Basti Gaur Bajar News : कीचड़ से पटे परिसर, कहीं टपक रही छत

0 348

📍 Gaur Basti | Harraiya Times News Service

गौर विकास खंड क्षेत्र में शिक्षा विभाग के कारनामे एक से एक हैं। बेसिक शिक्षा विभाग की गाड़ी को पटरी पर लाने की बेसिक शिक्षा मंत्री की कवायद को उनके ही अफसर पलीता लगा रहे हैं। जूनियर विद्यालयों में पढ़ाई शुरू हो चुकी है लेकिन कहीं शिक्षक अनुपस्थित हैं तो कहीं बच्चों का टोटा। गुरुवार को विद्यालयों की पड़ताल की गई तो संसाधनों की कमी के साथ शिक्षकों की लापरवाही भी सामने आई। समय 11.20 बजे,स्थान प्राथमिक विद्यालय लोढ़वा। यहां प्रधानाध्यापक राजेश , सहायक अध्यापक रघुवंश मणि व शिक्षा मित्र श्यामलाल तैनात हैं। विद्यालय परिसर में झाड़ियां उगी हुई हैं।

प्रधानाध्यापक की स्थिति

तीन कमरों का भवन है। कुल 57 बच्चे पंजीकृत है। बाउंड्री वाल नही बनी है। प्रधानाध्यापक राजेश अनुपस्थित थे। शिक्षक और शिक्षा मित्र कार्य पर मौजूद मिले। प्रधानाध्यापक की गैरमौजूदगी के सवाल पर शिक्षा मित्र ने कहा कि वह विद्यालय के काम से बैंक गए हैं। इसी दौरान स्कूल पर गांव के श्यामलाल पहुंच गए। बताया कि प्रधानाध्यापक राजेश कभी कभार ही विद्यालय आते हैं। विभाग भी यह बात जानता है,लेकिन कोई कार्रवाई नहीं की जाती। शिक्षा मित्र ही विद्यालय का सारा कामकाज देखते हैं। गांव के कई लोगों ने भी प्रधानाध्यापक की कार्यशैली को लेकर सवाल उठाए। कहा गांव के अधिकतर लोग हेडमास्टर को पहचानते ही नहीं क्योंकि वह किसी विशेष अवसर पर ही दिखाई देते हैं। चर्चा है कि वो किसी बड़े शहर में रहकर प्रतियोगी परीक्षाओं की तैयारी कर रहे हैं।

पूर्व माध्यमिक विद्यालय हसउर

समय 12.20 बजे, पूर्व माध्यमिक विद्यालय हसउर। इस विद्यालय में आपको नंगे पांव कीचड़ से होकर जाना पड़ेगा। कुल 54 छात्र छात्राएं पंजीकृत है। हालांकि 16 ही उपस्थित मिले। प्रधानाध्यापक उमेश कुमार पांडेय अनुपस्थित थे। सहायक अध्यापक राजकुमार चौधरी व मदन गोपाल पांडेय पढ़ा रहे थे। पांच कमरों का यह विद्यालय भवन है। सभी कमरों की छतें टपक रही है। बारिश से बचने को बरामदे में पढ़ने को बच्चे मजबूर हैं। बच्चों की सुरक्षा के मद्देनजर बिजली के मेन स्विच बोर्ड को आफ कर दिया गया हैं। एक दिन लोहे की जाली में यहां करंट उतर गया था। शिक्षक और छात्रों ने बताया कि भवन असुरक्षित है, दूसरी बड़ी समस्या आवागमन को लेकर है।

प्राथमिक विद्यालय लोढ़वा के प्रधानाध्यापक..

प्राथमिक विद्यालय लोढ़वा के प्रधानाध्यापक पर ग्रामीणों द्वारा लगाए गए आरोप गंभीर हैं। इसकी जांच होगी, आरोप सही पाए गए तो आहरित धन की रिकवरी के साथ अन्य कार्रवाई भी की जाएगी। रही बात जूनियर विद्यालय हसउर के भवन की छतों के टपकने और आने जाने में हो रही समस्या की,तो इसकी जानकारी की जाएगी।

इसे भी पढ़ें : Fake Sign : नामांतरण पत्रावलियों पर फर्जी हस्ताक्षर का लगाया आरोप