Anne frank biography in hindi – ऐनी फ्रैंक की कहानी

79

Anne frank biography in hindi – ऐनी फ्रैंक की कहानी

ऐनी फ्रैंक की डायरी किस नाम से प्रकाशित हुई?

Under what name was the diary of anne frank published

ऐनी फ्रैंक ने डायरी प्रकाशित करने का निर्णय किया। 25 जून 1947 को ‘हेट आक्‍टेरुइस’ प्रकाशित हुई। एनी का एक लेखिका बनने का सपना उसकी मृत्‍यु के बाद पूरा हुआ। सन् 1952 में अंग्रेज़ी संस्‍करण ‘एनी फ्रैंक: द डायरी ऑफ ए यंग गर्ल’ के प्रकाशन ने एनी की डायरी को मशहूर बना दिया।

Particulars(विवरण)Details (Size, Writer, Lang. Pages(आकार, लेखक, भाषा,पृष्ठ की जानकारी)
पुस्तक का नाम (Name of Book) द डायरी ऑफ़ ए यंग गर्ल (The Diary Of A Young Girl in hindi Pdf)
पुस्तक का लेखक (Name of Author) ऐन फ्रैंक (Anne Frank)
पुस्तक की भाषा (Language of Book)हिंदी (Hindi) 
पुस्तक का आकार (Size of Book)3 MB
पुस्तक में कुल पृष्ठ (Total pages in Ebook)275
पुस्तक की श्रेणी (Category of Book)जीवनी, आत्मकथा

एना फ़्रैक की डायरी

6 जुलाई 1942 को एना फ़्रैंक को एक डायरी मिली, लेकिन एक महीने के भीतर ही उन्हें, उनके पिता ओटो, मां एडिथ और बड़ी बहन को एम्स्टर्डम के एक गुप्त स्थान पर छिपने के लिए बाध्य होना पड़ा.

ये वही डायरी थी जो एना की मौत और द्वितीय विश्व युद्ध के बाद पूरी दुनिया में प्रसिद्ध हुई. यु्द्ध (1939-1945) के दौरान नाज़ियों के यहूदियों पर किए गए अत्याचारों और जनसंहार का भी यह एक अहम दस्तावेज़़ है.

ऐनी फ्रैंक Biography in Hindi

जब एना का परिवार एम्सटर्डम पहुँचा तो उनके साथ एक अन्य यहूदी परिवार रहने आया. इसमें हरमन (ओटो के साथी), ऑगस्ट वान पेल्स और उनका बेटा पीटर, फ्रिट्ज पेफर (वान पेल्स के दांतों के डाक्टर) थे.

ये सभी आठ लोग दो वर्ष और एक महीना तक (अगस्त 1944 तक) छिपे रहे जब इनके बारे में नाज़ियों को जानकारी मिल गई और उनको जबरन वहां से निकालकर यहूदियों के लिए बनाए गए यातना शिविरों में भेज दिया गया.

एना की डायरी ऑटो के कुछ सहयोगियों ने खोज निकाली और इसे सुरक्षित रखा. एना और उसकी बहन की मार्च 1945 में बरजन-बेलसेन कैंप में टॉयफ़स बीमारी से 70 साल पहले मार्च के महीने में मृत्यु हो गई.

इसके कुछ ही महीने बाद ब्रितानी और कनाडाई सैनिकों ने उस इलाक़े को नाज़ियों से मुक्त करा लिया. ऑटो महायुद्ध के बाद ज़िंदा बचा रहने वाले परिवार का अकेले व्यक्ति थे.

एना ने 12 जून 1942 को डायरी में पहली एंट्री में जो लिखा वह इस अवयस्क डायरी लेखिका की प्रेरणा बताता है.

“मुझे उम्मीद है कि मैं तुमको सब कुछ बता पाऊँगी क्योंकि मैंने अब तक यह बात किसी से नहीं कही है, और मैं आशा करती हूँ की तुमसे मुझे चैन और सुकून मिलेगा.”

