Basti Scam- प्रधानमंत्री किसान योजना में करोड़ों का घोटाला

0 451

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

📍Web | Harraiya Times News Service

#Basti – प्रधानमंत्री किसान योजना में करोड़ों का घोटाला 2 फर्जी फर्म को करोड़ों रुपए का भुगतान किया गौरव इंटरप्राइजेज,अमित ट्रेडर्स को करोड़ों भुगतान BJP विधायक संजय जायसवाल ने शासन को पत्र लिखा कार्रवाई के बजाए भुगतान से नाराज हुए विधायक!

प्रधानमंत्री किसान योजना में करोड़ों का घोटाला सामने आया है जिससे नाराज बीजेपी विधायक ने प्रशासन को पत्र भी लिखा है।

न्यूस्ट्रैक के हवाले से

Basti News:भाजपा विधायक संजय ने कृषि यंत्रीकरण योजना में लगाया भ्रष्टाचार का आरोप

Basti News: भारतीय जनता पार्टी विधायक संजय प्रताप जायसवाल ने नियम 301 के तहत प्रमुख सचिव विधानसभा को पत्र भेजकर कृषि यंत्रीकरण योजना में व्याप्त भ्रष्टाचार के जिम्मेदारों के विरुद्ध कड़ी कार्रवाई किये जाने की मांग की है। भेजे पत्र में विधायक संजय प्रताप ने कहा है कि कृषि विभाग में किसान हितों के लिये सरकार की महत्वाकांक्षी कृषि यंत्रीकरण योजना एवं कस्टम हायरिंग के तहत कृषि उपकरणों की खरीद के लिये कुछ फर्मों द्वारा कृषि विभाग के कर्मचारियोें, अधिकारियोें के मिली भगत से फर्जी बिल बाउचर लगाकर सरकारी धन का दुरुपयोग किया जा रहा है।

कृषि निदेशक बस्ती के कार्यालय..

विधायक ने भेजे पत्र में कहा है कि उन्हें अवगत कराया गया है कृषि निदेशक बस्ती के कार्यालय में तैनात कृषि यंत्रीकरण योजना के पटल सहायक फर्जीवाड़े के मुखिया है, धन उगाही का कार्य भी उनके द्वारा ही कराया जाता है, वे कई वर्षों से एक ही पटल पर नियुक्त हैं। विधायक ने पत्र में कहा है कि इस सम्बन्ध में पूर्व में ही मुख्यमंत्री के साथ ही अन्य विभागीय अधिकारियों को अवगत कराया गया है। इस आधार पर बस्ती में कृषि यंत्रीकरण योजना में व्याप्त भ्रष्टाचार की जांच कृषि निदेशक उप्र के आदेश पर उप निदेशक गोरखपुर मण्डल की अध्यक्षता में चार सदस्यीय जांच कमेटी गठित करने के लिये 3 मार्च, 2021 को ही आदेशित किया गया।

कृषि यंत्रीकरण पटल सहायक…

यही नहीं कृषि यंत्रीकरण पटल सहायक को 28 जुलाई, 2021 को बलरामपुर जनपद में स्थानान्तरण हेतु आदेशित किया गया किन्तु उप निदेशक कृषि बस्ती ने शासनादेश की उपेक्षा करते हुये उन्हें कार्यमुक्त नहीं किया गया। विधायक संजय प्रताप ने कृषि यंत्रीकरण योजना में व्याप्त भ्रष्टाचार का खुलासा करते हुये कहा है कि जहां एक तरफ मामले की जांच चल रही है, वहीं कृषि विभाग द्वारा फर्जीवाड़े में लिप्त फर्मों के फर्जी बिल बाउचर पर करोड़ों रुपये का पटल सहायक, उप निदेशक कृषि की मिलीभगत से भुगतान किया जा रहा है। उन्होंने किसान हित से सम्बंधित इस मामले में त्वरित जांच और प्रभावी कार्रवाई किये जाने का आग्रह किया है।

कौन हैं संजय जायसवाल ?

