म्यूच्यूअल फण्ड क्या है, इन्वेस्ट करने से पहले समझे ये टर्म !

67

म्यूचुअल फंड पैसों का एक समान पूल होता है जिसमें समान निवेश उद्देश्यों के निवेशक अपना योगदान रखते हैं, जिसे स्कीम के निश्चित उद्देश्यों के अनुसार निवेश किया जाता है. निवेश प्रबंधक एकत्रित पैसों का निवेश उन संपत्तियों में करता है जिन्हें स्कीम के निश्चित उद्देश्यों द्वारा परिभाषित किया जाता हैं. उदाहरण के लिए, किसी इक्विटी फंड को इक्विटी और इक्विटी से संबंधित साधनों में और ऋण फंड को गिल्ट आदि में निवेश किया जाएगा|

म्यूच्यूअल फण्ड को पारस्परिक निधि भी कहा जाता है और यह एक सामूहिक निवेश होता है जिसमे निवेशको का एक समूह मिलकर स्टॉक, शॉर्ट टर्म के निवेश या अन्य सिक्युरिटीज मे निवेश करते है और इसमें एक म्यूच्यूअल फण्ड मेनेजर होता है जो यह तय करता हैi की किस्मे Invest करें और किस में नहीं और यही मेनेजर फण्ड और नफा और नुकशान का भी हिस्साब किताब रखता है .

म्यूच्यूअल फण्ड की सबसे बड़ी विशेषता यह है की इसमें नफा और नुकशान को निवेशको में बाँट दिया जाता है जिसके कारन एक निवेशक पर नुफा और नुकशान का अधिक भार नहीं पड़ता है

म्यूच्यूअल फण्ड में निवेश किसी कंपनी या सर्विस प्रोवाइडर के जरिये किया जाता है और यह कंपनी सभी निवेशको के फण्ड को इकठा करके शेयर बाज़ार में निवेश करती है और इसके बदले वह कंपनी अपने निवेशको से कुछ चार्ज लेती है जिस से निवेशको को भी फायदा रहता है क्योंकि इसमें निवेशको को कुछ भी नहीं करना होता है और उनको यह चिंता भी नहीं रहती है की किस कंपनी में निवेश करना है और किस कंपनी में नहीं क्योंकि यह सारा काम म्यूच्यूअल फण्ड मेनेजर करता है |

म्यूच्यूअल फण्ड की सबसे अच्छी बात यह है की इसमें निवेश को कोई अधिकतम सीमा नहीं है क्योंकि इसमें सिर्फ 500 रूपए से Invest किया जा सकता है और अधिकतम कुछ भी हो सकता है . म्यूच्यूअल फण्ड में निवेश करने का आज कल एक पोपुलर तरीका है सिप सिस्टेमेटिक इनवेस्टमेंट प्लान जिसमे आप अपनी इच्छा के अनुशार मासिक , साप्ताहिक , वार्षिक , त्रैमाषिक जो आप की सुविधा के अनुशार Invest कर सकते है .

म्यूचुअल फंड की इक्विटी योजना में इंडेक्स फंड, डायवर्सिफाइड फंड, लार्ज-कैप फंड, मिड-कैप स्कीम और टैक्स सेविंग स्कीम जैसे कई विकल्प होते हैं. आप अपने टारगेट के हिसाब से कोई भी विकल्प चुन सकते हैं.

म्यूचुअल फंड में निवेश करते समय एक बात हमेशा ध्यान रखें कि म्यूचुअल फंड में लंबे समय के निवेश से ही आप अपने टारगेट को हासिल कर सकते हैं. सही रिटर्न के लिए आपको कम से कम 6-7 निवेश करना होगा. दो-चार साल के निवेश से निवेशकों को कोई खास फायदा नहीं होता है.

सही म्युचूअल फंड को चुनना:

  1. पिछला प्रदर्शन

यद्यपि पिछला प्रदर्शन भविष्य का सूचक नहीं होता है लेकिन यह फंड के निवेश सिद्धांत पर थोड़ा प्रकाश डालता है, कि इसने पूर्व में कैसा प्रदर्शन किया था और यह एक समयावधि में किस प्रकार के लाभ निवेशकों को ऑफ़र कर रहा है. स्थिरता के लिए दो वर्षो या एक वर्ष के लाभ को देखना भी फायदेमंद होगा. ऐसे सांख्यिकी जैसे कि ‘तत्काल पूर्व में ऐसे फंड ने तेज़ी और मंदी के बाज़ार में कैसा प्रदर्शन किया है?’ जैसे सांख्यिकी फंड की ताकत पर प्रकाश डालेंगे. मंदी के बाज़ार में फंड के प्रदर्शन पर नज़र रखना विशेष रूप से महत्वपूर्ण होता है क्योंकि किसी पोर्टफ़ोलियो के सत्य परीक्षण का पता ही अक्सर इससे चलता है कि वह मंदी की स्थिति में कितना कम नीचे गिरता है.

