Basti: महत्वाकांक्षी परियोजना गौ आश्रय स्थल का संचालन ठीक से नहीं हो पा रहा

5

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

बस्ती  न्यूज़ डेस्क:  उत्तर प्रदेश सरकार की महत्वाकांक्षी परियोजना गौ आश्रय स्थल का संचालन ठीक से नहीं हो पा रहा है। कुछ का संचालन जिले में स्थापित गौशालाओं में किया जा रहा है तो कुछ में ताला लगा दिया गया है. लाखों रुपये खर्च कर गोशालाओं का निर्माण किया गया। भूसे के घर से पीने के पानी की व्यवस्था के लिए पैसे निकाले गए। अधिकारियों ने बार-बार सफाई के निर्देश दिए। लेकिन इतना सब होने के बाद भी गोशालाओं का संचालन बेहतर तरीके से नहीं हो पा रहा है. अगले 100 दिनों में बेसहारा पशुओं को यहां अभियान चलाकर संरक्षित करना है।

क्षमता के सापेक्ष नहीं चल रही रमना तौफीर गौशाला दुबुलिया में छह, रमना तौफीर में 150, सबसे बड़े गौशाला में 32, मसाहा में 32, अगडेंगवा में 33, सिंघाराजा में 19, सवाई पारसन में 34 और छपिया में 17 गौशाला सक्रिय हैं. बरसां, संदपुर, समोदा, दुबुलिया में बनी गौशाला में एक भी जानवर नहीं है। पहले रमना तौफरी गौशाला में करीब तीन सौ जानवर थे, लेकिन बरसात के दिनों में जलजमाव के चलते जानवरों को कथार जंगल गौशाला भेज दिया गया. दो दिन पहले एक जानवर की मौत हो गई थी।

परशुरामपुर के काकरा में तैनात गोसेवकों को नहीं मिला मानदेय

नरेगा के तहत परशुरामपुर विकासखंड के काकरा में बने गौशाला में 27 पशु हैं, मिठाई लाल व राजकुमार को पशुओं की देखभाल की जिम्मेदारी दी गई है. इन दोनों को 10 महीने से भुगतान नहीं किया गया है। जिससे इन लोगों को आर्थिक संकट का सामना करना पड़ रहा है। यहां सभी जानवर आवाज में चारा खाते पाए गए।

Get real time updates directly on you device, subscribe now.