Basti News Today : दो साल बीत गए, एक हजार से अधिक आवास अधूरे

31

Basti News Today : दो साल बीत गए, एक हजार से अधिक आवास अधूरे

बस्ती : जिले में प्रधानमंत्री आवास योजना ग्रामीण लेटलतीफी का शिकार हो गई है। दो साल बाद भी 1002 आवासों का निर्माण पूरा नहीं हो पाया है। जिलाधिकारी व मुख्य विकास अधिकारी के निर्देशों के बाद भी आवास निर्माण में लेटलतीफी बरती जा रही है।

प्रधानमंत्री आवास योजना ग्रामीण के तहत 2020-21 में जिले में 23766 आवास निर्माण का लक्ष्य निर्धारित किया गया था। इसके सापेक्ष 23751 आवास स्वीकृत किए गए थे। बहादुरपुर विकास खंड में 2544, बनकटी में 2549, बस्ती सदर में 1189, दुबौलिया में 1723, गौर में 1261, हर्रैया में 2040, कप्तानगंज में 846, कुदरहा में 3003, परशुरामपुर में 1776, रामनगर में 1300, रुधौली में 1324, सल्टौआ गोपालपुर में 1959, साऊंघाट में 1165 और विक्रमजोत विकास खंड में 1072 आवास स्वीकृत किए गए थे।

बहादुरपुर में अब तक 2429, बनकटी में 2428, बस्ती सदर 1134, दुबौलिया में 1607, गौर में 1144, हर्रैया में 1898, कप्तानगंज में 824, कुदरहा में 2942, परशुरामपुर में 1731, रामनगर में 1264, रुधौली में 1288, सल्टौआ गोपालपुर में 1902, साऊंघाट में 1133 और विक्रमजोत ब्लाक में 1025 आवास का ही निर्माण पूरा हो पाया है।

.

2021-22 के भी 505 आवास अपूर्ण बस्ती : पिछले 2021-22 के स्वीकृत 2638 आवास में से अब तक 2133 आवासों का ही निर्माण अब तक पूरा हो चुका है। अभी भी 505 आवासों का निर्माण अपूर्ण है। बहादुरपुर में 20, बनकटी में 72, बस्ती सदर 16, दुबौलिया में 95, गौर में 80, हर्रैया में 42, कप्तानगंज में 11, कुदरहा में 53, परशुरामपुर में 10, रामनगर में 21, रुधौली में 30, सल्टौआ गोपालपुर में 11, साऊंघाट में 31 और विक्रमजोत ब्लाक में 13 आवास का निर्माण अधूरा है।

……..

आवास पूर्ण न कराने वालों के विरुद्ध जारी होगी आरसी : पीडी

ग्राम्य विकास अभिकरण के परियोजना निदेशक कमलेश कुमार सोनी ने बताया कि कुछ लाभार्थी ऐसे हैं जो पहली और दूसरी या तीसरी किस्त की धनराशि लेने के बाद गांव से बाहर चले गए हैं। उनके आवास अधूरे हैं। ऐसे लोगों को चिन्हित किया जा रहा है। उनके विरुद्ध आरसी जारी कर वसूली की कार्रवाई की जाएगी। इतना ही नहीं कुछ लाभार्थियों ने मानक से बड़ा आवास का निर्माण शुरू करा दिया, जिसके कारण निर्धारित धनराशि से आवास पूर्ण नहीं हो पा रहा है।

Read Also :