न्यूज एजेंसी पत्रिका के हवाले से

Know History Of Mla Sanjay Jaiswal, Who Join Bjp Earliest

दल बदलने में माहिर हैं विधायक संजय जायसवाल, जिसकी लहर उसी में निष्ठा

बस्ती. 2017 विधानसभा चुनाव से पहले दिग्गजों का पाला बदलने का सिलसिला जारी हो चुका है। बस्ती जिले के रूधौली विधानसभा से कांग्रेस के विधायक संजय जायसवाल कांग्रेस से बगावत कर आज लखनउ में भाजपा ज्वाइन कर लिया है। संजय जायसवाल का बीजेपी में शामिल होने की अटकलें एमएलसी चुनाव से ही लगाया जा रहा था और आज सारे अटकलों पर विराम लगाते हुये संजय ने बीजेपी का दामन थाम लिया।

कयास लगाये जा रहे हैं रूधौली विधानसभा से अब संजय 2017 का भी चुनाव लड़ सकते हैं। संजय जायसवाल के राजनैतिक कैरियर में 2015 में उस वक्त भुचाल आ गया था जब विधायक निवास पर वे अपनी प्रेमिका के साथ पकड़े गये थे और उनके खिलाफ हजरतगंज थाने में मुकदमा भी दर्ज हुआ था।


मगर अपने प्रभाव के दम पर यह मामला ठंडे बस्ते में चला गया। आपको यहां यह भी बताते चले कि संजय जायसवाल इससे पहले 2002 में निर्दलीय चुनाव लड़कर रजनीति में कदम रखा था। उस वक्त वे सपा के अनूप पांडे को लगभग 5000 वोट से हराकर चैथे पायदान पर थे।

2002 का विधानसभा चुनाव लड़ने से पहले संजय जायसवाल ने कांग्रेस से पहले ही किनारा कस लिया था। युवा कांग्रेस के प्रदेष उपाध्यक्ष के पद पर रहते हुये 2000 में ही इस्तीफा दे दिया था। इसके बाद वे 2002 में चुनाव लड़े और फिर वे पीछे मुड़कर नहीं देखा।

2007 में एक बार फिर कांग्रेस के टिकट पर संजय ने रूधौली विधानसभा का चुनाव लड़ा मगर उस वक्त वे तीसरे स्थान पर रहे। अथक प्रयास और जीत के पक्के ईरादे को कायम रखते हुये संजय ने हार नहीं मानी और तीसरी बार वे 2012 में फिर से रूधौली की जनता के सामने पहुंचे और इस बार वे बसपा के राजेन्द्र चौधरी को 5000 वोटो से हराकर विधानसभा पहुंचे।

संजय जासवाल मुख्य रूप से व्यवसाई हैं और उनके बस्ती में मिटटी के तेल के डिपो हैं,, रूधौली की जनता के लिये
विधायक संजय ने भरसक प्रयास कर काम करके दिखाया है। सबसे पहले संजय ने रूधौली को नगर पंचायत का दर्जा दिलाया और उन गांवो में बिजली पहुंचाई जहां पर आजादी के बाद से नही थी।

ऐसे में अब संजय का बीजेपी में आना कहीं न कहीं उनकी सधी हुई राजनीति का परिचय ही माना जायेगा। कांग्रेस से जीत
के बाद भी संजय जायसवाल को 2014 से कांग्रेस का साथ नहीं मिल रहा था । पार्टी ने संजय का साथ छोड़ दिया था मगर संजय कभी इस बात को सार्वजनिक नहीं किये।

सही समय का इंतेजार करते हुये आखिरकार संजय जायसवाल ने चौका लगाकर रूधौली विधानसभा का चुनाव लड़ने की आस में बैठे भाजपाईयों के साथ साथ अन्य दलों के नेताओं के दिल की धड़कन भी बढ़ा दिया है।

Get real time updates directly on you device, subscribe now.