साहित्य के क्षेत्र में विशिष्ट है वशिष्ठनगरी:बस्ती

0 26

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

Harraiya Times News Service : साहित्य के क्षेत्र में राष्ट्रीय फलक पर बस्ती यानी वशिष्ठनगरी का कोई सानी नहीं है। आचार्य द्विजेश मिश्र, लक्षिराम भट्ट, आचार्य रामचंद्र शुक्ल, सर्वेश्वर दयाल सक्सेना, लक्ष्मी नारायण लाल, लक्ष्मीकांत वर्मा, पं. सुरेश धर द्विवेदी भ्रमर, ताराशंकर नाशाद, पं. माता प्रसाद त्रिपाठी दीन, जोकरेश, मुनिलाल उपाध्याय सरस ऐसे नाम हैं जिन्होंने ¨हदी साहित्य के क्षेत्र में बस्ती को राष्ट्रीय ख्याति दिलाई। साहित्यकारों की वर्तमान पीढ़ी साहित्य सृजन कर्म में पूरी शिद्दत से जुटी हुई है। अष्टभुजा शुक्ल, डा. रामकृष्ण लाल जगमग, हरीश दरवेश, सत्येंद्र नाथ मतवाला, भद्रसेन ¨सह बंधू, रामाज्ञा मौर्य, डा. विजय प्रकाश सागर, जगदंबा प्रसाद भावुक, शिवा त्रिपाठी, डा. राम नरेश ¨सह मंजुल, मुरली मनोहर ¨सह, डा. शंकर जी ¨सह, डा. अनुराग मिश्र गैर, डा. सत्यव्रत, रहमान अली रहमान जैसे कई ऐसे नाम हैं जो साहित्य सृजन में जुटे हुए हैं। इसके अलावा कवि सम्मेलनों और गोष्ठियों का दौर वर्ष भर चलता रहता है।

साहित्यिक गतिविधियां

इसी माह में निराला साहित्य एवं संस्कृति संस्थान ने वर्तमान काव्य और उसकी चुनौतियां विषय पर प्रेस क्लब में परिचर्चा आयोजित की। इसमें देश के प्रसिद्ध साहित्यकारों ने वर्तमान काव्य सृजन की चुनौतियों पर गंभीर मंथन किया। वक्ताओं ने जनपद के कवियों को हर चुनौती के काबिल माना तथा देश के समक्ष उत्पन्न चुनौतियों का डंट कर मुकाबला करने का संकल्प लिया। मार्च में इसी संस्था ने प्रेस क्लब में कवि सम्मेलन और मुशायरे का आयोजन किया। मई में सबसे बड़ा कार्यक्रम जीवीएम कांवेंट स्कूल में हुआ। जिसमें नेपाल सहित देश के सोलह प्रांतों के साहित्यकारों का जमावड़ा हुआ। जुलाई में शहर के राजकीय कन्या इंटर कालेज में रूद्रा साहित्य संस्थान एवं शब्द सुमन संस्था द्वारा अखिल भारतीय कवि सम्मेलन का आयोजन किया गया। जुलाई में ही प्रेम चंद साहित्य एवं जन कल्याण संस्थान ने मुंशी प्रेम चंद की जयंती मनाई। सितंबर में प्रेस क्लब में साहित्यकार डा. राकेश ऋषभ की पुस्तक पूजांजलि पर परिचर्चा निराला संस्थान ने आयोजित की। इसमें प्रमुख विद्वानों ने प्रतिभाग किया। अक्टूबर में साहित्यकार डा. शंकर जी ¨सह की पुस्तक सृजन के बीज निबंध संग्रह पर परिचर्चा हुई। इसके अलावा समय-समय पर काव्य गोष्ठियों का आयोजन किया जाता रहा।

Get real time updates directly on you device, subscribe now.