जारी रखा जाय, जब तक कि मैं युद्ध में इन दोनों (गोपों )वसुदेवपुत्र संकर्षण और कृष्ण को अपने तीखे बाणों द्वारा मार न डालूं। 

उस समय तक आकाश को भी बाण समूहों से इस तरह रूंध दिया जाय, जिससे पक्षी भी उड़कर बाहर न जा सके। 

मेरा अनुशासन मानकर समस्त भूपाल मथुरापुरी के निकटवर्ती भू-भागों में खड़े रहें और जब जहाँ अवकाश मिल जाय, तब तहां शीघ्र ही पुरी पर चढ़ाई कर दें।

मद्रराज (शल्य), कलिंगराज श्रुतायु, चेकितान, बाह्कि, काश्‍मीरराज गोनर्द, करूषराज दन्तवक्त्र तथा पर्वतीय प्रदेश के रोग रहित किन्नरराज द्रुम- ये शीघ्र ही मथुरापुरी के पश्चिम द्वार को रोक लें।

स्कन्द पुराण में एक स्थान पर कहा 

गोपरूप(श्री कृष्ण)धारी भगवान विष्णु को नमस्कार है:–

नमस्ते गोपरूपाय विष्णवे परमात्मने ॥

~स्कन्दपुराणम्/खण्डः ७ (प्रभासखण्डः)/द्वारकामाहात्म्यम्/अध्यायः १३

___________________________________

गोपायनं यः कुरुते जगतः सार्वलौकिकम् ।

स कथं गां गतो देवो विष्णुर्गोपत्वमागतः ।। १२ ।।

~हरिवंशपुराणम्/पर्व १ (हरिवंशपर्व)/अध्यायः ४०

भावार्थ:-जो प्रभु विष्णु पृथ्वी के समस्त जीवों की रक्षा करने में समर्थ है l

वही गोप (आभीर) के घर (अयन)में गोप बनकर आता है ।

वसुदेव बाबा को भी हरिवंश पुराण में गोप कहा गया है:–

इति अम्बुपतिना प्रोक्तो वरुणेन अहमच्युत !

गावां कारणत्वज्ञ सतेनांशेन जगतीं गत्वा गोपत्वं एष्यति !!

अर्थात् हे विष्णु वरुण के द्वारा कश्यप को व्रज में गोप (आभीर) का जन्म धारण करने का शाप दिया गया ..

क्योंकि उन्होंने वरुण की गायों का अपहरण किया था..

अब विचारणीय है कि अहीर या गोप शूद्र क्यों है 

आभीर शूद्र है तो नंद बाबा व यशोदा मैया,नंदजा(दुर्गा मैया),गायत्री देवी भी शूद्र हुए क्योंकि ऊपर हमने देखा कि इन्हें आभीर लिखा है ! ☺️

और निम्न श्लोक में राधा रानी सहित अन्य गोपियों को भी आभीर ही लिखा है…

और चैतन्श्रीय परम्परा के सन्त  श्रीलरूप गोस्वामी  द्वारा रचित श्रीश्रीराधाकृष्णगणोद्देश-दीपिका नामक ग्रन्थ में श्लोकः १३४ में राधा जी को आभीर कन्या कहा ।

/लघु भाग/श्रीकृष्णस्य प्रेयस्य:/श्री राधा/श्लोकः १३४

__________________________________

आभीरसुभ्रुवां श्रेष्ठा राधा वृन्दावनेश्वरी |

अस्या : सख्यश्च ललिता विशाखाद्या: सुविश्रुता:।।

भावार्थ:- सुंदर भ्रुकटियों वाली ब्रज की आभीर कन्याओं में वृंदावनेश्वरी श्री राधा और इनकी प्रधान सखियां ललिता और विशाखा सर्वश्रेष्ठ व विख्यात हैं।

अमरकोश में जो गुप्त काल की रचना है ;उसमें अहीरों के अन्य नाम-पर्याय वाची रूप में गोप शब्द भी वर्णित हैं।

