नाराज किसानों का क्रय केंद्र पर विरोध प्रदर्शन

10

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

हर्रैया टाइम्स

Basti news | बभनान चीनी मिल के भेलमापुर क्रय केंद्र पर बेहतर ढुलाई की व्यवस्था न होने से किसानों की गन्ना पर्चियां हायल (भुगतान की समय सीमा खत्म होना) हो जा रही हैं। इससे नाराज गन्ना किसानों ने गुरुवार को क्रय केंद्र पर विरोध प्रदर्शन किया।

चीनी मिल चालू हुए दो हफ्ते से अधिक का समय बीतने के बावजूद व्यवस्था ठीक नहीं हो पाई है। गुरुवार को किसान रामनारायण, घनश्याम वर्मा, विनोद पांडेय, अजय मिश्र, विनोद वर्मा, पप्पू दुबे, विजय कुमार, अरुण, माता प्रसाद, राममूर्ति, रामकुमार सहित अन्य किसानों ने गन्ना क्रय केंद्र भेलमापुर पर तौल बंद करवा कर प्रदर्शन किया। गन्ना किसानों का कहना है क्रय केंद्र पर रोजाना दो ट्रक गन्ने की तौल हो रही है। इसके चलते रोजाना तीन चार- गाड़ियां बढ़ जा रहीं हैं और पर्चियां हायल हो जा रहीं हैं। केंद्र पर ट्रालियों में रखा गन्ना सूखता जा रहा हैं। किसानों का कहना है कि अगर पेड़ी गन्ना की कटाई समय से नहीं हुई तो गेहूं की बोआई भी नहीं हो पाएगी।

गन्ना निरीक्षक रविद्र सिंह कहा जितना इंडेंट आता है, उतनी तौल हो रहा है, किसान बिना पर्ची आए ही क्रय केंद्र पर अपना गन्ना लाकर खड़ा कर देते हैं, इससे अनावश्यक भीड़ बढ़ जाती है। रोजाना दो ट्रक गन्ने की तौल हो रही है।

किसानों ने सुना प्रधानमंत्री का संबोधन

कृषि विज्ञान केंद्र, बजरिया में प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी का संबोधन वर्चुअल माध्यम से किसानों को दिखाया गया। गुजरात में कृषि और खाद्य प्रसंस्करण पर राष्ट्रीय शिखर सम्मेलन में प्रधानमंत्री प्राकृतिक खेती के महत्व एवं लाभ के बारे में देश के किसानों को संबोधित कर रहे थे। जिसका सीधा प्रसारण किया गया।

पीएम ने कहा कि जीरो बजट खेती अपनाने पर खेती लागत कम होती है प्राकृतिक खेती पर नए-नए प्रयोगों पर चर्चा की । उन्होने बीज लेकर बाजार तक की किसान आय बढ़ाने पर बल दिया । कहा प्राकृतिक खेती पर कम खर्च लगता है एवं प्राकृतिक खेती से साल में कई फसलें उगाई जा सकती हैं। पीएम ने आजादी के अमृत महोत्सव पर भारत की धरती को रासायनिक खाद से मुक्त करने का संकल्प लेने का आह्वान किया।

केंद्र अध्यक्ष डा. एसएन सिंह ने प्राकृतिक खेती में प्रयोग किए जाने वाले वर्मी कंपोस्ट, नाडेप ,गोमूत्र जीवामृत, धनामृत के बारे में जानकारी दी। बीना सचान, डा. डीके श्रीवास्तव, प्रेमशंकर, आरबी सिंह,राममूर्ति मिश्रा ,योगेंद्र सिंह, अंजनी सिंह, वंदना मौजूद रही। अंत में किसानों में सहजन के पौधे वितरित किए गए।

Get real time updates directly on you device, subscribe now.