Tech today : डायरेक्ट-टू-मोबाइल (D2M) तकनीक क्या है?

405

दूरसंचार विभाग सार्वजनिक सेवा प्रसारक प्रसार भारती के साथ मिलकर डायरेक्ट-टू-मोबाइल’ (D2M)) तकनीक की व्यवहार्यता तलाश रहा है।

डायरेक्ट-टू-मोबाइल (D2M) तकनीक क्या है?

  • D2M तकनीक सक्रिय इंटरनेट कनेक्शन के बिना वीडियो और अन्य मल्टीमीडिया सामग्री को सीधे मोबाइल फोन पर प्रसारित करने की अनुमति देती है।
  • यह ब्रॉडबैंड और प्रसारण के अभिसरण पर आधारित है। इस तकनीक का उपयोग करके, मोबाइल फोन टेरेस्ट्रियल डिजिटल टीवी प्राप्त करने में सक्षम होंगे।
  • यह मोबाइल फोन पर एफएम रेडियो के समान है, जिसमें फोन रेडियो फ्रीक्वेंसी में टैप कर सकता है।
  • यह स्पेक्ट्रम के उपयोग और ब्रॉडबैंड की खपत में सुधार करता है।

D2M तकनीक के क्या उपयोग हैं?

  • इस तकनीक का उपयोग नागरिक केंद्रित जानकारी से संबंधित सामग्री को सीधे प्रसारित करने के लिए किया जा सकता है।
  • यह फर्जी खबरों का मुकाबला करने, आपातकालीन अलर्ट जारी करने के साथ-साथ आपदा प्रबंधन में सहायता प्रदान करने में मदद करेगा।
  • इसका उपयोग मोबाइल फोन पर लाइव स्पोर्ट्स और समाचार प्रसारित करने के लिए भी किया जा सकता है।

D2M तकनीक का महत्व

  • D2M तकनीक के माध्यम से, उपभोक्ता मोबाइल डेटा को समाप्त किए बिना ओवर द टॉप (OTT) या वीडियो ऑन डिमांड (VoD) सामग्री प्लेटफॉर्म से मल्टीमीडिया सामग्री तक पहुंचने में सक्षम होंगे।
  • यह सेवा नाममात्र दर पर प्रदान की जाएगी। यह ग्रामीण क्षेत्रों के लोगों को भी वीडियो सामग्री देखने की अनुमति देगा, जहां इंटरनेट का उपयोग मौजूद नहीं है या सीमित है।
  • यह प्रौद्योगिकी मोबाइल स्पेक्ट्रम के उपयोग में सुधार करेगी और बैंडविड्थ को मुक्त करेगी, इस प्रकार कॉल ड्रॉप को कम करेगी और डेटा गति आदि को बढ़ाएगी।

मोबाइल पर एफएम रेडियो प्रसारण के लिए जिस तकनीक का प्रयोग होता है, उस तकनीक से डी2एम (D2M) तकनीक काफी मिलती-जुलती है। फोन मे लगा रिसीवर रेडियो फ्रिक्‍वेसी को पकड़ता है। इसी तरह डी2एम तकनीक से फोन पर सीधे मल्‍टीमीडिया कंटेंट भेजा जा सकेगा।

कंटेंटडी2एमडायरेक्ट-टू-मोबाइल यानी डी2एम(D2M )ब्रॉडकास्टिंग तकनीक के जरिए बिना इंटरनेट ऑनलाइन मल्टीमीडिया कंटेंट देखा जा सकेगा और लाइव अपडेट पाए जा सकेंगे। इसमें बफरिंग होने का खतरा भी नहीं रहेगा। डिपार्टमेंट ऑफ टेलीकम्यूनिकेशन और प्रसार भारती मिलकर इस पर काम कर रहे हैं।

कितनी मिलेगी राहत
डायरेक्ट-टू-मोबाइल यानी डी2एम ब्रॉडकास्टिंग तकनीक के जरिए शहरी क्षेत्र के यूजर्स को काफी राहत मिलेगी। इसके अलावा ग्रामीण क्षेत्र के उन लोगों को भी फायदा होगा, जहां इंटरनेट नहीं पहुंचा पाया है या स्पीड स्लो है। ऐसे क्षेत्रों में यह तकनीक बड़ा बदलाव ला सकती है।

सुधार होगा ब्रॉडबैंड और स्पेक्ट्रम में
हाल ही में दिल्ली में ‘डायरेक्ट टू मोबाइल एंड 5जी ब्रॉडबैंड कनवर्जेंस रोडमैप प्रोग्राम फॉर इंडिया’ आयोजित किया गया। इस प्रोग्राम में नई तकनीक के बारे में कई जानकारियां साझा की गईं। इस कार्यक्रम में सूचना प्रसारण मंत्रालय के सचिव अपूर्व चंद्रा ने कहा, डायरेक्ट टू मोबाइल और 5जी ब्रॉडबैंड मिलकर देश में ब्रॉडबैंड और स्पेक्ट्रम में सुधार लाएंगे। फिलहाल डायरेक्ट टू मोबाइल ब्रॉडकास्टिंग तकनीक पर काम चल रहा है।

कितनी अलग है यह तकनीक
अभी इंटरनेट से वीडियो देखने पर कई बार बफरिंग या विजुअल क्वालिटी प्रभावित होती है। नई तकनीक से ऐसा नहीं होगा।इस तकनीक के जरिए यूजर को कई सुविधाएं मिलेंगी। लाइव मैच से लेकर खबरों के अपडेट तक सबकुछ तेज स्पीड के साथ यूजर्स को मिलेगा। कनेक्शन स्लो होने पर कई बार बुकिंग या ऑनलाइन ट्रांजेक्शन फेल हो जाते हैं, अब ऐसा नहीं होगा। इसके अलावा यूजर्स तक हर जरूरी जानकारी भेजी जा सकेगी और फेक न्यूज को फैलने से रोका जा सकेगा। इमरजेंसी की स्थिति में इंटरनेट में पैदा होने वाली बाधाएं भी सामने नहीं आएंगी।