आभीर पुल्लिंग विशेषण संज्ञा गोपालः समानार्थक: 

१-गोपाल,२-गोसङ्ख्य, ३-गोधुक्, ४-आभीर,५-वल्लव,६-गोविन्द, ७-गोप ८ – गौश्चर: 

(2।9।57।2।5)

अमरकोशः)

रसखान ने भी गोपियों को आभीर ही कहा है-

“”ताहि अहीर की छोहरियाँ…””

करपात्री स्वामी भी भक्ति सुधा और गोपी गीत में गोपियों को आभीरा ही लिखते हैं

500 साल पहले कृष्णभक्त चारण इशरदास रोहडिया जी ने पिंगल डिंगल शैली में  श्री कृष्ण को दोहे में अहीर लिख दिया:–

दोहा इस प्रकार है:-

नारायण नारायणा, तारण तरण अहीर, हुँ चारण हरिगुण चवां, वो तो सागर भरियो क्षीर।”

अर्थ:-अहीर जाति में अवतार लेने वाले हे नारायण(श्री कृष्ण)! आप जगत के तारण तरण(सर्जक) हो, मैं चारण (आप श्री हरि के) गुणों का वर्णन करता हूँ, जो कि सागर(समुंदर) और दूध से भरा हुआ है।

भगवान श्री कृष्ण की श्रद्धा में सदैव लीन रहने वाले कवि इशरदास रोहडिया (चारण), जिनका जन्म विक्रम संवत 1515 में राजस्थान के भादरेस गांव में हुआ था। जिन्होंने मुख्यतः 2 ग्रंथ लिखे हैं “हरिरस” और “देवयान”।

 यह आजसे 500 साल पहले ईशरदासजी द्वारा लिखे गए एक दुहे में स्पष्ट किया गया है कि कृष्ण भगवान का जन्म अहीर(यादव) कुल में हुआ था।

सूरदास जी ने भी श्री कृष्ण को अहीर कहते हुए सूरसागर में “सखी री, काके मीत अहीर” नाम से एक राग गाया!!

तिरुपति बालाजी मंदिर का पुनर्निर्माण विजयनगर नगर के शासक वीर नरसिंह देव राय यादव और राजा कृष्णदेव राय ने किया था।

विजयनगर के राजाओं ने बालाजी मंदिर के शिखर को स्वर्ण कलश से सजाया था। 

भागवत पुराण हिंदी में

विजयनगर के यादव राजाओं ने मंदिर में नियमित पूजा, भोग, मंदिर के चारों ओर प्रकाश तथा तीर्थ यात्रियों और श्रद्धालुओं के लिए मुफ्त प्रसाद की व्यवस्था कराई थी।तिरुपति बालाजी (भगवान वेंकटेश) के प्रति यादव राजाओं की निःस्वार्थ सेवा के कारण मंदिर में प्रथम पूजा का अधिकार यादव जाति को दिया गया है।

तब ऐसे में आभीरों को शूद्र कहना युक्तिसंगत नहीं

गोप शूद्र नहीं अपितु स्वयं में क्षत्रिय ही हैं ।

जैसा की संस्कृति साहित्य का इतिहास नामक पुस्तकमें पृष्ठ संख्या  368 पर वर्णित है

अस्त्र हस्ताश्च धन्वान: संग्रामे सर्वसम्मुखे ।

प्रारम्भे विजिता येन स: गोप क्षत्रिय उच्यते ।।

और गर्ग सहिता

 में लिखा है !

 यादव: श्रृणोति चरितं वै गोलोकारोहणं हरे :

मुक्ति यदूनां गोपानं सर्व पापै: प्रमुच्यते ।102।

अर्थात् जिसके हाथों में अस्त्र एवम् धनुष वाण हैं —जो युद्ध को प्रारम्भिक काल में ही विजित कर लेते हैं वह गोप क्षत्रिय ही कहे जाते हैं ।

जो मनुष्य गोप अर्थात् आभीर (यादवों )के चरित्रों का श्रवण करता है ।

वह समग्र पाप-तापों से मुक्त हो जाता है ।।

________________________________

 विरोधीयों का दूसरा दुराग्रह भी बहुत दुर्बल है

कि गाय पालने से ही यादव गोप के रूप में वैश्य हो गये

परन्तु 

गावो विश्वस्य मातर: ” महाभारत की यह सूक्ति वेदों का भावानुवाद है जिसका अर्थ है कि गाय विश्व की माता है !

