हिंदी साहित्य : उपसर्ग किसे कहते हैं ? परिभाषा, भेद, और उदारहण

34

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

उपसर्ग की परिभाषा

संस्कृत एवं संस्कृत से उत्पन्न भाषाओं में उस अव्यय या शब्द को उपसर्ग (prefix) कहते हैं जो कुछ शब्दों के आरंभ में लगकर उनके अर्थों का विस्तार करता अथवा उनमें कोई विशेषता उत्पन्न करता है।  उपसर्ग = उपसृज् (त्याग) + घञ्। जैसे – अनुअपवि, आदि उपसर्ग है।
or
उपसर्ग = उप (समीप) + सर्ग (सृष्टि करना) इसका अर्थ है- किसी शब्द के समीप आ कर नया शब्द बनाना। जो शब्दांश शब्दों के आदि में जुड़ कर उनके अर्थ में कुछ विशेषता लाते हैं, वे उपसर्ग कहलाते हैं।

उपसर्ग दो शब्दों- उप + सर्ग के योग से बना है। जिसमें ‘उप’ का अर्थ है- समीप, पास या निकट और ‘सर्ग’ का अर्थ है सृष्टि करना। इस तरह ‘उपसर्ग’ का अर्थ है पास में बैठाकर दूसरा नया अर्थवाला शब्द बनाना या नया अर्थ देना। जैसे- ‘यत्न’ के पहले ‘प्र’ उपसर्ग लगा दिया गया तो एक नया शब्द ‘प्रयत्न’ बन गया। इस नए शब्द का अर्थ होगा प्रयास करना।

‘हार’ शब्द का अर्थ है पराजय। परंतु इसी शब्द के आगे ‘प्र’ शब्दांश को जोड़ने से नया शब्द बनेगा – ‘प्रहार’ (प्र + हार) जिसका अर्थ है चोट करना।

इसी तरह ‘आ’ जोड़ने से आहार (भोजन), ‘सम्’ जोड़ने से संहार (विनाश) तथा ‘वि’ जोड़ने से ‘विहार’ (घूमना) इत्यादि शब्द बन जाएँगे।

उपर्युक्त उदाहरण में ‘प्र’, ‘आ’, ‘सम्’ और ‘वि’ का अलग से कोई अर्थ नहीं है, ‘हार’ शब्द के आदि में जुड़ने से उसके अर्थ में इन्होंने परिवर्तन कर दिया है। इसका मतलब हुआ कि ये सभी शब्दांश हैं और ऐसे शब्दांशों को उपसर्ग कहते हैं।

हिन्दी में प्रचलित उपसर्गों को निम्नलिखित भागों में विभाजित किया जा सकता है।

  1. संस्कृत के उपसर्ग
  2. हिन्दी के उपसर्ग
  3. उर्दू और फ़ारसी के उपसर्ग अंग्रेज़ी के उपसर्ग
  4. उपसर्ग के समान प्रयुक्त होने वाले संस्कृत के अव्यय।

संस्कृत के उपसर्ग

संस्कृत में बाइस (22) उपसर्ग हैं। प्र, परा, अप, सम्‌, अनु, अव, निस्‌, निर्‌, दुस्‌, दुर्‌, वि, आ (आङ्‌), नि, अधि, अपि, अति, सु, उत् /उद्‌, अभि, प्रति, परि तथा उप।