इस चर्चित डायरी और अन्य उदाहरणों से हमें पता चलता है कि डायरी न केवल दैनिक जीवन के अनुभवों का ब्यौरा होता है, बल्कि इसके खाली पन्नों में लेखक अपने रहस्यों के पिटारे को भी उड़ेल सकता है.

वहां, न तो अपने अनुभवों पर किसे के फ़ैसला सुनाए जाने या अस्वीकार किए जाने का ख़तरा होता है और न ही किसी कसौटी पर परखे जाने का डर. Anne frank biography in hindi – ऐनी फ्रैंक की कहानी

ख़तरा, प्रेम प्रसंग और मां-बाप की खीझ

एना फ़्रैंक की डायरी में उनके और परिजनों के जीवन पर मंडराते ख़तरे, स्कूल में उसके बचकाना प्रेम-प्रसंगों और मां-बाप की खीझ में घुलमिल जाते हैं.

किसी भी अन्य किशोरी की डायरी की तरह एना फ़्रैंक ने भी अपनी निजी बातों से ही डायरी की शुरुआत की, जो उसके खुद के लिए थी.

लेकिन मार्च 1944 में यह सब कुछ बदल गया जब उसने लंदन से होने वाले एक रेडियो प्रसारण को सुना.

इस प्रसारण में नीदरलैंड के शिक्षा, कला और विज्ञान मंत्री ने जर्मनी के अधीन अपने देश की महिला एवं पुरुषों को संबोधित किया.

उन्होंने इन आम लोगों को, ग़ुलामी के उस दौर में, अपने साधारण अनुभवों को भी ‘दस्तावेज़़’ के तौर पर उनका संरक्षण करने की आपील की थी.

एना ने अपनी डायरी में लिखी गयी पुरानी एंट्रीस को दोबारा पढ़ा और इन्हें प्रकाशित कराने और आम पाठकों को ध्यान में रखते हुए इन्हें दोबारा लिखना शुरू कर दिया.

67 भाषाओं में तीन करोड़ प्रतियां

चाहे वह अपने सपने को साकार होते देखने के लिए जीवित नहीं रही, उनके पिता ऑटो ने अपनी बेटी के सपने को पूरा किया और “द डायरी ऑफ़ अ यंग गर्ल” का पहला संस्करण 1947 में प्रकाशित हुआ.

उसके बाद से इसका अभी तक 67 भाषाओं में अनुवाद हो चुका है और दुनिया भर में इसकी सवा करोड़ प्रतियां बिक चुकी हैं और इतिहास के पन्नों में एना फ़्रैंक का नाम सदा के लिए दर्ज हो चुका है.

आलोचनात्मक और व्यावसायिक सहमति की बात करें तो यह कृति एक ऐतिहासिक दस्तावेज़ और एक प्रतिभाशाली युवा लेखिका, दोनों ही दृष्टियों से एक बेहद सफल कृति है. पर यह सिर्फ इसलिए संभव हुआ क्योंकि निजी और सार्वजनिक, व्यक्तिगत अनुभव और वैश्विकता में मेल हो पाया.

छापे जाने के 70 साल बाद आज के युवा भी इसे इसलिए पढ़ते हैं क्योंकि यह पलने-बढ़ने के रास्ते में पेश आने वाली मुश्किलों का वृत्तांत भी है.

1946 में प्रकाशन के पूर्व ही इस डायरी को पढ़ने वाले नीदरलैंड के इतिहासकार जान रोमेन ने इसके बारे में लिखा, “एक बच्ची द्वारा लिखी गई, ये बहुत अहम न लगने वाली डायरी, फ़ासीवाद के दिनों के खौफ़ को समेटे हुए है और न्यूरेमबर्ग के सभी साक्ष्यों को अगर मिला भी दिया जाए तो भी यह उन पर भारी पड़ती है.”

इतिहास अगर जीवंत अनुभव नहीं तो और क्या है? हमें प्रथम स्रोत से मिलने वाली सभी सूचनाओं में छिपे पक्षपात या किसी गोपनीय एजेंडे से सावधान रहने को कहा जाता है, पर यह हमारे सामूहिक भूत का सूचनाओं से संपन्न और सबसे सशक्त वृत्तांत भी होता है.

