आचार्य रामचन्द्र शुक्ल का जीवन परिचय , जन्म, जन्म स्थान, मृत्यु ,निबंध शैली की विशेषताओं का वर्णन कीजिए

0 219

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

आचार्य रामचन्द्र शुक्ल का जीवन परिचय , जन्म, जन्म स्थान, मृत्यु ,निबंध शैली की विशेषताओं का वर्णन कीजिए

आचार्य रामचंद्रशुक्ल जी का जन्म सन 1884 ई० में अगोना नामक गाँव में हुआ था, इनके पिता चन्द्रबली शुक्ल मिर्जापुर में कानूनगो थे  इनकी माता जी का नाम विभाषी था ! इन्होने अपनी प्रारम्भिक शिक्षा-दीक्षा अपने पिता के पास, मिर्ज़ापुर जिले की राठ तहसील में हुई और इन्होने नि मिशन स्कूल में दसवी की परीक्षा उत्तीर्ण की ! गणित में अत्यधिक कमजोर होने के कारण ये आगे पढ़ नहीं सके ये अपनी इंटरमीडिएट की शिक्षा इलाहाबाद से की किन्तु परीक्षा से पूर्व ही इनका विद्यालय छुट गया ! इसके पश्चात् इन्होने मिर्ज़ापुर के न्यायालय में नौकरी प्रारंभ कर दी यह नौकरी इनके अनकूल नहीं थी !

इन्होने कुछ दिन तक अध्यापन का कार्य सम्हाला, अध्यापन का कार्य करते हुए इन्होने अनेक प्रकार की कहानी, निबंध, कविता आदि नाटक की रचना की !

नकी विद्वता से प्रभावित होकर इन्हे “हिंदी शब्द सागर” के सम्पादन कार्य में सहयोग के लिए श्यामसुंदरदास जी द्वारा काशी नगरी प्रचारिणी सभा में ससम्मान बुलाया गया ! इन्होने 19 वर्ष तक “काशी नगरी प्रचारिणी पत्रिका” का संपादन भी किया ! स्वाभिमानी और गंभीर प्रकृति का हिंदी का यह दिग्गज साहित्यकार सन 1941 ई० को स्वर्गवासी हो गया !

Table of Contents

आचार्य रामचन्द्र शुक्ल का जीवन परिचय

जन्म1884  ई०
जन्म स्थानबस्ती जिला (अगोना)
पिताचंद्रबली शुक्ल
माता विभाषी
पत्नी का नामअज्ञात
मृत्यु 1941 ई०
भाषाहिन्दी
रचनायेचिन्तामणि, विचार वीथी etc.
मुख्य भूमिकाहिंदी साहित्य का इतिहास

शुक्ल जी को हिन्दी के एक प्रशिद्ध निबंधकार के रूप में जाना जाता है हिन्दी साहित्य के क्षेत्र में इन्होने बहुत बड़ा योगदान दिया है, शुक्ल जी ने अत्यंत खोज पूर्ण “हिन्दी साहित्य का इतिहास” लिखा, जिस पर इन्हें हिन्दुस्तानी अकादमी से 500 रुपये का पारितोषिक सम्मान मिला !

इसके पश्चात् शुक्ल जी ने  “काशी हिन्दू विश्वविद्यालय” में प्राध्यापक के पद पर नियुक्ति ली और कुछ ही समय के बाद वहीं पर हिन्दी विभाग के अध्यक्ष के पद पर सुशोभित हुए ! अपने निबंधो में आपने करुणा, क्रोध, रहस्यवाद आदि का बहुत ही अनूठा समावेश किया है !`

चनायें ––

शुक्ल जी एक प्रसिद्ध निबंधकार, निष्पक्ष आलोचक, श्रेष्ठ इतिहासकार और सफल संपादक थे ! अपने अध्यापन काल के दौरान इन्होने कई प्रकार के ग्रन्थो की रचना की यह एक युग प्रवर्तक एवं प्रतिभा संपन्न रचनाकार थे ! शुक्ल जी अपने समय के सबसे प्रशिद्ध रचनाकार माने जाते है इनकी रचना शैली में सबसे प्रमुख “आलोचनात्मक” शैली है !