उदाहरण

  • अति – (आधिक्य) अतिशय, अतिरेक;
  • अधि – (मुख्य) अधिपति, अध्यक्ष
  • अधि – (वर) अध्ययन, अध्यापन
  • अनु – (मागुन) अनुक्रम, अनुताप, अनुज;
  • अनु – (प्रमाणें) अनुकरण, अनुमोदन.
  • अप – (खालीं येणें) अपकर्ष, अपमान;
  • अप – (विरुद्ध होणें) अपकार, अपजय.
  • अपि – (आवरण) अपिधान = अच्छादन
  • अभि – (अधिक) अभिनंदन, अभिलाप
  • अभि – (जवळ) अभिमुख, अभिनय
  • अभि – (पुढें) अभ्युत्थान, अभ्युदय.
  • अव – (खालीं) अवगणना, अवतरण;
  • अव – (अभाव, विरूद्धता) अवकृपा, अवगुण.
  • आ – (पासून, पर्यंत) आकंठ, आजन्म;
  • आ – (किंचीत) आरक्त;
  • आ – (उलट) आगमन, आदान;
  • आ – (पलीकडे) आक्रमण, आकलन.
  • उत् – (वर) उत्कर्ष, उत्तीर्ण, उद्भिज्ज
  • उप – (जवळ) उपाध्यक्ष, उपदिशा;
  • उप – (गौण) उपग्रह, उपवेद, उपनेत्र
  • दुर्, दुस् – (वाईट) दुराशा, दुरुक्ति, दुश्चिन्ह, दुष्कृत्य.
  • नि – (अत्यंत) निमग्न, निबंध
  • नि – (नकार) निकामी, निजोर.
  • निर् – (अभाव) निरंजन, निराषा
  • निस् (अभाव) निष्फळ, निश्चल, नि:शेष.
  • परा – (उलट) पराजय, पराभव
  • परि – (पूर्ण) परिपाक, परिपूर्ण (व्याप्त), परिमित, परिश्रम, परिवार
  • प्र – (आधिक्य) प्रकोप, प्रबल, प्रपिता
  • प्रति – (उलट) प्रतिकूल, प्रतिच्छाया,
  • प्रति – (एकेक) प्रतिदिन, प्रतिवर्ष, प्रत्येक
  • वि – (विशेष) विख्यात, विनंती, विवाद
  • वि – (अभाव) विफल, विधवा, विसंगति
  • सम् – (चांगले) संस्कृत, संस्कार, संगीत,
  • सम् – (बरोबर) संयम, संयोग, संकीर्ण.
  • सु – (चांगले) सुभाषित, सुकृत, सुग्रास;
  • सु – (सोपें) सुगम, सुकर, स्वल्प;
  • सु – (अधिक) सुबोधित, सुशिक्षित.

कुछ शब्दों के पूर्व एक से अधिक उपसर्ग भी लग सकते हैं। जैसे –

  • प्रति + अप + वाद = प्रत्यपवाद
  • सम् + आ + लोचन = समालोचन
  • वि + आ + करण = व्याकरण

हिन्दी के उपसर्ग

  1. – अभाव, निषेध – अछूता, अथाह, अटल
  2. अन– अभाव, निषेध – अनमोल, अनबन, अनपढ़
  3. कु– बुरा – कुचाल, कुचैला, कुचक्र
  4. दु– कम, बुरा – दुबला, दुलारा, दुधारू
  5. नि– कमी – निगोड़ा, निडर, निहत्था, निकम्मा
  6. – हीन, निषेध – औगुन, औघर, औसर, औसान
  7. भर– पूरा –    भरपेट, भरपूर, भरसक, भरमार
  8. सु– अच्छा – सुडौल, सुजान, सुघड़, सुफल
  9. अध– आधा – अधपका, अधकच्चा, अधमरा, अधकचरा
  10. उन– एक कम – उनतीस, उनसठ, उनहत्तर, उंतालीस
  11. पर– दूसरा, बाद का – परलोक, परोपकार, परसर्ग, परहित
  12. बिन– बिना, निषेध – बिनब्याहा, बिनबादल, बिनपाए, बिनजाने

अरबी-फ़ारसी के उपसर्ग

  1. कम– थोड़ा, हीन – कमज़ोर, कमबख़्त, कमअक्ल
  2. खुश– अच्छा – खुशनसीब, खुशखबरी, खुशहाल, खुशबू
  3. गैर– निषेध – गैरहाज़िर, गैरक़ानूनी, गैरमुल्क, गैर-ज़िम्मेदार
  4. ना– अभाव – नापसंद, नासमझ, नाराज़, नालायक
  5. – और, अनुसार – बनाम, बदौलत, बदस्तूर, बगैर
  6. बा– सहित – बाकायदा, बाइज्ज़त, बाअदब, बामौका
  7. बद– बुरा – बदमाश, बदनाम, बदक़िस्मत,बदबू
  8. बे– बिना – बेईमान, बेइज्ज़त, बेचारा, बेवकूफ़
  9. ला– रहित – लापरवाह, लाचार, लावारिस, लाजवाब
  10. सर– मुख्य – सरताज, सरदार, सरपंच, सरकार
  11. हम– समान, साथवाला – हमदर्दी, हमराह, हमउम्र, हमदम
  12. हर– प्रत्येक – हरदिन, हरसाल, हरएक, हरबार

उर्दू उपसर्ग और उससे बनने वाले शब्द

हिंदी में कई सारे उर्दू के उपसर्गों का प्रयोग होता है जो अरबी/ फारसी से आयें हैं। नीचे उर्दू के उपसर्ग और उसके अर्थ के साथ इन उपसर्गों से बनने वाले प्रमुख शब्द भी दिए जा रहें हैं-