  1. अपने फंड प्रबंधक को जानें

किसी फंड की सफलता बहुत हद तक, फंड प्रबंधक पर निर्भर करती है. अधिकतर सफल फंड में से कुछ तो एक ही फंड प्रबंधक द्वारा चलाए जाते हैं. इसलिए निवेश करने से पूर्व हमेशा फंड प्रबंधक के बारे में पूछना, फंड प्रबंधक की रणनीति में बदलाव के बारे में जानना या कोई अन्य महत्वपूर्ण विकास के बारे में जानना जो किसी एएमसी में हुए हो, हमेशा कारगार होता है. उदाहरण के लिए, यदि ऐसा कोई पोर्टफ़ोलियो प्रबंधक जिसने फंड के प्रदर्शन को सफल बनाया हो अब वह निश्चित फंड का प्रबंधन नहीं कर रहा है, तो उस फंड में निवेश करने के तात्पर्य और तर्क-वितर्क का विश्लेषण करने का प्रयास करना चाहिए.

  1. क्या स्कीम आपके जोख़िम प्रोफ़ाइल के अनुसार सही है?

कुछ क्षेत्र-विशिष्ट स्कीम उच्च-जोख़िम उच्च-लाभ के साथ आती हैं. उद्योग/क्षेत्र द्वारा बाज़ार में आकर्षण खो देने पर ऐसे प्लान के क्रैश होने की संभावना होती है. यदि निवेशक पूरी तरह से जोख़िम लेने के लिए अनिच्छुक है, तो वह कम या जोख़िम रहित शुद्ध ऋण स्कीम चुन सकता है. अधिकतर निवेशक संतुलित स्कीम को पंसद करते है, जो कि इक्विटी और ऋण के संयोजन में निवेश करती हैं. वृद्धि और शुद्ध इक्विटी प्लान शुद्ध ऋण प्लान से अधिक लाभ प्रदान करते हैं, लेकिन उनमें जोख़िम उच्च होता है.

  1. विवरणिका पढ़ें

विवरणिका, फंड के बारे में बहुत कुछ कहती है. उसकी निवेश रणनीति और उसके जोख़िम के बारे में जानने के लिए विवरणिका पढ़ना आवश्यक है. उच्च लाभ दर वाले फंड उच्च जोख़िम तत्व लिए हो सकते हैं. इसलिए, किसी विशेष क्षेत्र में निवेश करते समय यह बहुत जरूरी है कि कोई भी निवेशक किसी विशेष स्कीम को उसके वित्तिय उद्देश्यों का विचार करके चुनें और उसको म्युचू्अल फंड द्वारा लिए जा सकने वाले जोख़िम के विरूद्ध महत्व दें. हालांकि सभी फंड कुछ स्तर के जोख़िम होते हैं. सिर्फ किसी फंड द्वारा सरकारी या कॉर्पोरेट बॉन्ड में निवेश करने से यह तात्पर्य नहीं निकलता कि उसमें महत्वपूर्ण जोख़िम नहीं है.

  1. फंड विविधीकरण

किसी भी म्युचूअल फंड को चुनते समय, उसके द्वारा ऑफ़र किए जाने वाले विविधीकरण पर विचार करना चाहिए. एक विविध और संतुलित पोर्टफ़ोलियो रखना, स्वीकार्य स्तर के जोख़िम को बनाए रखने में महत्वपूर्ण होता है. सामान्यतः फंड जितना अधिक विविध होगा, उतना ही उसके किसी विशेष क्षेत्र/उद्योग के गिरने पर प्रभावित होने की संभावना कम होगी|

म्युचूअल फंड के कर पहलू
अ. लाभांश आय के कर अनुमान

इक्विटी स्कीम
इक्विटी स्कीम ऐसी स्कीम होती हैं, जिनका 50 प्रतिशत से अधिक का निवेश घरेलू कंपनियों के इक्विटी शेयर में होता है.

जहां तक इक्विटी स्कीम का संबंध है, लाभांश पर कोई वितरण टैक्स देय नहीं है. निवेशकों के हाथ का, लाभांश कर-मु्क्त है. निवेशकों के हाथ का, लाभांश कर-मु्क्त है.

अन्य स्कीम
इक्विट के अलावा अन्य स्कीम में, निवेशकों के हाथ में, लाभांश कर-मुक्त है.

हालांकि, लाभांश पर 12.81% की दर से वितरण कर म्युचूअल फंड द्वारा भुगतान किया जाता है.

पूंजी लाभ के कर अनुमान
संपत्ति के बिक्री विचार(बिक्री मूल्य) और अधिग्रहण लागत(खरीद मूल्य) के बीच का अंतर पूंजी लाभ कहलाता है. यदि निवेशक उसकी यूनिट बेचता है और पूंजी लाभ कमाता है, तो वह पूंजी लाभ कर देने के लिए उत्तरदायी है.

पूंजी लाभ दो तरह के होते हैं: लघु अवधि और दीर्घावधि पूंजी लाभ.

म्यूच्यूअल फण्ड के फायदे ( Benefits of Mutual fund)

आज का म्यूच्यूअल फण्ड में निवेश एक अच्छा तरीका माना जाता है जिसके अनेक फायदे है जिसके कारण लोग सिप के जरिये इसमें निवेश करते है आज हम इसके कुछ मुख्य फायदे जानेगे .

  • Diversification
  • Professional Management
  • Tax Benefits
  • Highly Liquid
  • Higher Return On Investment
  • Well-Regulated
  • Easy Investment
  • Low Risk High Retern
  • Minimum Invest Limit