निबन्ध ––

“चिंतामणि” – “विचारवीथी”

म्पादन ––

“जायसी ग्रन्थावली”, “तुलसी ग्रन्थावली”, “भ्रमरगीत सार”, “हिन्दी शब्द-सागर” और “काशी नागरी प्रचारिणी पत्रिका”

रचनाएँ या कृतियाँ

निबन्ध- संग्रह-‘चिन्तामणि’ भाग 1 और 2 तथा ‘विचार वीथी। इतिहास– ‘हिन्दी साहित्य का इतिहास’। आलोचना- ‘सूरदास’, ‘रसमीमांसा’, ‘त्रिवेणी’। सम्पादन- जायसी ग्रन्थावली’, ‘तुलसी ग्रन्थावली’, ‘भ्रमरगीत सार’, ‘हिन्दी शब्द सागर’, ‘काशी नागरी प्रचारिणी पत्रिका’, ‘आनन्द कादम्बिनी’।

आचार्य रामचंद्र का जीवन परिचय कैसे लिखें?

Read the article:

आचार्य रामचंद्र शुक्ल एवं आचार्य हजारी प्रसाद द्विवेदी की इतिहास दृष्टि में क्या अंतर है स्पष्ट कीजिए?

एक साहित्येतिहासकार के रूप में आचार्य रामचंद्र शुक्ल ने समकालीन पाश्चात्य और भारतीय साहित्यमें विकसित रचना, आलोचना और इतिहास-लेखन का विवेकपूर्ण मूल्यांकन करते हुए हिन्दी आलोचना औरइतिहास-लेखन की ठोस नींव रखी थी। इतना ही नहीं, इसी आधार पर उन्होंने भविष्य के विकास का एकरास्ता भी तैयार कर दिया। इसीलिये कई बार कहा जाता है कि वे अपने समय के हिन्दी के ही सबसे बड़ेआलोचक और इतिहासकार नहीं थे, वे अखिल भारतीय स्तर पर भी अद्वितीय साहित्य-चिंतक भी दिखाई पड़तेहैं।

कई बार तो उस काल में संसार के बड़े से बड़े आलोचक और इतिहासकार के समकक्ष दिखाई पड़ते हैं।उनके लेखन में आलोचना और इतिहास के सिद्धांत तथा व्यवहार का अनोखा ऐक्य दिखाई पड़ता है। ऐक्यसंबंधी यही साहित्य-विवेक शुक्ल जी के इतिहास की मुख्य विशेषता है।आचार्य शुक्ल ने इतिहास-दर्शन, भाषा शास्त्र, विज्ञान और साहित्य संबंधी नए-पुराने चिंतन की वैचारिकयात्रा करने के बाद एक सुनिश्चित समाजोन्मुखी विकासशील वस्तुवादी साहित्य-दृष्टि अर्जित की और इस नयीदृष्टि से ही परंपरा के मूल्यांकन, वर्तमान की आवश्यकताओं की पहचान और भावी विकास की दिशा खोजनेका प्रयास किया। उन्होंने साहित्य और समाज के विकास के बीच के संबंध की खोज की और समाज, भाषाऔर साहित्य के इतिहास में जनता की महत्त्वपूर्ण भूमिका की पहचान की।

वस्तुत: उनके आलोचना औरइतिहास-दृष्टि के निर्माण में हिन्दी के भक्तिकालीन साहित्य की बड़ी महत्त्वपूर्ण भूमिका है। ऐसा लगता है किकालक्रम से भारतेंदु युग, द्विवेदी युग और छायावाद की रचनाशीलता का भी शुक्ल जी के साहित्य-विवेक एवंइतिहास-दृष्टि के निर्माण में योगदान है।

आचार्य शुक्ल के बाद आचार्य द्विवेदी हिन्दी साहित्य के सर्वाधिक महत्त्वपूर्णइतिहासकार है। परंपरा के पुनर्मूल्यांकन और नये विकास की संभावनाओं की ओर संकेत कर आचार्य द्विवेदीने हिन्दी साहित्य के इतिहास-लेखन की दिशा में एक सार्थक और नया प्रयास किया। आचार्य द्विवेदी ने साहित्यके इतिहास के मूल तत्त्वों पर गम्भीरता से स्वतंत्र चिंतन किया है। आचार्य द्विवेदी साहित्य को केवलआत्मभिव्यक्ति या शब्द-सृष्टि नहीं मानते । साहित्य-साधना को वे विश्व के साथ एकत्व अनुभव करने कीसाधना मानते हैं।