1. अल् (निश्चित)-

अलबिदा, अलमस्त, अलबत्ता, अलबेला, अलगरज आदि।

2. ऐन (ठीक, पूरा)-

ऐनवक्त, ऐनआदमी, ऐनहिकमत आदि।

3. कम (थोड़ा, हीन)-

कमजोर, कमसिन, कमउम्र, कामखयाल, कमज़ोर, कमसमझ, कमदिमाग, कम-अकल आदि।

4. खुश (श्रेष्ठता के अर्थ में)-

खुशनुमा, खुशगवार, खुशमिज़ाज, खुशकिस्मत, खुशखबरी, खुशबू, खुशदिल, खुशहाल आदि।

5. ग़ैर (भिन्न, निषेध, विरुद्ध)-

गैर-मुल्क, गैरकानूनी, गैर-जरूरी, गैरहाज़िर, गैरवाजिब, गैर-सरकारी, आदि।

6. दर (में)-

दरबार, दरअसल, दरकार, दरकिनार, दरवेश, दरमियान, दरहकीकत, दरख्वास्त आदि।

7. ना (अभाव, बिना)-

नापाक, नाउम्मीद, नामुराद, नासमझ, नाकाम, नाराज, नालायक, नाखुश, नामुमकिन, नाचीज, नादान, नापसंद, नाबालिक, नाइंसाफी आदि।

8. नेक (अच्छा)-

नेकदिल, नेकी, नेकचलन, नेकलेस आदि।

9. फिल्/फी (में, प्रति)-

फिलहाल, फी फैशन, फीआदमी, फी मैदान आदि।

10. ब (और, अनुसार)-

बकौल, बनाम, बमुश्किल, बदौलत, बदस्तूर, बगैर, बखूबी, बजाय, बतौर आदि।

11. बद (बुरा, खराब)-

बदौलत, बदजात, बदजबान, बदचलन, बदसूरत, बदनाम, बदतमीज, बददिमाग, बदहवास, बदबू, बदहजमी, बदमाश, बदनसीब, बदकिस्मत, बदमिजाज आदि।

12. बर (ऊपर, पर, बाहर)-

बरखा, बरबाद, बरखास्त, बरदाश्त, बरवक्त आदि।

13. बा (सहित, अनुसार)-

बामुलाहिजा, बाकायदा, बाइज्जत, बाअदब, बामौक़ा आदि।

14.बिल (साथ, से, में)-

बिलकुल, बिलइरादा, बिल्मुक्ता, बिल्फर्ज आदि।

15. बिला (बिना)-

बिलावजह, बिलाशर्त, बिलाकानून, बिलाशक आदि।

16. बे (बिना)-

बेगुनाह, बेशक, बेहद, बेजान, बेदर्द, बेवक्त, बेशकीमती, बेकाम, बेसमझ, बेवकूफ, बेअक्ल, बेअसर, बेचारा, बेतरतीब, बेइज्जत, बेईमान, बेमानी, बेइंसाफी, बेबुनियाद, बेघर, बेरहम, बेहिसाब, बेवजह, बेधड़क, बेचैन, बेडौल, बेखौफ, बेवफा, बेसहारा, बेलाग आदि।

17. ला (बिना)

लाजिम, लाचार, ला-पता, लाइलाज, लाजवाब, लापरवाह, लापता आदि।

18. सर (मुख्य, श्रेष्ठ)-

सरहद, सरताज, सरदार, सरपंच, सरकार आदि।

19. हम (बराबर, समान)-

हमवतन, हमउम्र, हमदम, हमराह, हमसफर, हमदर्द, हमदर्दी, हमजोली, हमशक्ल, हमपेशा आदि।

20. हर (प्रत्येक)

हरवक्त, हरदिन, हरदम, हरतरफ, हररोज, हरसाल, हरघड़ी, हरकोई, हरआदमी, हरएक, हरबार आदि।

अंग्रेजी के उपसर्ग

हिंदी, संस्कृत और उर्दू के अलावा अंग्रेजी के उपसर्ग भी हिंदी में प्रयुक्त होते हैं। कुछ महत्वपूर्ण अंग्रेजी उपसर्ग और उनसे बनने वाले शब्द निम्नलिखित हैं-