‘विनम्रता, अनादर, ख़ूबसूरती’

“मैं अपनी डायरी को किस रूप में देखना पसंद करूंगी?”

1919 में अग्रेज़ी की जानी-मीनी लेखिका वर्जीनिया वुल्फ ने एक पत्रिका में लिखा, “कुछ ऐसा जो ढीले-ढाले रूप में गढ़ा हो, पर बेतरतीब नहीं, इतना लचीला की वह मेरे मन की विनम्रता, अनादर, और खूबसूरती, इन सबको समाहित कर ले. मैं इसको एक गहरे पुराने डेस्क के रूप में देखना चाहती हूँ या फिर अच्छी खासी क्षमता वाले ‘होल्ड ऑल’ के रूप में, जिसमें आप जो चाहें डाल दें.”

सभी प्रकाशित डायरियों में सार्वजनिक और निजी विचारों के बीच के तनाव को देखा जा सकता है. डायरियां स्वाभाविक रूप से गुप्त होती हैं, ऐसा माना जा सकता है. इसके बावजूद कि प्रकाशक ने उसको वैध तरीके से पेश किया है और उसकी अच्छी पैकेजिंग की है, उसको पढ़ना एक तरह से गोपनीयता का उल्लंघन है. एक तरह से यह इस बात को भी स्पष्ट करता है कि ये इतनी लोकप्रिय क्यों होती हैं?

एक ऐतिहासिक दस्तावेज़ के रूप में डायरी का अपना महत्व है.

जैसे सैमुएल पैपीज़ की डायरी से हमें लंदन के भयानक अग्निकांड और प्लेग का आँखों देखा हाल पता चलता है.

पर दृश्यरतिक डायरी लिखने वाले भी हैं, जैसे कि लेखक दीवार पर बैठी एक मक्खी की तरह हो, जो सब कुछ देख रहा हो लेकिन उसको कोई अहमियत न दे रहा हो. इन डायरियों में दुनिया का एक अलग ही दृश्य दिखता है.

अंग्रेज़ी में डोरोथी वर्ड्सवर्थ (प्रसिद्ध कवि विलियम वर्ड्सवर्थ की बहन) से लेकर ऐंडी वारहोल तक, हमें इसी तरह का ग्लानि में डूबे हुए सुख का अनुभव कराते हैं.

‘मन में सहानुभूति पैदा करे’

पर कुछ ऐसे भी डायरी लिखने वाले हैं जो लिखने के क्रम में अपनी ही कथी और मिथक को आगे बढ़ाते रहते हैं. इस बारे में व्यक्तिगत उदाहरण की जगह अंग्रेज़ी साहित्य में ब्लूम्सबरी ग्रुप के नाम से जाने जाते लेखक-लेखिकाओं को लें.

आलोचक जैनेट मैल्कम पूछती हैं, “क्या उनकी जिंदगी वाकई इतनी दिलचस्प थी, या फिर चूंकि वो अपने और एक-दूसरे के बारे में इतना अच्छा और निरंतर लिखते थे, इसी वजह से हमें ऐसा लगता है?”

डायरी अपने पाठकों का ध्यान तब आकर्षित कर पाती है जब वह उपन्यास की ही तरह अपने पाठकों के मन में सहानुभूति पैदा करती है. इसका दूसरा पहलू है काल्पनिक डायरियों – जिन्हें बच्चों के साहित्य में ख़ासा इस्तेमाल किया जाता है.

व्यंग्यकार भी डायरी की विधा को पसंद करते हैं.

1930 के दशक की मध्यवर्गीय ब्रितानी जीवन पर कटु व्यंग्य करने वाले ईएम डेलाफील्ड की द डायरी ऑफ अ प्रोविन्शियल लेडी भी इसी व्यंग्यात्मक तर्ज पर लिखी गई है. अभी हाल ही में स्यू टाउनसेंड की हास्य कृति द सीक्रेट डायरी ऑफ एड्रियन मोल, उम्र 13 साल, 1980 के दशक में एक बेस्ट-सेलर रही.