वह कलावादी एवं व्यक्तिवादी विचारधारा से नितांत भिन्न अपना मत मानते हैं। वह मानतेहैं कि समाज में परिवर्तन होते हैं, विकास होता है तो जीवन-मूल्य भी बदलते हैं और नये विकसित होते हैं।वह साहित्य को गतिशील सांस्कृतिक प्रवाह का अंग मानते हैं।सामान्यतः द्विवेदी जी भारतीय संस्कृति और साहित्य तथा विशेष रूप से हिन्दी साहित्य के संदर्भ मेंपरंपरा को अविभाज्य, अखंड, विशुद्ध और एक नहीं मानते । वह मानते हैं कि भारतीय संस्कृति और साहित्यमें भारतीय समाज की ही तरह अनेक संस्कृतियों और साहित्यों की परंपराओं का मिला-जुला विकास हुआ है।वह इसलिये परंपरा को सनातन मानने के विरोधी हैं। हर बात और हर वस्तु के मूल वेद में खोजने के भी वेविरोधी हैं। द्विवेदी जी परंपरा को आधुनिक और वैज्ञानिक चित्त से देखने की सिफारिश करते हैं। अतीत के वृथा मोह से मुक्त द्विवेदी जी की भविष्योन्मुखी इतिहास-दृष्टि परंपरागत और नये अनुभव के द्वंद्व से उत्पन्नइतिहास-विवेक को साहित्येतिहास-लेखन के लिये महत्त्वपूर्ण मानते हैं।

रामचंद्र शुक्ल की कविता

  • विनती जय जय जग नायक करतार करत नाथ कर जोरि आज हम विनती बारम्बार …
  • मनोहर छटा नीचे पर्वत थली रम्य रसिकन मन मोहत …
  • आशा और उद्योग हा! …
  • वसंत कुसुमित लतिका ललित तरुन बसि क्यों छबि छावत …
  • गोस्वामीजी और हिन्दू जाति बल-वैभव-विक्रम-विहीन यह जाति हुई जब सारी …
  • (साभार- कविता कोश)

आचार्य रामचंद्र शुक्ल के निबंध करुणा का प्रथम प्रकाशन कब हुआ था

सन् 1909 से 1910 ई.

आचार्य रामचंद्र शुक्ल की पत्नी का नाम

आचार्य रामचंद्र शुक्ल की ….. था ।

रामचन्द्र शुक्ल – जीवन परिचय, रचनाएँ और भाषा शैली

शुक्लजी की भाषा संस्कृतनिष्ठ, शुद्ध तथा परिमार्जित खड़ीबोली है। परिष्कृत साहित्यिक भाषा में संस्कृत के शब्दो का प्रयोग होने पर भी उसमें बोधगम्यता सर्वत्र विद्यमान है। कहीं-कहीं आवश्यकतानुसार उर्दू, फारसी और अंग्रेजी के शब्दों का प्रयोग भी देखने को मिलता है। शुक्लजी ने महावरे और लोकोक्तियों का प्रयोग करके भाषा को अधिक व्यञ्जनापूर्ण, प्रभावपूर्ण एवं व्यावहारिक बनाने का भरसक प्रयास किया है।

शुक्ल जी की भाषा-शैली गठी हई है, उसमें व्यर्थ का एक भी शब्द नहीं आने पाता। कम-से-कम शब्दों में अधिक विचार व्यक्त कर देना इनकी विशेषता है। अवसर के अनुसार इन्होंने वर्णनात्मक, विवेचनात्मक, भावात्मक तथा व्याख्यात्मक शैली का प्रयोग किया है। हास्य-व्यंग्य-प्रधान शैली के प्रयोग के लिए भी शुक्लजी प्रसिद्ध है।

आचार्य रामचंद्र शुक्ल
आचार्य रामचंद्र शुक्ल

हिंदी साहित्य के 50 अति महत्वपूर्ण प्रश्न | Hindi Sahitya Ka Itihas Question Answer

Hindi Sahitya Ka Itihas Question Answer

1. हिंदी साहित्य के इतिहास का प्रथम लेखक कौन है? 

उत्तर – गार्सां द ताँसी 

2. काशी नागरी प्रचारिणी सभा द्वारा ‘हिंदी साहित्य का बृहत् इतिहास’ कितने खंडों में प्रकाशित किया गया?

उत्तर- अठारह 

3. ‘हिंदी साहित्य की भूमिका’ ग्रंथ का लेखक कौन है?