1. सब (अधीन, नीचे)-

सब-जज, सब-कमेटी, सब-इंस्पेक्टर आदि।

2. डिप्टी (सहायक)-

डिप्टी-कलेक्टर, डिप्टी-रजिस्ट्रार, डिप्टी-मिनिस्टर आदि।

3. वाइस (सहायक)-

वाइसराय, वाइस-चांसलर, वाइस-पप्रेसीडेंट आदि।

4. जनरल (प्रधान)-

जनरल मैनेजर, जनरल सेक्रेटरी आदि।

5. चीफ (प्रमुख)-

चीफ-मिनिस्टर, चीफ-इंजीनियर, चीफ-सेक्रेटरी आदि।

6. हेड (मुख्य)-

हेडमास्टर, हेडक्लर्क आदि।

संस्कृत के अन्य उपसर्ग, उनके अर्थ तथा उदाहरण

संस्कृत भाषा में कुछ शब्दांश ऐसे होते हैं, जो मूल रूप से उपसर्ग नहीं होते हैं लेकिन उपसर्गों की तरह व्यवहार करते हैं इन्हीं शब्दांशों को संस्कृत के अन्य उपसर्ग कहते हैं

क्र.उपसर्गउपसर्ग का अर्थउपसर्ग के उदाहरण
1.अ- (तत्सम)नहीं, अभावअज्ञान, अभाव, अमंद, अधर्म, अजात, अकाल, अकारण, अथाह, अबाध, अटल, अव्यय
2.अध:-नीचेअध:पतन, अधोगति, अधोमुख, अधोवस्त्र, अधोभाग
3.अन्त:-भीतर, मध्यअन्तःपुर, अन्तर्यामी, अन्तःकरण, अंतर्गत, अंतर्मन, अंतरात्मा
4.अमा-पासअमात्य, अमावस्या
5.तिरस्तुच्छतिरस्कार, तिरोधान, तिरोहित
6.सत्सत्कारसत्संग, सदाचरण, सदुपदेश, सन्मार्ग, सन्मति, सज्जन
7.स्वअपनास्वदेश, स्वतंत्र, स्वार्थ, स्वार्थी, स्वाभिमान
8.परदूसरापरदेश, परतंत्र, परार्थ, परहित, परोपकार
9.सहसाथसहचर, सहयोग, सहगान, सहयात्री, सहचर, सहोदर
10.प्राक्-पहले काप्राक्तन, प्राक्कथन, प्राक्कलन
11.पुनर्(पुनः)फिरपुनर्जन्म, पुनरावृति, पुनरागमन, पुनर्निर्माण, पुनर्वास, पुनर्भाव
12.पुरस्(पुर:)सामने, आगेपुरस्कार, पुरोहित, पुरस्सर, पुरोगामी
13.नमस्नमःनमस्कार, नमस्कर्ता, नमस्कृत
14.प्रातरपहलेप्रातःकाल, प्रातःवंदनीय
हिंदी साहित्य

विदेशी भाषाओं के उपसर्ग, उनके अर्थ तथा उदाहरण

क्र.उपसर्गउपसर्ग का अर्थउपसर्ग के उदाहरण
1.कम-न्यून, हीनबोधककमज़ोर, कमबख़्त, कमसिन,कमउम्र.
2.ख़ुश-अच्छाख़ुशक़िस्मत, ख़ुशबू, ख़ुशहाल, ख़ुशनुमा, ख़ुशदिल, खुशख़बरी.
3.गैर-रहित, भिन्नग़ैर-ज़रूरी, ग़ैर-हाज़िर, ग़ैर-सरकारी, ग़ैर-मुमकिन, ग़ैर-जवाबी.
4.फ़ी-प्रत्येकफ़ी आदमी, फ़ी मैदान.
5.बद-बुराबदनाम, बदचलन, बदतमीज़, बदबू, बदकार, बदज़ात, बदनसीब, बदहवास, बदसूरत, बदमाश, बदहज़मी.
6.बा-अनुसार, साथ मेंबाक़ायदा, बाइज़्ज़त, बादब, बमुलाइज़ा.
7.बिला-बिनाबिलवाज़ह, बिलाशर्त, बिलाशक.
8.बे-अभाव, रहितबेचारा, बेईमान, बेहद, बेहिसाब, बेसमझ, बेजान, बेचैन, बेदर्द, बेइज़्ज़त, बेमानी, बेसिर, बेवक़्त, बेधड़क, बेरहम, बेवकूफ़.
9.ला-बिनालाइलाज, लाचार, लापता, लाजवाब, लावारिस, लापरवाह, लाज़िम.
10.दर-मेंदरहक़ीक़त, दरअसल, दरकार.
11.ना-बिनानालायक़, नापसन्द, नाकाम, नाचीज़, नामुमकीन, नादान, नाबालिग़.
12.सर-अच्छासरकार, सरनाम, सरपंच, सरदार, सरताज, सरहद.
13.हर-प्रत्येकहरवक़्त, हररोज़, हरएक, हरदम, हरतरफ़, हरबार, हरकोई.
14.ब-सहितबखूबी, बतौर, बशर्त.
15.बेश-अत्यधिकबेश कीमती, बेश कीमत.
16.नेक-भलानेकराह, नेकनाम, नेकदिल, नेकइंसान, नेकनीयत.
17.ऐन-ठीकऐनवक़्त, ऐनजगह.
18.हम-साथहमराज़, हमदम, हमउम्र, हमराही, हमसफ़र.
19.अल-निश्चितअलगरज, अलविदा.
20.हैड-प्रमुखहैडमास्टर, हैड ऑफिस.
21.हाफ-आधाहाफकमीज, हाफ़पैंट.
22.सब-उपसब रजिस्ट्रार, सब कमेटी, सब डिवीज़न, सब इंस्पेक्टर.
23.को-सहितको-ऑपरेटिव, को-ओपरेशन.
24.वाइसउपवाइस प्रेसिडेंट, वाइस चांसलर, वाइस प्रिंसिपल.
25.टेलीदूरटेलीफोन, टेलीविज़न, टेलिस्कोप.
हिंदी साहित्य