और माता का पालन करना किस प्रकार तुच्छ या वैश्य वृत्ति का कारण हो सकता है …

राजा लोग गो की रक्षा और पालन का पुनीत उत्तर दायित्व सदीयों से निर्वहन करते रहे हैं 

 राजा दिलीप नन्दनी गाय की सेवा करते हैं परन्तु वे क्षत्रिय ही हैं ।

परन्तु ये तर्क कोई दे कि दुग्ध विक्रय करने से यादव या गोप वैश्य हैं तो सभी किसान दुग्ध विक्रय के द्वारा अपनी आर्थिक आवश्यकताओं का निर्वहन करते हैं …

अत: गोपाल या दुग्ध विक्रय प्रत्येक किसान करता है वे सभी वैश्य ही हुए जो अपने को क्षत्रिय या ठाकुर लिखते हैं वे भी दूध वेचते हैं वे सभी वैश्य है क्या ?

गुर्जर व जाट का भी यदुवंश से सम्बन्ध है…

ते कृष्णस्य परीवारा ये जना व्रजवासिनः। 

पशुपालास्तथा विप्रा बहिष्ठाश्चेति ते त्रिधा॥

पशुपालास्त्रिधा वैश्या आभीरा गुर्जरास्तथा।

गोप-बल्लव-पर्याया यदुवंश-समुद्भवाः॥

व्रजवासीजन ही श्रीकृष्णका परिवार है। उनका यह परिवार पशुपाल, विप्र और बहिष्ठ (शिल्पकार) रूपसे तीन प्रकारका है।

पशुपाल भी पुनः वैश्य, आभीर (अहीर) और गुर्जर (गूजर) भेद तीन प्रकारके हैं। 

इनकी उत्पत्ति यदुवंशसे हुई है तथा ये सभी गोप और बल्लव जैसे समानार्थक नामोंसे जाने जाते हैं

श्री कृष्णचंद्र दीपिका और यदुवंश दर्पण के यदुवंश वृक्ष नामक अध्याय में लिखा हुआ मिलता है:-

पुरुजित वंशी जाट हैं,ज्यामघ वंश अहीर।

रुक्म वंश गूजर कहे,तीनों कुल यदुवीर।

महाराजा सूरजमल की प्राचीन प्रतिमाओं पर यादव वंशी जाट वीर लिखा मिल जायेगा 

और अनेकों पुस्तकों में भी इस सन्दर्भ में बहुत से प्रमाण मिल जायेंगे जैसे विश्वास पटियाला की पानीपत पुस्तक…

महाभारत शांतिपर्व अध्याय 81 श्लोक 29 में कुकुर,भोज, अंधक व वृष्णिवंश को यदुवंश की शाखा बतलाया है…

वर्तमान में अहीरों के अतिरिक्त अंधक जाटों में एक गौत्र है और भोज गुर्जरों में इसके अतिरिक्त गुर्जरों में एक अहीर गोत्र है और अहीरों में एक गौत्र गूजर है!!

कुकुर गौत्र से मिलता जुलता जाटों में एक गौत्र कक्कड़ है…

यह पारस्परिक सामञ्जस्य इनकी प्राचीनतम मोनो -रैसीयल (एक नस्ल)  होने का प्रमाण है ।

भक्तिकालीन कवियों ने गोप गोपियों को कहीं कहीं गूजर गुजरिया कहा कहीं कहीं अहीर तब अहीर जाट गुर्जर किसी समय पर एक जाति रही होगी जो की बाद में बट गयी !!

