विकास खंड विक्रमजोत व दुबौलिया न्यूज़ : बस्ती में हाईफ्लड की ओर बढ़ रही सरयू नदी, तीन गांव मैरुंड

0 319

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

📍 दुबौलिया / विक्रमजोत | हरैया टाईम्स न्यूज़ सर्विस

Development block Vikramjot and Dubulia News: Saryu river moving towards high flood in Basti, three villages are brutally punished

विकास खंड विक्रमजोत व दुबौलिया न्यूज़ : बस्ती में हाईफ्लड की ओर बढ़ रही सरयू नदी, तीन गांव मैरुंड

विकास खंड विक्रमजोत व दुबौलिया क्षेत्र दर्जनों गांव बाढ़ से प्रभावित है। सरयू के बढ़ते जल स्तर ने ग्रामीणों की चिंता बढ़ा दी है। बंधे को बचाने के लिए बाढ़ खंड के लोग दिन-रात एक किए हुए हैं। क्षेत्र के तीन गांव भरथापुर, अर्जुनपुर बघुआपार और माझा किताअव्वल मैरूंड हो गए हैं।

केंद्रीय जल आयोग अयोध्या के अनुसार

विक्रमजोत ब्लॉक के दो दर्जन से अधिक बाढ़ प्रभावित गांव की समस्या बढ़ने लगी है। केंद्रीय जल आयोग अयोध्या के अनुसार सोमवार को सरयू का जलस्तर 93.220 मीटर पहंुच गया, जो खतरे के निशान 91.730 मीटर से 49 सेंटीमीटर ऊपर है। नदी का जलस्तर प्रति घंटा दो सेंटीमीटर की रफ्तार से बढ़ रहा है। अगर जलस्तर इसी रफ्तार से बढ़ता रहा, तो बुधवार को नदी हाई फ्लड लेबल 94.1 मीटर को छू लेगी। नदी की धारा कल्याणपुर भरथापुर बाघानाला के नवनिर्मित डैम्पनर और कटर से टकरा रही है। धारा के शोर से ग्रामीण गांव के बाहर नहीं निकल रहे हैं। संदलपुर पड़ाव और चांदपुर में लोलपुर-विक्रमजोत तटबंध का शेष हिस्सा न बनने से बाढ़ का पानी गन्ना, सब्जी व धान की फसलों को डूबोने के लिए बेताब है।

नदी से सटे कल्याणपुर, भरथापुर, अर्जुनपुर बघुआपार गांव…

नदी से सटे कल्याणपुर, भरथापुर, अर्जुनपुर बघुआपार गांव के चारो तरफ बाढ़ का पानी दो से तीन फुट तक भर गया है। अगर जलस्तर बढ़ा तो पानी आबादी क्षेत्र के घरों मे भरने लगेगा। सरयू नदी के पश्चिमी अयोध्या जिले की सीमा से सटे ब्लॉक के माझा किताअव्वल, मड़ना माझा और दलपतपुर गांव चारो तरफ से बाढ़ के पानी से घिर गया है। गांव के सभी रास्ते जलमग्न हैं। ग्रामीणों को कमर तक पानी में घुसकर बाजार और पशुओं के चारे के लिए बाहर निकलना मजबूरी बन गया है। अचानक बढ़े जलस्तर से ग्रामीण दहशत जदा हैं। कल्याणपुर ग्राम प्रधान प्रतिनिधि अभिषेक शर्मा ने बताया कि लगभग दो हजार की आबादी वाले गांव के सभी रास्तों पर पानी भर गया है। पशुओं के चारे और दैनिक जरूरतों के लिए गांव से बाहर निकलने में बड़ी मुश्किलों का सामना करना पड़ रहा। आरोप लगाया कि प्रशासन की तरफ से कोई सहयोग नही मिल रहा है

चार नंबर ठोकर का पूर्वी हिस्सा पानी के दबाव में बैठा

बस्ती, बाढ ग्रसित क्षेत्रो का एसडीएम हरैया सुखवीर सिह के द्वारा किया गया था, निरीक्षण

दुबौलिया ब्लॉक क्षेत्र के तटबंध और सरयू के बीच बसे दर्जनो गांव में बाढ़ का खतरा मंडराने लगा है। अतिसंवेदनशील तटबंध कटरिया-चांदपुर व गौरा-सैफाबाद तटबंध पर बाढ़ का पानी तेज दबाव बनाए हुए है। गौरा-सैफाबाद तटबंध पर पारा गांव के पास चार नंबर ठोकर का पूर्वी तरफ का कुछ हिस्सा पानी के तेज दबाव (बैकरोल) के चलते बैठ गया। बाढ़ खंड ने मरम्मत कार्य शुरू करा दिया है। इसी तटबंध पर टकटकवा गांव से लेकर दलपतपुर गांव के सामने तक तेज दबाव बना हुआ है। मैरुंड गांव सुविखा बाबू,आंशिक टेढ़वा भी पानी से घिर गया है।

अशोकपुर ग्राम पंचायत के सतहा, बलुईया, खजांचीपुर गांव का एक पुरवा भुवरिया, विशुनदासपुर की अनुसूचित बस्ती

अशोकपुर ग्राम पंचायत के सतहा, बलुईया, खजांचीपुर गांव का एक पुरवा भुवरिया, विशुनदासपुर की अनुसूचित बस्ती की तरफ पानी तेजी से बढ़ रहा है। किशुनपुर-मोजपुर रिंगबाध के करीब बाढ़ का पानी पहुंच गया है। बाढ़ खंड के सहायक अभियंता जितेंद्र कुमार ने बताया कि नदी का तटबंध पर तेज दवाब बना हुआ है। संवेदनाशील स्थलों पर निगरानी की जा रही है।

बाढ़ प्रभावित इलाके में शुरू हुआ टीकाकरण

पशुपालन विभाग ने बाढ़ प्रभावित गांव में टीकाकरण का कार्य शुरू कर दिया है। विक्रमजोत ब्लॉक के गोरियानैन, बाघानाला, भरथापुर, कल्याणपुर, पड़ाव, चंद्रपलिया, कनईपुर, नरसिंहपुर, खेमराजपुर, लकड़ी दुबे, फूलडीह सहित एक दर्जन गांव में पशु चिकित्सकों ने दुधारू पशुओं का टीकाकरण कार्यक्रम शुरू कर दिया है। राजकीय पशु चिकित्सालय विक्रमजोत के प्रभारी चिकित्साधिकारी डॉ. राममूर्ति वर्मा ने बताया कि सोमवार को आधा दर्जन गांव के करीब 400 पशुओं को संक्रामक रोग से बचाने के लिए टीका लगाया गया है।

Get real time updates directly on you device, subscribe now.