इसके सात सीक्विल बने और 1990 का दशक तो वैसे ही डायरी रखने वाली हीरोइन ब्रिजेट जोंस के लिए जाना जाता है – हेलेन फ़ील्डिंग की सिगरेट पीने वाली और व्हाइट वाइन गटकने वाली इकलौती नायिका, जो अपने मिस्टर डार्सी की तलाश में जुटी हुई है.

डायरी – असली या फिर काल्पनिक – का मुख्य आकर्षण होता है कि वह अच्छी-बुरी, साहसिक-कायरतापूर्ण, ख़ुशी से भरी- ग़मगीन, सभी घटनाओं को बेबाक पेश करे.

यह सही नहीं कि केवल काल्पनिक डायर लिखने वाला ही एक अविश्वसनीय वाचक होता है. जीवन के बारे में हर तरह के लेखन में हम डायरी को सर्वाधिक वास्तविक मानते हैं और ये मानकर चलते हैं कि सत्य के उदघाटन के अलावा इसका कोई एजेंडा नहीं होता.

डायरी को संस्मरण, आत्मकथा या जीवनी में रूपांतरित किया जा सकता है पर डायरी खुद में बहुत ही विशुद्ध होती है.

यह अमूमन ग़लतफहमी साबित हो सकती है जिसे मैंने अपने शोध से तब समझा जब लेखक बार्बरा कोमिन की डायरियों को कई दिनों तक पढ़ने के बाद मुझे लगा कि मैं ही वो भाग्यशाली हूँ जो उसके मन के अंदर क्या चल रहा है, इस रहस्य को जानती हूँ.

मात्र एक पंक्ति ने मेरे इस सपने को तोड़ दिया. कोमिन ने लिखा था, “मैंने किसी भी महत्वपूर्ण घटना का ज़िक्र नहीं किया है, जो बताया है वो सिर्फ़ इधर-अधर की बकवास और मौसम की जानकारी है.” Anne frank biography in hindi – ऐनी फ्रैंक की कहानी

ऐनी फ्रैंक की मृत्यु कैसे हुई?

एनी फ्रैंक द्वितीय विश्‍वयुद्ध के दौरान अत्‍याचार के शिकार हुए लाखों यहूदियों में से एक है। एनी और उसका परिवार दो वर्षों तक अपने पिता की दुकान में ऊपरी भाग में छुपा रहा। वहीं उसने अपनी डायरी लिखी। एनी फ्रैंक की मृत्‍यु एक यातना शिविर में हुई, उस समय वह 15 वर्ष की थी।

ऐनी फ्रैंक का जन्म कहां हुआ था?

ऐनी फ्रैंक (Anne Frank) का जन्म फ़्रैंकफ़र्ट शहर, जर्मनी में 12 जून 1929 को हुआ था। 

ऐनी फ्रैंक की डायरी इन हिंदी PDF

द डायरी ऑफ़ ए यंग गर्ल | THE DIARY OF A YOUNG GIRL IN HINDI PDF : ऐन फ्रैंक द्वारा लिखित हिंदी पीडीऍफ़ पुस्तक | THE DIARY OF A YOUNG GIRL BOOK IN HINDI PDF : WRITTEN BY ANNE FRANK HINDI PDF BOOK DOWNLOAD.

ऐन फ्रैंक ने अपनी डायरी कहाँ लिखी

जर्मनी के शासक ने गैस-चैंबर व फ़ायरिंग स्क्वायड के माध्यम से लाखों’यहूदियों को मौत के घाट उतारा। ऐसे समय में दो यहूदी परिवार दो वर्ष तक एक गुप्त आवास में छिपे रहे। इनमें एक फ्रैंक परिवार था, दूसरा वान दंपत्ति। ऐन ने गुप्त आवास में बिताए दो वर्षों का जीवन अपनी डायरी में लिखा

ऐन फ्रैंक की डायरी किसको संबोधित करके लिखी गई है?

