Basti News: हफ्ता बीतने के बावजूद नहीं हुई कोई कार्रवाई – प्रशासन द्वारा नहीं हुई कोई कार्रवाई – अवैध कब्जेदारों के सामने प्रशासन पस्त

29

Basti News In Hindi: हफ्ता बीतने के बावजूद नहीं हुई कोई कार्रवाई – प्रशासन द्वारा नहीं हुई कोई कार्रवाई – अवैध कब्जेदारों के सामने प्रशासन पस्त

बस्ती. बस्ती के अवैध कब्जों पर कब चलेगा बुलडोजर शीर्षक से छपी खबर के बाद जागे प्रशासन ने आनन-फानन में दूसरे दिन अधिकारियों के साथ मीटिंग में जिलाधिकारी ने साफ शब्दों में बस्ती में हुए अवैध कब्जों पर एक हफ्ते के अंदर कार्रवाई करने का आदेश दिया था. प्रशासन के इस आदेश पर शहरवासियों ने जमकर सराहना किया. मगर हफ्ता बीतने के बावजूद अवैध कब्जेदारों के उपर कार्रवाई न होने से प्रशासन के उपर सवालिया निशान खड़े हो रहे हैं. 

     अवैध कब्जे के सबसे ज्यादा मामले राजस्व से जुड़े हुए है. तहसीलों में सरकारी जमीनों को  बेचने वालों को रैकेट काम करता है. यदि ऐसा न होता तो शहर के  तालाबों पर कब्जा कर हवेलियां नहीं खड़ी हो पातीं. सरकारी सम्पत्तियों को भी रसूखदारों ने नहीं बख्शा. ये पोल जिलाधिकारी की मीटिंग में पहले ही खुल चुकी है. जब डीएफओ, लोकनिर्माण विभाग जैसे तमाम विभागों के मुखियाओं ने अपने जमीनों से अतिक्रमण हटाने को लेकर हाथ खड़े कर लिये. 

    डीएम को भरी मीटिंग में कहना पड़ा कि  ऐसे कब्जों को हटाने के लिए पुलिस बल के साथ अधिकारियों की टीम जाये. इसके बावजूद चिन्हित कब्जों पर अब तक कार्रवाई के नाम पर ढेला भर भी काम नहीं हुआ. राजस्व महकमे के खेल ही निराले है.

इनके कारनामों पर पूरी महाकथा लिखी जा सकती है.  विभाग के कुछ कर्मचारियों ने नाम न छापने की शर्त पर बताया की भूमाफियाओं और राजस्वकर्मियों की मिलीभगत से शहर के खाली जमीनों को बेच कर भारी मुनाफा कमाया जाता है. 

    पैसों की चाहत में हजारों बीघा जमीन भूमाफियाओं ने लोगों को बेच डाला है. अब इस तरह के कब्जों को प्रशासन कैसे खाली करवा पाता है या अवैध कब्जा हटाने का आदेश सिर्फ हवाई फायरिंग साबित होगया. इसका जवाब सिर्फ प्रशासन ही दे सकता है.