साहित्य अकादमी पुरस्कार क्या है? कैसे कब और क्यों दिया जाता है?

24

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

भारत एक ऐसा देश है जहाँ आप भाषा और संस्कृति में विविधता देख सकते है। भारत में विभिन्न धर्मों के लोग रहते हैं जो विभिन्न भाषाएं बोलते हैं। हमारे देश में हर साल लोगों को अलग–अलग पुरस्कार से सम्मानित किया जाता है और ये उनके लिए है जिन्होंने कुछ हासिल किया है या किसी तरीके से समाज में सेवा प्रदान की हो। एक ऐसे ही पुरस्कार है साहित्य अकादमी जो प्रमुख भाषाओं में सर्वोत्कृष्ट साहित्यिक कृति के लिए प्रदान किया जाता है। सन 1955 में सबसे पहले यह पुरस्कार साहित्यकार को प्रदान किया गया था। यह साहित्यिक कृति का पुरस्कार कुल २४ भाषाओं को लिए दिया जाता है जिसमें अंग्रेजी भी शामिल है।

साहित्य अकादमी पुरस्कार क्या है?

इसकी स्थापना १९५५ को हुई थी जहाँ माखनलाल चतुर्वेदी पहले ऐसे लेखक है जिन्हें यह सम्मान से नवाजा गया था।उन्हें उनकी कविता हिम तरंगिनी के लिए यह पुरस्कार के लिए चुना गया था यह पुरस्कार २४ भाषाओं में दिया जाता है। साहित्य अकादमी पुरस्कार का मुख्य केंद्र दिल्ली में है। आज इस पुरस्कार के कई ओर कार्यालय है जैसे की कोलकाता, मुंबई, बेंगलुरु और चेन्नई।

साहित्य अकादमी पुरस्कार के विवरण

  • साहित्यिक सम्मान में दिए जाना वाला यह दूसरा ऐसा सर्वोच्च सम्मान है और इससे पहले साहित्य अकादमी फैलोशिप है।
  • इस पुरस्कार के तहत १ पट्टिका और नकद दिया जाता है। इसकी पट्टिका का डिज़ाइन लोकप्रिय फिल्म निर्माता सत्यजीत रे ने किया है।
  • शुरुआत में ५००० रुपये नकदी दिए जाते थे जो १९८३ में १०,००० कर दिए गए और १९८८ में २५००० रुपये है। इस नकदी रुपये को २००१ से ४०,००० कर दिया गया और २००३ से ५०,००० है।
  • साहित्य अकादमी के तहत पुस्तकें कुल २४ भाषाओं में प्रकाशित होती है। यह पुस्तकें लेखकों के मोनोग्राफ, इतिहास, अनुवाद, उपन्यास, कविता और गद्य, आत्मकथाओं के आधार पे होती है।
  • साहित्य अकादमी पुरस्कार का उद्देश्य भारतीय भाषाओं को प्रोत्साहन करना है जिससे और भी लोग इससे प्रभावित हो साहित्य में महत्त्वपूर्ण योगदान करने वाले साहित्यकारों को उनके अद्भुत लेख के लिए यह सम्मान दिया जाता है।
  • हर वर्ष एक सप्ताह भर का साहित्योत्सव आयोजित होता है जिसमें पुरस्कार वितरण समारोह, संवत्सर भाषण माला और राष्ट्रीय संगोष्ठी होता है यह समारोह अधिकता फरवरी माह में होता है जिसमें लोग बढ़ चढ़ के हिस्से लेते है।
  • इस आयोजन के तहत हर वर्ष २४ भाषाओं के लेखकों को इस पुरस्कार से सम्मानित किया जाता है। प्रत्येक वर्ष श्रेष्ठ महिला साहित्यकार को फैलोशिप भी प्रदान की जाती है जिसका मुख उद्देश्य महिलाओं को इस क्षेत्र में बढ़ावा देना है।

साहित्य अकादमी पुरस्कार की चयन प्रक्रिया

किसी भी पुस्तक को पुरस्कार के विचारार्थ होने के लिए संबद्ध भाषा तथा साहित्य में योगदान होना चाहिए। पुस्तक को सर्जनात्मक या समालोचनात्मक होना चाहिए तो ही कार्य मंडल उसे विचारणीय करेंगे।
यदि कोई कृति लेखक के मृत्यु के बाद प्रकाशित हुई तो सिर्फ ३ वर्ष के लिए ही विचारणीय होगी।
यदि कार्यकारी मंडल को ऐसा लगता है या सबूत प्राप्त होते है की प्रतिष्ठित करने के लिए समर्थन जुटाया गया है तो ऐसी पुस्तक पुरुरस्कार के लिए अयोग्य होगी।
ऐसी पुस्तक जो की पूर्व प्रकाशित पुस्तकों के संग्रह या रचनाओं के आधार पर लिखी गयी है वे मंडल द्वारा अयोग्य होगी। यदि कोई नयी लिखित पुस्तक में ७५ % भाग पहली बार ही प्रकाशित हुआ है तो वह पुस्तक पुरस्कार विचारणीय होगी। ऐसी पुस्तक जो किसी प्रकाशित पुस्तक का बेस हो लेकिन खुद में पूर्ण हो तो वह भी पुरस्कार के लिए चयन की जा सकती है।
यदि कोई पुस्तक पहले से ही साहित्य अकादमी पुरस्कार से सम्मानित साहित्यकार ने लिखी है या तो अकादमी के कार्यकारी मंडल का सदस्य है तो वह पुरस्कार के लिए चयन नहीं होगी। यदि कोई अनूदित कृति है या तो फिर विश्वविद्यालय या परीक्षा के लिए तैयार किया गया है वे भी पुरस्कार के लिए अयोग्य होगी।

Get real time updates directly on you device, subscribe now.