ऐन ने अपनी डायरी में सम्बोधन के लिए अपनी गुड़िया किट्टी को चुना है, परिवार या बाहर के किसी व्यक्ति को नहीं। इस तरह वह स्वयं से ही बातें करती है। अगर कोई दूसरा उसकी भावनाओं और विचारों को जानने वाला होता तो शायद उसे डायरी लिखने की जरूरत ही नहीं पड़ती।. Anne frank biography in hindi – ऐनी फ्रैंक की कहानी

ऐनी फ्रैंक डायरी इन हिंदी

रोचक तथ्य (Facts about Anne Frank)

1. ऐन फ्रैंक एक जर्नलिस्ट और और मशहूर लेखक बनना चाहती थीं। और अपनी ज़िन्दगी में कुछ बड़ा करना चाहती थीं।

2. नाजियों के डर से 6 जुलाई, 1942 को फ्रैंक फॅमिली ने  एम्सटर्डम में छिपने का फैसला किया, और वो एक बिल्डिंग के अंदर सीक्रेट अपार्टमेंट में छिप गये। वो अपार्टमेंट उस कंपनी का ‘वेयर-हाउस’ था जहाँ ऐन के पिता कार्य करते थे। उसी अपार्टमेंट को बाद में ‘सीक्रेट एनेक्स‘ (seccret annex) कहा गया। जिसके ठीक 24 दिन पहले ही ऐन 13 साल की हुई थी। ऐन को जन्मदिन के मौके पर उनके पिता ने उन्हें कई गिफ्ट दिए जिसमे लाल और सफ़ेद चोखाने वाली वो डायरी भी थी। जिसकी आज हम चर्चा कर रहे हैं।

3. इस ‘सीक्रेट एनेक्स’ में ऐन और उसकी फॅमिली ने  2 साल 35 दिन बिताये। इसी दौरान ऐन ने अपनी डायरी को लिखा था।

4. जिस ‘सीक्रेट एनेक्स‘ में फ्रैंक फॅमिली छुपी थी; उनके अलावा उसमे 4 लोग और छुपे हुए थे।

5. 4 अगस्त 1944 को नाजियों ने ‘सीक्रेट एनेक्स’ मे छुपी फ्रैंक फॅमिली को ढूंड लिया। नाजियों ने उन्हें  एम्सटर्डम से आस्विज यातना शिविर (Auschwitz Concentration Camp) में भेज दिया। आस्विज शहर पहुंचकर पुरुषों को तो महिला और बच्चो से बिलकुल ही अलग कर दिया जाता था। इसी कारण ऐन के पिता ओट्टो फ्रैंक जल्दी ही अपनी फॅमिली से अलग हो गये। लेंकिन ऐन, उनकी बहन और उनकी माँ आस्विज नजरबंदी शिविर में एक साथ ही रहे। थोड़े दिनों के बाद उनकी बहन मर्गोत फ्रैंक (Margot frank) और उनको अपनी माँ से भी अलग कर दिया गया। और दोनों बहनों को ‘बैर्गेन बेलसेन कॉन्सनट्रेशन कैंप’ (Bergen Belsen Concentration Camp) में भेज दिया गया। जहाँ दोनों बहनों की दर्दनाक म्रत्यु हुई।

6. वह सभी लोग जो ‘सीक्रेट एनेक्स’ में छुपे थे। उनमे से ऐन के पिता ओट्टो फ्रैंक ही अकेले ऐसे व्यक्ति थे जो यातना शिविर (consentraton camp) से जीवित वापिस आये। वापिस आने के बाद उनको जानकारी मिली कि उनकी दोनों बेटियां और पत्नी अभी जीवित नहीं हैं।

7. मीप गीस (Miep Gies) जो ‘फ्रैंक फॅमिली’ की काफी करीबी दोस्त थी। जो यहूदी नहीं थी। जब ‘फ्रैंक फॅमिली’ सीक्रेट एनेक्स में रह रही थी, उस दौरान मीप गीस अपनी जान कोखिम में डालकर फ्रैंक फॅमिली के लिए जरूरी चीजें खाना आदि लेकर आती थी। जब नाजिओं ने ‘फ्रैंक फॅमिली’ को पकड़ लिया। उसके बाद मीप गीस ‘सीक्रेट एनेक्स’ में आई और उसने पड़ा वहां पड़ा सारा सामान को रख लिया; जिसमे ऐन की डायरी भी थी। जब ऐन के पिता यातना शिविर से वापिस लोटे, तब मीप गीस ने ऐन की डायरी उन्हें दे दी। ओट्टो फ्रैंक के दोस्तों ने उनसे कहा की उन्हें अपनी बेटी की डायरी पब्लिश करनी चाहिए। उन्होंने ऐसा ही किया।