दो उपसर्गो से निर्मित शब्द

कभी-कभी दो या तीन उपसर्ग एकसाथ ही एक शब्द के पहले ही लगा दिए जाते हैं, जैसे-

  1. निर् + आ + करण = निराकरण
  2. सु + सम् + कृत = सुसंस्कृत
  3. अन् + आ + हार = अनाहार
  4. अ + सु + रक्षित = असुरक्षित
  5. सु + सम् + गठित = सुसंगठित
  6. अति + आ + चार = अत्याचार
  7. वि + आ + करण= व्याकरण
  8. प्रति + उप + कार = प्रत्युपकार
  9. अन् + आ + हार = अनाहार
  10. अन् + आ + सक्ति = अनासक्ति
  11. सम् + आ + लोचना= समालोचना
  12. अ + नि + यंत्रित = अनियंत्रित
  13. अ + प्रति + अक्ष = अप्रत्यक्ष

उपसर्ग के विशेष तथ्य

  • उपसर्ग कभी भी अविकारी शब्दों के साथ नहीं जुड़ते। उपसर्ग वाले शब्द सदैव विकारी शब्द होते है।
  • संस्कृत भाषा के उपसर्ग सदैव तत्सम शब्दों के साथ, हिंदी भाषा के उपसर्ग सदैव हिंदी भाषा के शब्दों के साथ तथा विदेशी भाषा के उपसर्ग सदैव विदेशी भाषा के शब्दों के साथ ही प्रयुक्त होते हैं।
  • किसी शब्द की तरह उपसर्ग का प्रयोग स्वतंत्र नहीं किया जा सकता।
  • उपसर्ग अव्यय स्वरूप होते हैं और बनने वाले नए शब्द भी अव्यय स्वरूप ही होते हैं।
  • उपसर्ग के योग से संधि पद एवं सामासिक पद बनाए जा सकते हैं।

उपसर्ग के अन्य अर्थ:

  • बुरा लक्षण या अपशगुन
  • वह पदार्थ जो कोई पदार्थ बनाते समय बीच में संयोगवश बन जाता या निकल आता है (बाई प्राडक्ट)। जैसे-गुड़ बनाते समय जो शीरा निकलता है, वह गुड़ का उपसर्ग है।
  • किसी प्रकार का उत्पात, उपद्रव या विघ्न
  • योगियों की योगसाधना के बीच होनेवाले विघ्न को उपसर्ग कहते हैं।

मुनियों पर होनेवाले उक्त उपसर्गों के विस्तृत विवरण मिलते हैं। जैन साहित्य में विशेष रूप से इनका उल्लेख रहता है क्योंकि जैन धर्म के अनुसार साधना करते समय उपसर्गो का होना अनिवार्य है और केवल वे ही व्यक्ति अपनी साधना में सफल हो सकते हैं जो उक्त सभी उपसर्गों को अविचलित रहकर झेल लें। हिंदू धर्मकथाओं में भी साधना करनेवाले व्यक्तियों को अनेक विघ्नबाधाओं का सामना करना पड़ता है किंतु वहाँ उन्हें उपसर्ग की संज्ञा यदाकदा ही गई है।

Get real time updates directly on you device, subscribe now.