basti-urea-shortage: समितियों से गायब है यूरिया, किसान परेशान

31

basti-urea-shortage: Urea missing from committees, farmers upset

हर्रैया : हर्रैया तहसील क्षेत्र में साधन सहकारी समितियों पर यूरिया की किल्लत है। इससे किसान परेशान हैं। रबी सीजन की बोआई के दौरान डीएपी की किल्लत से जूझ रहे किसानों के सामने अब गेहूं की फसल में यूरिया डालने का संकट खड़ा हो गया है।

किसान यूरिया के लिए एक समिति से दूसरे समिति का चक्कर काट रहे हैं। परेशान किसान निजी दुकानों से महंगे दामों पर यूरिया खरीदने को विवश हैं। समितियों पर खाद उपलब्ध नहीं कराई जा रही है। शनिवार को जागरण टीम ने दुबौलिया के भिउरा तिराहा के निकट स्थित सहकारी समिति भरुकहवापर की पड़ताल की तो वहां खाद न होने से किसान परेशान थे।

सचिव सुनील सिंह ने बताया यूरिया की मांग किया गया है। बुधवार तक खाद गोदाम पर आ जाएगा। वहीं शुकुलपुरा में स्थित पारा पर भी खाद की किल्लत है। बैरागल समिति पर 400 बोरी यूरिया उपलब्ध है। गोदाम प्रभारी संजीव सिंह ने बताया खाद की सूचना पर शनिवार को भीड़ हो गई थी। जिससे प्रशासन का सहयोग लेकर रविवार और सोमवार को वितरित करने का निर्णय लिया गया।

परशुरामपुर विकास क्षेत्र के सिकंदरपुर स्थित सहकारी समिति पर खाद न होने से किसान परेशान हैं। गोदाम सचिव गिरजेश कुमार गुप्ता ने बताया यूरिया की मांग की गई है। बुधवार तक साधन सहकारी समिति पर यूरिया मिलने की संभावना है। साधन सहकारी समिति नेवादा के सचिव श्याम नारायन वर्मा ने बताया कि एक सप्ताह पहले यूरिया की मांग की गई है। एक या दो दिन में खाद गोदाम पर आ जाएगी।

किसान रामचंद्र, कृष्ण प्रसाद, तिलकराम, हनुमान प्रसाद, पंकज कुमार, हरिश्चंद्र, राजकुमार, बच्चाराम, संतराम, शिव प्रसाद कहते हैं कि बारिश होने से अब किसानों को अपने गेहूं, सरसों सहित अन्य फसलों में यूरिया का छिड़काव करने की आवश्यकता पड़ रही है। साधन सहकारी समितियों में खाद उपलब्ध नहीं हैं। समिति पर यूरिया की बोरी 270 से 272 रुपये में किसानों को उपलब्ध हो जाती है। वहीं दुकानदारों से जब यूरिया खाद खरीदी जाती है तो 330 से 350 रुपये तक मिलती है। मजबूरी में समितियों पर खाद न होने से किसानों को महंगे दामों पर यूरिया खरीदना पड़ रहा है।