उत्तर-  आचार्य हजारी प्रसाद द्विवेदी

 4. हिंदी साहित्य के इतिहास-लेखन की परंपरा में मिश्र बंधुओं ने किस ग्रंथ द्वारा अपना महत्त्वपूर्ण योगदान किया?

उत्तर- मिश्रबंधु विनोद

5. हिंदी साहित्य के इतिहास लेखन से पूर्व किस प्रसिद्ध ग्रंथ में हिंदी के विभिन्न कवियों के जीवन वृत्त एवं कृतित्व का परिचय मिलता है?

उत्तर- चौरासी वैष्णवन की वार्त्ता 

6. आचार्य रामचंद्र शुक्ल का इतिहास ग्रंथ ‘हिंदी साहित्य का इतिहास’ स्वतंत्र पुस्तक से पूर्व किस रूप में प्रकाशित हुआ था? 

उत्तर- हिंदी शब्द सागर की भूमिका

7. ‘सरोज स्मृति’ नामक रचना किस कवि ने की है?

 उत्तर- निराला

 8.आधुनिक काल की मीरा किसे कहा जाता है?

 उत्तर-  महादेवी वर्मा

9. रीतिकाल को काव्य की दृष्टि से कितने भागों में बांटा गया है?

 उत्तर-   तीन भागों में 

10. रीति सिद्ध काव्य धारा के प्रमुख कवि कौन है?

 उत्तर-  बिहारी

11. आधुनिक काल में लिखा गया खड़ी बोली का प्रथम महाकाव्य कौन सा है?

 उत्तर-  प्रिय प्रवास

12. “साकेत” के रचनाकार का नाम बताइए?

 उत्तर-  मैथिलीशरण गुप्त

13.छायावाद को ‘ स्थूल के प्रति सूक्ष्म का विद्रोह’ किस आलोचक ने कहा है?

 उत्तर-  डॉ नागेंद्र

14. कामायनी के किस दर्शन की अभिव्यक्ति हुई है?

 उत्तर-  शैव दर्शन

15. जागरण सुधार काल के नाम से किस काल को जाना जाता है?

 उत्तर-  द्विवेदी काल को

16. चिंतामणि भाग 1 में कितने निबंध है?

 उत्तर- 17 

17. पथिक खंडकाव्य के रचनाकार का नाम बताइए?

 उत्तर-  रामनरेश त्रिपाठी

18. सच्चिदानंद हीरानंद वात्स्यायन अज्ञेय को ज्ञानपीठ पुरस्कार किस रचना पर मिला था?

 उत्तर- ‘कितनी नावों में कितनी बार’ के लिए

19. मीराबाई की भक्ति किस भाव की थी?

 उत्तर-   माधुर्य भाव

20. सुमित्रानंदन पंत की कौन सी रचना मानवतावादी है?

 उत्तर-  लोकायतन

21. सूरदास जी ने भक्ति के कितने रूपों का वर्णन किया है?

 उत्तर- 11  रूपों का

22. सूरदास जी को जीवनोत्सव का कवि किसने कहा?

 उत्तर- आचार्य रामचंद्र शुक्ल ने

23. कुंभी पाक किस रचनाकार की रचना है?

 उत्तर-  नागार्जुन की

24. युग धारा रचना के रचनाकार का नाम बताइए?

 उत्तर-  नागार्जुन

25. डाक बंगला किसका उपन्यास है?

 उत्तर-   कमलेश्वर का

26. केशवदास की रसिकप्रिया की रचना कब हुई?

 उत्तर- 1591 

27. ‘द मॉडर्न वर्नेक्युलर लिटरेचर ऑफ हिंदुस्तान’ का लेखक कौन है?

उत्तर – जॉर्ज ग्रियर्सन 

28. हिंदी साहित्येतिहास की परंपरा में सर्वोच्च स्थान किस लेखक को मिला?

उत्तर – रामचंद्र शुक्ल

29. गार्सां द ताँसी ने ‘इस्त्वार द ला लितरेत्यूर ऐंदुई ऐंदुस्तानी’ ग्रंथ की रचना किस भाषा में की? 

उत्तर-  फ्रेंच

30. ‘हिंदी साहित्य’ नामक इतिहास ग्रंथ का संपादन किसने किया? 

उत्तर – डॉ. धीरेंद्र वर्मा

31. किस आलोचक ने आदिकाल को ‘बीजवपन काल’ नाम से अभिहित किया है? 

उत्तर-  महावीर प्रसाद द्विवेदी

32. ‘सरहपाद’ को हिंदी का प्रथम कवि किसने माना?

