Basti filaria Medicine: बस्ती में फाइलेरिया की दवा खाने से कई परिवारों ने किया इनकार, फायदा बताया तो हो गए तैयार

13

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

Basti filaria Medicine: बस्ती में फाइलेरिया की दवा खाने से कई परिवारों ने किया इनकार, फायदा बताया तो हो गए तैयार

विक्रमजोत ब्लाक के शंकरपुर गांव में आठ परिवार को जब स्वास्थ्य कार्यकर्ताओं ने फाइलेरिया से बचाव की दवा खाने के फायदे गिनाए तो वह लोग दवा खाने को तैयार हो गए। इन लोगों ने पहले दवा खाने से इनकार कर दिया था। उन्हें बताया गया कि दवा खाने से जहां फायदा है, वहीं दवा न खाने से फाइलेरिया जैसी लाइलाज बीमारी होने का खतरा है।

12 मई से चलाए जा रहे मास ड्रग एडमिनिस्ट्रेशन (एमडीए) कार्यक्रम के तहत आशा कार्यकर्ता घर-घर जाकर लोगों को अपने सामने फाइलेरिया की दवा डीईसी व पेट के कीड़े निकालने की दवा एल्बेंडाजोल का सेवन करा रही हैं। शंकरपुर की आशा कार्यकर्ता मंजू मौर्या का कहना है कि गांव के आठ परिवार ऐसे थे, जिन्होंने फाइलेरिया से बचाव की दवा खाने से इनकार कर दिया था। उन्हें दवा खाने से दुष्प्रभाव का डर था।

इसी बीच आशा, एएनएम उषा रानी सिंह व स्वास्थ्य विभाग की सहयोगी संस्था प्रोजेक्ट कंसर्न इंटरनेशनल (पीसीआई) के एसएमसी आशीष कुमार सिंह गांव पहुंचे और परिवार के लोगों से संपर्क कर उन्हें फाइलेरिया से ग्रसित हाथीपांव के मरीजों से जुड़े वीडियो और फोटो दिखाए। टीम ने उन्हें बताया कि यह एक ऐसा मर्ज है जो एक बार हो जाने के बाद ठीक नहीं होता। कमाऊ व्यक्ति घर पर बैठ जाता है,जो परिवार पर बोझ बनकर रह जाता है। इसका प्रभाव आर्थिक, सामाजिक व मानसिक रूप से पड़ता है। साल में एक बार दवा का सेवन करने से फाइलेरिया रोग से बचाव होता है।

गांव के चैतू मौर्या, रामशरण मौर्या, झिनका देवी, रामकुमार मिश्रा, मो. समीउल्लाह, कैथुलनिसा, मोहिउद्दीन, अब्दुल वहाब के परिवार के 64 लोगों ने टीम के सामने दवा का सेवन किया। कुदरहा ब्लाक के माझाकला गांव में दवा खाने से इनकार करने वाले परिवार को एसएमसी प्रमेंद्र कुमार सिंह ने आशा की मदद से दवा खिलवाई।पीसीआई के जिला संयोजक गौरव शंकर के नेतृत्व में छह टीम काम कर रही है। जिला मलेरिया अधिकारी आईए अंसारी ने बताया कि जो लोग दवा खाने से इनकार कर रहे हैं, उन्हें दवा का महत्व बताया जा रहा है। अभियान के नोडल अधिकारी डा. एफ हुसैन ने बताया की दो साल से कम उम्र बच्चों, गर्भवती व गंभीर बीमार लोगों को छोड़कर दवा सब के लिए सुरक्षित है।

(This Is An Unedited And Auto-Generated Story From Syndicate News Feed, Harraiya Times Staff May Not Have Modified Or Edited The Content Body)

Get real time updates directly on you device, subscribe now.