श्रीमद्भागवत पुराण हिन्दू / विकृत वर्णन

श्रीमद्भागवत पुराण हिन्दू समाज का सर्वाधिक आदरणीय पुराण है। यह वैष्णव सम्प्रदाय का प्रमुख ग्रन्थ है। इस ग्रन्थ में वेदों, उपनिषदों तथा दर्शन शास्त्र के गूढ़ एवं रहस्यमय विषयों को अत्यन्त सरलता के साथ निरूपित किया गया है। इसे ‘भारतीय धर्म और संस्कृति का विश्वकोश’ कहना अधिक समीचीन होगा। सैकड़ों वर्षों से यह पुराण हिन्दू समाज की धार्मिक, सामाजिक और लौकिक मर्यादाओं की स्थापना में महत्त्वपूर्ण भूमिका अदा करता आ रहा है।

सकाम कर्म, निष्काम कर्म, ज्ञान साधना, सिद्धि साधना, भक्ति, अनुग्रह, मर्यादा, द्वैत-अद्वैत, द्वैताद्वैत, निर्गुण-सगुण तथा व्यक्त-अव्यक्त रहस्यों का समन्वय उपलब्ध होता है। ‘श्रीमद्भागवत पुराण’ वर्णन की विशदता और उदात्त काव्य-रमणीयता से ओतप्रोत है। यह विद्या का अक्षय भण्डार है। यह पुराण सभी प्रकार के कल्याण देने वाला तथा त्रय ताप-आधिभौतिक, आधिदैविक और आधिदैहिक आदि का शमन करता है। ज्ञान, भक्ति और वैराग्य का यह महान ग्रन्थ है।

इस पुराण में बारह स्कन्ध हैं, जिनमें विष्णु के अवतारों का ही वर्णन है। नैमिषारण्य में शौनकादि ऋषियों की प्रार्थना पर लोमहर्षण के पुत्र उग्रश्रवा सूत जी ने इस पुराण के माध्यम से श्रीकृष्ण के चौबीस अवतारों की कथा कही है।

इस पुराण में वर्णाश्रम-धर्म-व्यवस्था को पूरी मान्यता दी गई है तथा स्त्री, शूद्र और पतित व्यक्ति को वेद सुनने के अधिकार से वंचित किया गया है। ब्राह्मणों को अधिक महत्त्व दिया गया है। वैदिक काल में स्त्रियों और शूद्रों को वेद सुनने से इसलिए वंचित किया गया था कि उनके पास उन मन्त्रों को श्रवण करके अपनी स्मृति में सुरक्षित रखने का न तो समय था और न ही उनका बौद्धिक विकास इतना तीक्ष्ण था। किन्तु बाद में वैदिक ऋषियों की इस भावना को समझे बिना ब्राह्मणों ने इसे रूढ़ बना दिया और एक प्रकार से वर्गभेद को जन्म दे डाला।

‘श्रीमद्भागवत पुराण’ में बार-बार श्रीकृष्ण के ईश्वरीय और अलौकिक रूप का ही वर्णन किया गया है। पुराणों के लक्षणों में प्राय: पाँच विषयों का उल्लेख किया गया है, किन्तु इसमें दस विषयों-सर्ग-विसर्ग, स्थान, पोषण, ऊति, मन्वन्तर, ईशानुकथा, निरोध, मुक्ति और आश्रय का वर्णन प्राप्त होता है (दूसरे अध्याय में इन दस लक्षणों का विवेचन किया जा चुका है)। यहाँ श्रीकृष्ण के गुणों का बखान करते हुए कहा गया है कि उनके भक्तों की शरण लेने से किरात् हूण, आन्ध्र, पुलिन्द, पुल्कस, आभीर, कंक, यवन और खस आदि तत्कालीन जातियाँ भी पवित्र हो जाती हैं।