उत्तर- राहुल सांकृत्यायन

33. आचार्य रामचंद्र शुक्ल ने हिंदी साहित्य के प्रारंभिक काल को किस नाम से अभिहित किया?

उत्तर- वीरगाथाकाल

34. हिंदी साहित्य के अंतर्गत किस काल को ‘हिंदी साहित्य का स्वर्ण युग’ कहा गया है? 

उत्तर-  भक्तिकाल

35. आदिकालीन कृति ‘ढोला मारू-रा दूहा’ की गणना किस साहित्य के अंतर्गत की जाती है? 

उत्तर- लौकिक साहित्य 

36. आदिकाल के अंतर्गत सरहपा, लुइपा, शबरपा आदि कवि किस साहित्य से संबद्ध हैं?

उत्तर – सिद्ध साहित्य

37. आचार्य रामचंद्र शुक्ल के अनुसार हिंदी का प्रथम महाकाव्य कौन सा है? 

उत्तर- पृथ्वीराजरासो

38. आदिकाल की रूढि़यों, परंपराओं और प्रवृत्तियों को समझने में किस पुस्तक से सहायता मिलती है?

उत्तर – प्राकृत पैंगलम्

39. ‘पृथ्वीराजरासो’ का रचयिता किसे माना जाता है? 

उत्तर- चंदबरदाई

40. रासो काव्य-परंपरा में गेय काव्य कौन सा है? 

उत्तर- बीसलदेवरासो

41. दामोदर शर्मा द्वारा लिखित ‘उक्ति-व्यक्ति प्रकरण’ किस प्रकार का ग्रंथ है?

उत्तर- व्याकरण ग्रंथ

42. आदिकाल में खड़ी बोली को काव्य की भाषा बनानेवाला पहला कवि कौन है?

उत्तर- अमीर खुसरो

43. आदिकालीन शिलांकित कृति का नाम क्या है, जिसे गद्य-पद्य मिश्रित चंपू काव्य की प्राचीनतम हिंदी कृति माना गया? 

उत्तर-  राउलवेल 

44. अमीर खुसरो किस तरह की रचनाओं के लिए प्रसिद्ध रहे हैं? 

उत्तर- पहेलियाँ-मुकरियाँ

45. रामानंद किस भक्तिधारा के प्रमुख कवि हैं?

उत्तर-  निर्गुण भक्तिधारा

आचार्य रामचंद्र शुक्ल का जीवन परिचय कक्षा 10 PDF

DOWNLOAD

आचार्य रामचंद्र शुक्ल की निबंध कला पर प्रकाश डालिए PDF

Download

रामचंद्र शुक्ल FAQ

रामचंद्र शुक्ल का जन्म किस राज्य में हुआ?

उत्तर प्रदेश

आचार्य रामचंद्र शुक्ल का जन्म कहां हुआ था

आचार्य रामचंद्रशुक्ल जी का जन्म सन 1884 ई० में अगोना नामक गाँव में हुआ था

रामचंद्र शुक्ल का जन्म कब हुआ ?

आचार्य रामचंद्रशुक्ल जी का जन्म सन 1884 ई० में अगोना नामक गाँव में हुआ था

रामचंद्र शुक्ल का निधन कब हुआ ?

2 February 1941

आचार्य शुक्ल के निबंध की विशेषता क्या है?

हिन्दी निबंध के क्षेत्र में भी शुक्ल जी का महत्वपूर्ण योगदान है। भाव, मनोविकार संबंधित मनोविश्लेषणात्मक निबंध उनके प्रमुख हस्ताक्षर हैं।

आचार्य रामचंद्र शुक्ल का कौन सा निबंध है?

कला

आचार्य रामचन्द्र शुक्ल के सर्वाधिक प्रिय कवि कौन थे?

भारतेंदु के नाटक उन्हें बहुत प्रिय थे

रामचंद्र शुक्ल द्वारा लिखा गया ग्रंथ कौन सा है?

 रामचंद्र शुक्ल जी ने हिंदी शब्द सागर, चिंतामणि के अलवा नागरी प्रचारिणी पत्रिका आदि लिखी थी। दर्शन के क्षेत्र में भी इनका योगदान रहा। इन्होंने ‘रिडल ऑफ दि यूनिवर्स’ का अनुवाद कर विश्व प्रपंच नाम की किताब लिखी

Get real time updates directly on you device, subscribe now.