Basti News: महादलित बस्ती में 30 वर्ष बाद रामशंकर हुए मैट्रिक पास

16

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

सौ घरों की महादलित बस्ती में 30 साल बाद रामशंकर मैट्रिक पास किया है। पिता चूहा पकड़कर परिवार चलाते हैं। बेटे को कलक्टर के रुप में देखना चाह रहे हैं। भाई के रिजल्ट आने से बहन रानी भी काफी खुश है। वह भी मैट्रिक परीक्षा में सफल होने के लिए दिन रात पढ़ाई कर रही हैं। बिक्रमगंज के घुसिया खुर्द पंचायत के गोपालपुर महादलित बस्ती में मैट्रिक पास रामशंकर के पिता मैन मुसहर खेतों में चूहा पकड़ने तथा नालों की सफाई करने का काम कर अपना गुजारा करते हैं।

इस विषम परिस्थिति में भी अपने बच्चे को मैट्रिक की परीक्षा पास करता देख वह काफी खुश हैं। वह दिन-रात मेहनत कर अपने बच्चे को पढ़ा लिखाकर कलक्टर बनाना चाहते हैं। मैन मुसहर कहते हैं कि उनके लिए यह एक सपना पूरा होने के समान है। वह अपने बेटे को अफसर बनाना चाहते हैं। ताकि कई पीढ़ियों से गरीबी और सामाजिक असमानता के दंश से खुद को बाहर को निकाल सकें।

सामाजिक असमानता के बीच पाई सफलता
जिस तरह से झुग्गी झोपड़ी में बिना बिजली बत्ती के घोर अभाव में सामाजिक असमानता के बीच रामशंकर ने सफलता पाई है। यह बिहार टॉपर होने से कम खुशी की बात नहीं है। रामशंकर पूरे मुसहर बस्ती का हीरो हो गया है। रामशंकर के इस सफलता ने बस्ती के बच्चों को नई दिशा देने का काम किया है। टोले के पांचवी-छठी कक्षा में पढ़ रहे छात्रों में इसको लेकर उत्‍साह है।

मुसहर टोली के 9वीं कक्षा का छात्र पूरन राम कहता है कि वह भी मैट्रिक की परीक्षा पास कर दिखाएगा। रामशंकर की बहन रानी कहती है कि वह भी पढ़ाई कर रही है और अपने भाई की तरह मैट्रिक परीक्षा पास करना चाहती है।

मिठाई के पैसे नहीं तो खुशी में ब्रेड खिलाई

आर्थिक रुप से यह परिवार कितना दिक्कत में है यह तस्बीर साफ साफ बयान कर रहा है। मैट्रिक के जब परिणाम आया और रामशंकर पास हुआ तो उनके माँ पिता के पास मिठाई खरीदने के पैसे नहीं थे तो उन्होंने मैट्रिक पास रामशंकर को ब्रेड खिलाकर खुशी का इजहार किए। उस समय रामशंकर के चेहरों पर जो अभाव के मुस्कान थे। वह बता रहा था कि आने वाले कल उनका है।

Get real time updates directly on you device, subscribe now.