8. जब तक ऐन की डायरी मीप गीस के पास रही। तब तक मीप गीस ने उस डायरी का एक शब्द तक नहीं पड़ा था। डायरी पब्लिश होने के बाद ही मीप गीस ने उसे पड़ा। बाद में मीप गीस ने बताया कि अगर मैंने वो डायरी ओट्टो फ्रैंक को देने से पहले पड़ ली होती। तो मैंने उस डायरी को जला दिया होता क्योंकि ऐन ने उस डायरी में मेरा, मेरे पति का और उन सभी लोगो का जिक्र किया था, जिन्होंने सीक्रेट एनेक्स में छुपे सभी यहूदियों की मदद की थी। उन्होंने ये भी बताया इस कारण उन्हें नाजिओं द्वारा म्रयु दंड भी दिया जा सकता था।

9. यह भी माना जाता है कि यह डायरी बाइबिल (Bible) के बाद दूसरी सबसे ज्यादा पड़ी जाने वाली बुक है। ये दुनिया की सबसे प्रशिद्ध डायरी है। इसे 60 से भी अधिक भाषाओँ में ट्रांसलेट किया जा चुका है।

आज यदि ऐन ये देख पाती की इतनी छोटी सी उम्र में उसने कितने लोगो को प्रेरित (inspire) किया है। तो शायद उसकी ख़ुशी का कोई ठिकाना न रहता। Anne frank biography in hindi – ऐनी फ्रैंक की कहानी

ऐनी फ्रैंक FAQs

ऐनी फ्रैंक की मृत्यु कैसे हुई?

एनी फ्रैंक द्वितीय विश्‍वयुद्ध के दौरान अत्‍याचार के शिकार हुए लाखों यहूदियों में से एक है। एनी और उसका परिवार दो वर्षों तक अपने पिता की दुकान में ऊपरी भाग में छुपा रहा। वहीं उसने अपनी डायरी लिखी। एनी फ्रैंक की मृत्‍यु एक यातना शिविर में हुई, उस समय वह 15 वर्ष की थी।

ऐनी फ्रैंक का जन्म कहां हुआ था?

ऐनी फ्रैंक (Anne Frank) का जन्म फ़्रैंकफ़र्ट शहर, जर्मनी में 12 जून 1929 को हुआ था। 

फ्रैंक की डायरी सर्वप्रथम कब प्रकाशित हुई?

ऐन की लिखी हुई ये डायरी उनके पिता ने पहली बार 1947 में छापी थी.

डायरी ऑफ यंग गर्ल अंग्रेजी भाषा में किसके पत्रों का संग्रह है?

25 जून 1947 को ‘हेट आक्‍टेरुइस’ प्रकाशित हुई। एनी का एक लेखिका बनने का सपना उसकी मृत्‍यु के बाद पूरा हुआ। सन् 1952 में अंग्रेज़ी संस्‍करण ‘एनी फ्रैंक: द डायरी ऑफ ए यंग गर्ल‘ के प्रकाशन ने एनी की डायरी को मशहूर बना दिया।

फ्रैंक और उसके परिवार के साथ अत्याचार कहाँ पर हुआ?

एनी फ्रैंक द्वितीय विश्‍वयुद्ध के दौरान अत्‍याचार के शिकार हुए लाखों यहूदियों में से एक है। एनी और उसका परिवार दो वर्षों तक अपने पिता की दुकान में ऊपरी भाग में छुपा रहा। वहीं उसने अपनी डायरी लिखी। एनी फ्रैंक की मृत्‍यु एक यातना शिविर में हुई, उस समय वह 15 वर्ष की थी।