सृष्टि-उत्पत्ति

सृष्टि-उत्पत्ति के सन्दर्भ में इस पुराण में कहा गया है- एकोऽहम्बहुस्यामि अर्थात् एक से बहुत होने की इच्छा के फलस्वरूप भगवान स्वयं अपनी माया से अपने स्वरूप में काल, कर्म और स्वभाव को स्वीकार कर लेते हैं। तब काल से तीनों गुणों- सत्त्व, रज और तम में क्षोभ उत्पन्न होता है तथा स्वभाव उस क्षोभ को रूपान्तरित कर देता है। तब कर्म गुणों के महत्त्व को जन्म देता है जो क्रमश: अहंकार, आकाश, वायु तेज, जल, पृथ्वी, मन, इन्द्रियाँ और सत्त्व में परिवर्तित हो जाते हैं। इन सभी के परस्पर मिलने से व्यष्टि-समष्टि रूप पिंड और ब्रह्माण्ड की रचना होती है। यह ब्रह्माण्ड रूपी अण्डा एक हज़ार वर्ष तक ऐसे ही पड़ा रहा। फिर भगवान ने उसमें से सहस्र मुख और अंगों वाले विराट पुरुष को प्रकट किया। उस विराट पुरुष के मुख से ब्राह्मण, भुजाओं से क्षत्रिय, जांघों से वैश्य और पैरों से शूद्र उत्पन्न हुए।

विराट पुरुष रूपी नर से उत्पन्न होने के कारण जल को ‘नार’ कहा गया। यह नार ही बाद में ‘नारायण’ कहलाया। कुल दस प्रकार की सृष्टियाँ बताई गई हैं। महत्तत्त्व, अहंकार, तन्मात्र, इन्दियाँ, इन्द्रियों के अधिष्ठाता देव ‘मन’ और अविद्या- ये छह प्राकृत सृष्टियाँ हैं। इनके अलावा चार विकृत सृष्टियाँ हैं, जिनमें स्थावर वृक्ष, पशु-पक्षी, मनुष्य और देव आते हैं।

काल गणना

श्रीमद्भागवत पुराण‘ में काल गणना भी अत्यधिक सूक्ष्म रूप से की गई है। वस्तु के सूक्ष्मतम स्वरूप को ‘परमाणु’ कहते हैं। दो परमाणुओं से एक ‘अणु’ और तीन अणुओं से मिलकर एक ‘त्रसरेणु’ बनता है। तीन त्रसरेणुओं को पार करने में सूर्य किरणों को जितना समय लगता है, उसे ‘त्रुटि’ कहते हैं। त्रुटि का सौ गुना ‘कालवेध’ होता है और तीन कालवेध का एक ‘लव’ होता है। तीन लव का एक ‘निमेष’, तीन निमेष का एक ‘क्षण’ तथा पाँच क्षणों का एक ‘काष्टा’ होता है। पन्द्रह काष्टा का एक ‘लघु’, पन्द्रह लघुओं की एक ‘नाड़िका’ अथवा ‘दण्ड’ तथा दो नाड़िका या दण्डों का एक ‘मुहूर्त’ होता है। छह मुहूर्त का एक ‘प्रहर’ अथवा ‘याम’ होता है।

भागवत पुराण FAQs

भागवत पुराण में क्या लिखा है?

भागवत में 18 हजार श्लोक, 335 अध्याय तथा 12 स्कन्ध हैं। इसके विभिन्न स्कंधों में विष्णु के लीलावतारों का वर्णन बड़ी सुकुमार भाषा में किया गया है। परंतु भगवान्‌ कृष्ण की ललित लीलाओं का विशद विवरण प्रस्तुत करनेवाला दशम स्कंध भागवत का हृदय है।

भागवत पुराण पढ़ने से क्या होता है?

यह पुराण सभी प्रकार के कल्याण देने वाला तथा त्रय ताप-आधिभौतिक, आधिदैविक और आध्यात्मिक आदि का शमन करता है। ज्ञान, भक्ति और वैरागय का यह महान् ग्रन्थ है। इस पुराण में बारह स्कन्ध हैं, जिनमें विष्णु के अवतारों का ही वर्णन है।

भागवत कितने दिनों का होता है?

भागवत कथा सात दिन का होता हैं.

Get real time updates directly on you device, subscribe now.